ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगेभारत की राष्ट्रपति, मॉरीशस में; राष्ट्रपति रूपुन और प्रधानमंत्री जुगनाथ से मुलाकात कीकोयला सेक्टर में 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को 9 गीगावॉट से अधिक तक बढ़ाने का लक्ष्य तय कियाझारखंड को आज तीसरी वंदे भारत ट्रेन की मिली सौगात
बिहार
रक्सौल: मदरसा में पढ़ाने के नाम पर बाल श्रम के लिए भेजे जा रहे 18 नाबालिग रेस्क्यू, आरोपी हिरासत में
By Deshwani | Publish Date: 11/8/2023 11:07:33 PM
रक्सौल: मदरसा में पढ़ाने के नाम पर बाल श्रम के लिए भेजे जा रहे 18 नाबालिग रेस्क्यू, आरोपी हिरासत में

रक्सौल अनिल कुमार। बीते दिनों मदरसे में पढ़ाने के नाम पर बाल श्रम कराने हेतु ले जाए जा रहे 6 बच्चों को मानव तस्करी रोधी इकाई, क्षेत्रक मुख्यालय एसएसबी बेतिया द्वारा लखनऊ में सूचनार्थ रेस्क्यू करवाया गया तथा 01 एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया।।उपरोक्त बच्चों को बस द्वारा लखनऊ ले जाने के दौरान रेस्क्यू किया गया।

 

 

 

 

ये सफल रेस्क्यू ऑपरेशन प्रियांक कानूनगो, अध्यक्ष राष्ट्रीय बाल सरंक्षण आयोग नयी दिल्ली के दिशा निर्देशों के अंतर्गत डा.शुचिता चतुर्वेदी, सदस्य उत्तर प्रदेश राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग, लखनऊ व संगीता शर्मा, चाइल्ड लाइन लखनऊ द्वारा अभियान चला कर रेस्क्यू किया गया।
 
 
 
 
 
मिली जानकारी के मुताबिक जब पकड़े गए व्यक्ति से पूछताछ हुई, तब उसने मदरसे का पता बताया तब इसके पश्चात जब थाना पारा क्षेत्र, लखनऊ के सदरौना में बने अवैध मदरसे में छापा मारा गया तब वहाँ पर 12 नाबालिग बच्चों को और रेस्क्यू किया गया तथा दो व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया। दोनों रेस्क्यू ऑपरेशन में कुल 18 बच्चों को बचाया गया और कुल 03 लोगों को हिरासत में लिया गया। 
 
 
 
 
 
 
वही मदरसे की हालत देख कर सभी अधिकारी दंग रहे रह गए, वहां बच्चों को मानव जीवन की मूलभूत सुविधाओं के बिना रखा गया था, वहां ना पंखे ना बिजली ना बच्चों के खान-पान की सुविधा, ना खेलने कूदने की सुविधा इत्यादि थी। गरीब लोगों के बच्चों को उर्दू की पढ़ाई के नाम पर ला कर उनसे कपड़े और बैग बनाने के कार्यों में लगाने के सबूत मिले। अभी सभी बच्चों की काउंसिलिंग चल रही है, जिससे अन्य और जानकारी मिल सके कि इन बच्चों का उपयोग किन-किन कार्यों में किया जा रहा होगा। 
 
 
 
 
 
 
अधिकारियों ने बताया कि मदरसे में उर्दू पढ़ाने के नाम पर गरीबों के नाबालिग बच्चों के साथ जैसा खिलवाड़ हो रहा था वो सभी उन्होंने अनुभव किया। ये बच्चे पहले मोतिहारी में रोके गए थे, किंतु बाल कल्याण समिति मोतिहारी के संज्ञान में दिए बिना वहीँ से इनको ले जाने वाले व्यक्ति के हाथों में सौंप लखनऊ की बस में रवाना कर दिया गया। प्रातः में मानव तस्करी रोधी इकाई क्षेत्रक मुख्यालय एसएसबी बेतिया को जैसे ही ये  सूचना प्राप्त हुई कि 06 बच्चों को मदरसे में पढाई के नाम काम करवाने के लिए ले जाया जा रहा है, तब इस आसूचना के साथ मिशन मुक्ति फाउंडेशन नयी दिल्ली, राज्य बाल अधिकार सरंक्षण अधिकार आयोग, लखनऊ, चाइल्ड लाइन लखनऊ, पारा पुलिस थाना लखनऊ, अल्पसंख्यक विभाग लखनऊ ने सयुंक्त ऑपरेशन “आहट” को लांच कर दिया। 
 
 
 
 
 
 
इस ऑपरेशन में मुख्य भूमिका में उक्त अधिकारियों के साथ
इंस्पेक्टर मनोज कुमार शर्मा मानव तस्करी रोधी इकाई, क्षेत्रक मुख्यालय एसएसबी, बेतिया, विरेन्द्र कुमार सिंह मिशन मुक्ति फाउंडेशन, नयी दिल्ली, संगीता शर्मा चाइल्ड लाइन, लखनऊ, गयासुद्दीन खान, अल्पसंख्यक विभाग लखनऊ एवं श्याम त्रिपाठी, बाल आयोग लखनऊ आदि शामिल थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS