ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
राष्ट्रीय
सूर्य के अध्ययन के लिए "इसरो" की उपग्रह आदित्य के प्रक्षेपण की योजना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
By Deshwani | Publish Date: 30/12/2019 12:01:35 PM
सूर्य के अध्ययन के लिए "इसरो" की उपग्रह आदित्य के प्रक्षेपण की योजना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन- इसरो सूर्य का अध्ययन करने के लिए आदित्य नामक उपग्रह के प्रक्षेपण की योजना बना रहा है। आकाशवाणी के कार्यक्रम मन की बात में श्री मोदी ने कहा कि भारत खगोल विज्ञान क्षेत्र में काफी आगे बढ़ गया है और इसरो ने इस क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण पहल शुरू की हैं। प्रधानमंत्री ने कहा की भारत के पास कई शक्तिशाली दूरबीन हैं जिनमें पुणे के पास एक विशाल मीटर वेव दूरबीन और कोडईकनाल, उडगमंगला, गुरूशिखर और हनाले लद्दाख में स्थित शक्तिशाली दूरबीन शामिल हैं। 

 
 
श्री मोदी ने कहा कि नागरिकों को खगोल शास्त्र में भारत के प्राचीन ज्ञान और इस क्षेत्र में आधुनिक उपलब्धियों को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के युवा वैज्ञानिक न केवल वैज्ञानिक इतिहास जानने की इच्छा व्यक्त कर रहे हैं बल्कि खगोल शास्त्र का भविष्य की रूपरेखा  तय करने में कृतसंकल्प हैं। प्रधानमंत्री ने श्रोताओं से अनुरोध किया कि वे ग्रामीण शिविरों और पिकनिक की तर्ज पर तारों की गतिविधियां समझने में रूचि पैदा करें। श्री मोदी ने स्कूलों और कॉलेज स्तर पर खगोल शास्त्र क्लब बनाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS