ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगेभारत की राष्ट्रपति, मॉरीशस में; राष्ट्रपति रूपुन और प्रधानमंत्री जुगनाथ से मुलाकात कीकोयला सेक्टर में 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को 9 गीगावॉट से अधिक तक बढ़ाने का लक्ष्य तय कियाझारखंड को आज तीसरी वंदे भारत ट्रेन की मिली सौगात
बिहार
IIT के बच्चों को कविता लिखना सिखायेंगे मोतीहारी के अनुपम
By Deshwani | Publish Date: 21/6/2023 11:02:28 PM
IIT के बच्चों को कविता लिखना सिखायेंगे मोतीहारी के अनुपम

कविता-लेखन की कार्यशाला के लिए आईआईटी कानपुर ने बुलाया। 

 
पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाये जाने वाले देश के सबसे कम उम्र के कवि हैं अनुपम। 
 
 
 
 
मोतिहारी अपनी उपलब्धियों से अक्सर सुर्ख़ियों में बने रहने वाले मोतीहारी के युवा कवि  अनुपम प्रियदर्शी एक बार पुनः शहर में चर्चा का विषय बने हुए हैं। अनुपम को आईआईटी कानपुर ने कविता लेखन की कार्यशाला के लिए आमंत्रित किया है। कविता लेखन की यह कार्यशाला आईआईटी कानपुर के परिसर में कॉलेज के प्रमुख क्लब “हिंदी साहित्य सभा” द्वारा आयोजित की जा रही है। इस कार्यक्रम में अनुपम दो घंटे तक आईआईटी के बच्चों से संवाद करेंगे। इस दौरान अनुपम उन्हें कविता लिखने की कला सिखायेंगे। कार्यशाला में प्रश्नोत्तरी का सत्र भी होगा जिस दौरान अनुपम विद्यार्थियों की कविता लेखन से जुड़ी जिज्ञासाओं का उत्तर देंगे। 
 
 
 
 
इस कार्यक्रम की सूचना अनुपम ने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट के ज़रिए दी है। विदित हो कि कुछ महीने पहले ही अनुपम की तीन रचनाएँ स्कूली पाठ्यपुस्तक में शामिल हुई थी जिसके बाद वे पाठ्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले देश के सबसे कम उम्र के युवा-कवि बन गए हैं। 
 
 
 
 
 
 
दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग से “आधुनिक हिंदी कविता की वाचिक परंपरा के पुनर्जीवन में डॉ कुमार विश्वास का योगदान” विषय पर पीएचडी कर रहे अनुपम शहर के वरिष्ठ अधिवक्ता रमाकान्त पांडेय के पुत्र हैं तथा उन्होंने अपनी बारहवीं तक की पढ़ाई मोतीहारी के ही सीएसडीएवी स्कूल से पूरी की है। दिल्ली विश्विद्यालय के हंसराज कॉलेज से स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे JRF और NET उत्तीर्ण करके शोध तथा रचनात्मक लेखन के क्षेत्र में सक्रिय हैं। अपनी PHD के साथ-साथ अनुपम फ़िल्म-जगत के लिए भी लेखन का कार्य कर रहे हैं तथा हाल ही में ज़ी टीवी पर प्रसारित देश के पहले आध्यात्मिक रियलिटी शो स्वर्ण स्वर भारत के सह-लेखक भी रह चुके हैं। अनुपम ने डॉ. कुमार विश्वास के निर्देशन में कक्षा एक से आठ तक की आठ पाठ्यपुस्तकों का संपादन भी किया है जो देश के हज़ारों स्कूलों में पढ़ाई जा रही हैं। अनुपम की इस उपलब्धि पर शहर के सभी प्रबुद्ध नागरिकों ने उन्हें बधाई व मंगलकामनाएँ देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS