ब्रेकिंग न्यूज़
बेतिया-चनपटिया सड़क मार्ग पर बस दुर्घटनाग्रस्त, दर्जनों यात्री घायलश्रीमद्भागवत कथा ज्ञान महायज्ञ के पहले दिन निकली गई भव्य कलश शोभा यात्रा, सैकड़ों महिला पुरुष हुए शामिलयूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड के चैयरमैन को सुरक्षा मुहैया कराने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया निर्देशभारतीय मूल के अभिजीत और उनकी पत्नी एस्थर डफ्लो को मिला वर्ष 2019 के लिए अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कारछौड़ादानों से रक्सौल तक जर्जर नहर रोड का आखिरकार खुला टेंडर, जांच प्रक्रिया के बाद शुरू होगा कामडायरिया से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, सीएस ने किया मेडिकल टीम का गठननागा रोड में हुआ डिजिटल सेवा केन्द्र का उदघाट्न, लोगों को मिलेगी काफी सहूलियत47वीं वाहिनी के द्वारा रक्सौल में 22 दिवसीय मोटर ड्राइविंग कोर्स का उद्घाटन, पीएम मोदी के स्वरोजगार बनाने के सपनों को करेगा साकार
झारखंड
पांच लाख की इनामी महिला नक्सली पीसी दी समेत 6 नक्सलियों ने किया सरेंडर
By Deshwani | Publish Date: 17/6/2019 1:00:25 PM
पांच लाख की इनामी महिला नक्सली पीसी दी समेत 6 नक्सलियों ने किया सरेंडर

दुमका। पांच लाख रुपये की इनामी महिला नक्सली पीसी दी उर्फ प्रिसिला उर्फ सावड़ी देवी और किरण उर्फ पक्कू समेत छह हार्डकोर नक्सलियों ने आज दुमका में पुलिस के वरीय अधिकारी के सामने सरेंडर कर दिया। सरेंडर करने वाले नक्सलियों में शामिल पक्कू, पूर्व नक्सली ताला दा की पत्नी है। पक्कू के खिलाफ 16 मुकदमे दर्ज हैं। पीसी दी के पति सुखलाल देहरी ने भी पुलिस के सामने हथियार डाल दिये। सरेंडर करने वाले नक्सलियों में पीसी दी और किरण दी सबजोनल कमांडर थीं, जबकि सिद्धो मरांडी एरिया कमांडर था।

 
पीसी दी ने एके-47, किरण दी ने कारबाईन, सिद्धो मरांडी ने इंसास राइफल, सुखलाल देहरी ने पिस्टल और भगत सिंह किस्कू ने राइफल के साथ सरेंडर किया। पीसी दी और किरण दी पर 5-5 लाख रुपये का इनाम घोषित था, जबकि सिद्धो मरांडी, प्रेमशीला देवी पर एक-एक लाख रुपये का इनाम रखा गया था।
 
ये सभी नक्सली संगठन भाकपा (माओवादी) से जुड़े थे। पुलिस ने बताया कि झारखंड सरकार के प्रत्यार्पण एवं पुनर्वास योजना से प्रभावित होकर इन नक्सलियों ने सरेंडर किया है। सभी ने अपने-अपने परिजनों के माध्यम से आवेदन दिया था कि वे आत्मसर्पण करना चाहते हैं।
 
सरेंडर करने वाले 6 नक्सलियों में तीन पुरुष और तीन महिला हैं। इनके नाम सुखलाल देहरी उर्फ कंदरा देहरी, पीसी दी उर्फ प्रिसिला देवी उर्फ सावड़ी सिंह, प्रेमशीला उर्फ होपन टी, किरण टुडू उर्फ पक्कू टुडू उर्फ उषा टुडू उर्फ फुलीना टुडू, भगत सिंह उर्फ भगत सिंह हेम्ब्रम उर्फ बाबूराम हेम्ब्रम और सिद्धो मरांडी उर्फ कन्हु हैं। इनमें पांच दुमका के रहने वाले हैं, जबकि एक पाकुड़ का।
 
पुलिस ने बताया कि ये सभी नक्सली दुमका और संथाल परगना के अन्य जिलों में सक्रिय थे। ये लोग सबजोनल कमांडर ताला दा उर्फ सहदेव राय के दस्ता में सक्रिय थे। दस्ते के लिए इन्होंने कई घटनाओं को अंजाम दिया था। ताला दा 13 जनवरी, 2019 को पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया था। सुखलाल देहरी और प्रेमशीला देवी को छोड़कर सभी चार नक्सली काठीकुंड थाना क्षेत्र में 2 जुलाई 2013 को पाकुड़ में एसपी अमरजीत बलिहार हत्याकांड में शामिल थे। इनके विरुद्ध दुमका जिला में कई केस दर्ज हैं।
 
मौके पर डीआइजी संथाल परगना राजकुमार लकड़ा, डीआइजी एसएसबी सुमित जोशी, एसपी वाईएस रमेश, एसएसबी के कमांडेंट परीक्षित बेहरा, डीडीसी वरुण रंजन, अपर समाहर्ता सुनील कुमार, एसडीओ राकेश कुमार, एसएसबी के द्वितीय कमान अधिकारी संजय कुमार गुप्ता, एएसपी अभियान आरसी मिश्रा और एमानुएल बास्की व अन्य मौजूद थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS