ब्रेकिंग न्यूज़
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने शिवराज के काम में रुकावट डाली: पीएम मोदीअमृतसर निरंकारी भवन हमला : शक के आधार पर दो स्थानीय लड़कों को पुलिस ने किया गिरफ्तार2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी सुषमा स्वराज, खराब सेहत का दिया हवालाजमशेदपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, चोरों के एक गिरोह को किया गिरफ्तारबिहार कैबिनेट की बैठक: 4 प्रस्तावों पर लगी मुहर, MLA और MLC का बढ़ेगा वेतननो पार्किंग से कार उठाने पर भड़की लड़की, पुलिसकर्मी को चप्पल से पीटादिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्ची पाउडर से हमला2019 से पहले जड़ें मजबूत करने में जुटी प्रसपा, 9 दिसंबर को महारैली कर करेगी प्रदर्शन
राष्ट्रीय
SC के आदेश की धज्जियां उड़ी; जमकर हुई पटाखेबाजी, फिर खतरनाक हुई दिल्ली की हवा
By Deshwani | Publish Date: 8/11/2018 11:05:11 AM
SC के आदेश की धज्जियां उड़ी; जमकर हुई पटाखेबाजी, फिर खतरनाक हुई दिल्ली की हवा

नई दिल्ली। दिल्लीवासियों के सुबह आज फिर घनी धुंध के बीच हुई। अक्षरधाम मंदिर और साउथ ब्लॉक में सुबह ही स्मॉग का असर दिखा। बता दें कि दिल्ली की हवा की क्वालिटी बुधवार की रात ‘बेहद खराब’ रही। राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाके में लोगों ने रात 8 से 10 बजे के बीच पटाखा फोड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय की गई समय-सीमा के आदेश की जमकर धज्जियां उड़ीं। लोगों ने बुधवार को जमकर पटाखे फोड़े। दिल्ली में बुधवार रात 10 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 296 दर्ज किया गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार शाम सात बजे एक्यूआई 281 था।

 
रात 8 बजे यह बढ़कर 291 और रात 9 बजे यह 294 हो गया। हालांकि, केंद्र द्वारा संचालित सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने समग्र एक्यूआई 319 दर्ज किया जो ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में आता है। सुप्रीम कोर्ट ने दिवाली और अन्य त्योहारों के मौके पर रात 8 से 10 बजे के बीच ही फटाखे फोड़ने की अनुमति दी थी। कोर्ट ने सिर्फ ‘हरित पटाखों’ के निर्माण और बिक्री की अनुमति दी थी। हरित पटाखों से कम प्रकाश और ध्वनि निकलती है और इसमें कम हानिकारक रसायन होते हैं।
 
कोर्ट ने पुलिस से इस बात को सुनिश्चित करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो और किसी भी उल्लंघन की स्थिति में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह अदालत की अवमानना होगी लेकिन कोर्ट के आदेश के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों से उल्लंघन किए जाने की खबरें मिली हैं। सफर ने गुरुवार को हवा की गुणवत्ता ‘खराब’ श्रेणी में रहने का अनुमान जताया जबकि इस साल 2017 के मुकाबले कम हानिकारक पटाखे छोड़े गए। उसने यह भी कहा कि प्रदूषण का स्तर बुधवार और गुरुवार को सुबह 11 बजे और रात तीन बजे के बीच चरम पर रहेगा।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS