ब्रेकिंग न्यूज़
तेजस्वी ने सरकारी बंगला खाली करने के पटना हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौतीबैग में मिली मॉडल की लाश, पुलिस ने 4 घंटे के अंदर पकड़ा आरोपी दोस्तगोवा में कांग्रेस को बड़ा झटका, 2 विधायकों ने इस्‍तीफा देकर थामा भाजपा का दामनभोजपुरी स्‍टार रानी चटर्जी की फिल्‍म ‘रानी वेड्स राजा’ का First Look मचा रहा है धूमप्रशांत किशोर का जदयू में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्षयमन के राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री को किया बर्खास्त, लापरवाही बरतने का आरोपबक्सर में वार्ड सदस्य की बेरहमी से हत्या, दो दिन से था लापतागाजियाबाद: बंद रेलवे क्रॉसिंग पार करते हुआ दर्दनाक हादसा, एक की मौत तीन घायल
झारखंड
मिड-डे मील मामला: सुप्रीम कोर्ट ने लगाया झारखंड पर 50 हजार रुपये का जुर्माना
By Deshwani | Publish Date: 2/8/2018 11:20:41 AM
मिड-डे मील मामला: सुप्रीम कोर्ट ने लगाया झारखंड पर 50 हजार रुपये का जुर्माना

रांची। सरकारी स्कूलों में मध्याह्न भोजन योजना के कार्यान्वयन और स्वच्छता की निगरानी के लिए एक चार्ट के साथ ऑनलाइन लिंक देने में विफलता के लिए झारखंड, तमिलनाडु और उत्तराखंड पर सुप्रीम कोर्ट ने 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया। जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की पीठ ने इस बात पर नाखुशी जताई कि चूक करने वाले इन तीन राज्यों ने अब तक इस संबंध में शीर्ष अदालत के निर्देशों का पालन नहीं किया है।

पीठ ने कहा, ‘इन तीन राज्यों की चूक के मद्देनजर इन राज्यों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाता है। इस राशि को किशोर न्याय से जुड़े मुद्दों में इस्तेमाल के लिए चार सप्ताह के भीतर सुप्रीम कोर्ट विधिक सेवा प्राधिकरण में जमा किया जाए। याचिकाकर्ता की ओर से उपस्थित वकील ने पीठ से कहा कि कुछ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने वेबसाइट पर अलग लिंक नहीं दिया है, जबकि ऐसा न्यायालय के निर्देश की शर्तों के अनुसार करना था और उन्होंने कोई चार्ट नहीं भरा है।

 पीठ ने कहा, ‘अन्य चूक करने वाले राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में अरुणाचल प्रदेश, दादरा एवं नागर हवेली और पुडुचेरी शामिल हैं। फिलहाल हम इन राज्यों पर जुर्माना नहीं लगा रहे हैं। हम उम्मीद करते हैं कि ये राज्य समय-समय पर इस अदालत द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करेंगे।

पीठ ने इसके बाद मामले की सुनवाई की अगली तारीख 20 सितंबर को निर्धारित कर दी। न्यायालय मध्याह्न भोजन के संबंध में एनजीओ ‘अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार निगरानी परिषद’ की याचिका पर सुनवाई कर रहा था। शीर्ष अदालत ने पिछले साल 23 मार्च को राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों से मध्याह्न भोजन योजना का लाभ पा रहे कुल छात्रों की संख्या समेत अन्य सूचनाएं तीन महीने के भीतर अपनी वेबसाइटों पर डालने को कहा था।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS