ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगेभारत की राष्ट्रपति, मॉरीशस में; राष्ट्रपति रूपुन और प्रधानमंत्री जुगनाथ से मुलाकात कीकोयला सेक्टर में 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को 9 गीगावॉट से अधिक तक बढ़ाने का लक्ष्य तय कियाझारखंड को आज तीसरी वंदे भारत ट्रेन की मिली सौगात
बिहार
मोतिहारी के डुमरियाघाट से कथित अपहृत युवक ज्ञानचंद नाटकीय ढंग से सरोतर पुलिस को मिला
By Deshwani | Publish Date: 30/12/2023 12:08:40 AM
मोतिहारी के डुमरियाघाट से कथित अपहृत युवक ज्ञानचंद नाटकीय ढंग से सरोतर पुलिस को मिला

मोतिहारी डुमरियाघाट थाना क्षेत्र की डुमरिया पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर चार से बीते 19 दिसंबर की रात घर से गायब हुए युवक के अपहरण की घटना के 11 वें दिन पुलिस मिला है। पुलिस का कहना है कि उक्त युवक का अपहरण नहीं हुआ था। उसने अपने पट्टीदारों को फँसाने के लिए साज़िश की थी।

 
 
 
 
कथित अपहृत युवक को डुमरियाघाट थाना क्षेत्र के सरोतर से एक यात्री बस से नाटकीय ढंग से बरामद करते हुए मामले का उद्भेदन कर लिया है। 
 
बरामद युवक ज्ञानचंद सहनी है जो डुमरिया पंचायत के वार्ड नंबर चार के रहनेवाले राम प्रसाद सहनी का पुत्र है। युवक की बरामदगी चकिया डीएसपी सत्येंद्र प्रसाद सिंह के नेतृत्व में डुमरियाघाट थानाध्यक्ष राजेश कुमार के टीम ने बड़े ही नाटकीय ढंग से कर लिया। 
 
 
 
 
 
मामले को लेकर चकिया डीएसपी ने डुमरियाघाट थाना में शुक्रवार देर संध्या पीसी कर जानकारी देते हुए बताया कि अपहृत युवक ज्ञानचंद अपने पड़ोसियों से पूर्व में हुए विवाद को लेकर उन्हें फंसाने के उद्देश्य से स्वयं ही रात्रि में अपने घर से भागकर चेन्नई (मद्रास) अपने मौसी के भतीजा जितेन्द्र सहनी के पास चला गया था और वही रह रहा था। 
 
 
 
 
 
ज्ञानचंद ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया है कि पड़ोसी भागेश्वर सहनी के परिवार से उसके परिवार में झगड़ा चल रहा था। भागेश्वर सहनी के परिजनों ने उसे उठा लेने की धमकी भी दी थी। उन्हीं लोगों को फंसाने के उद्देश्य से बिना किसी को बताए उसेन प्लानिंग की और देर रात चुपके से वह घर से भागकर सड़क पर पहुंचा वहां से बस द्वारा मोतिहारी गया। फिर मोतिहारी से ट्रेन द्वारा पटना दानापुर पहुंचा। फिर वहां से ट्रेन से ही वह चेन्नई चला गया। इधर चुपके से वह फिर चेन्नई से अपने घर लौटने के लिए गोरखपुर पहुंचा। फिर वहां से मोतिहारी आया। मोतिहारी से बस द्वारा घर लौट रहा था। इसी क्रम में पुलिस ने गुप्त सूचना पर उसे सरोतर पहल (चंवर) के समीप बस में पकड़ कर थाना लाया। पुलिस ने उसके पास से सभी ट्रेनों से जाने और आने का टिकट भी बरामद किया है। 
 
 
 
 
 
इधर उस मामले में परिजनों ने उसके गायब होने को लेकर स्थानीय थाना में एफआईआर दर्ज करायी थी। वहीं पुलिस द्वारा तत्काल कोई कारवाई नहीं किए जाने को लेकर अपहृत के परिजनों और ग्रामीणों ने विगत 21 दिसंबर को डुमरिया बाजार के समीप एसएच–74 सड़क जाम कर पुलिस के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन किया था। 
 
 
 
 
 
मामले को बढ़ता देख पुलिस इस मामले में आरोपियों में नामजद दीपक सहनी और अमलेश सहनी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मामले में अपहृत के माता चंदा देवी ने स्थानीय थाना में आवेदन देकर बताया था कि रात में मेरा बेटा खाना खाकर घर में सोया था। सुबह में देखा तो वह गायब था वही उसका चप्पल घटनास्थल पर बिखरा हुआ था। माता का कहना था की पूर्व में पड़ोसी भागेश्वर सहनी के घर से उनका विवाद हुआ था। जिसमें डुमरियाघाट थाना में कांड संख्या 285/23 दर्ज है। भागेश्वर सहनी समेत उनके परिजनों ने हमलोगों को धमकी दिया था की तुम्हारे बेटे को उठवा लेंगे इधर यह घटना हो गया।
 
 
 
 
 
मामले में अपहृत की माता ने आठ लोगो पर दर्ज कराया था एफआईआर :
आरोपितों में दीपक सहनी, भागेश्वर सहनी, कमलेश सहनी, अमलेश सहनी, जयलेश सहनी, नरेश सहनी, मेघनाथ सहनी, रवि सहनी शामिल है। अपहृत की माता ने इन लोगों के द्वारा अपने पुत्र को गायब करने की बात कहकर पुलिस से अपने पुत्र की सकुशल रिहाई की गुहार लगाई थी। इधर इस कारवाई में स्थानीय थानाध्यक्ष राजेश कुमार और पुलिस बल की टीम शामिल थी। डीएसपी ने बताया की मामले में बरामद युवक के बयान पर अपहरण का मामला दर्ज कराने वालों पर पुलिस को गुमराह करने को लेकर कारवाई की जाएगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS