ब्रेकिंग न्यूज़
बेखौफ अपराधियों का कहर, दिनदहाड़े पुलिसकर्मी को गोली से भूना, कार्बाइन ले भागेएमजंक्शन अवार्ड्स में अडानी ग्रुप को मिला सर्वश्रेष्ठ कोयला सर्विस प्रोवाइडर का पुरस्कारटी20 विश्व कप के लिये युवाओं के पास मनोबल बढ़ाने का बेहतरीन मंच: शिखर धवनबिपाशा के बॉलीवुड में 18 साल, 'अजनबी' से की थी बॉलीवुड करियर की शुरुआतराष्ट्रपति ट्रंप का बड़ा फैसला, सऊदी अरब और UAE में तैनात होगी अमेरिकी सेनाउत्तर प्रदेश: पटाखा फैक्टरी में भीषण विस्फोट, 6 लोगों की मौत, कई घायलहरियाणा व महाराष्ट्र के बाद अब झारखंड में विधानसभा चुनाव की तारीख का इंतजारएक लोकसभा सीट समेत बिहार की पांच विधानसभा सीटों पर उपचुनाव 21 अक्तूबर को, 24 को होगी मतगणना
राष्ट्रीय
अयोध्या विवादित ढांचा केस की सुनवाई कर रहे जज ने सुप्रीम कोर्ट को लिखा पत्र, मांगी पुलिस सुरक्षा
By Deshwani | Publish Date: 23/8/2019 3:28:16 PM
अयोध्या विवादित ढांचा केस की सुनवाई कर रहे जज ने सुप्रीम कोर्ट को लिखा पत्र, मांगी पुलिस सुरक्षा

नई दिल्ली। अयोध्या विवादित ढांचा ढहाने के मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं पर चल रहे केस की सुनवाई कर रहे स्पेशल जज एसके यादव ने सुप्रीम कोर्ट को पत्र लिख कर पुलिस सुरक्षा की मांग की है। पत्र पर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस आरएफ रोहिंग्टन ने कहा कि जज की मांग जायज है। उत्तर प्रदेश सरकार इस संदर्भ में अपना जवाब दायर करें।

 
सुनवाई के दौरान उप्र सरकार ने जज एसके यादव का कार्यकाल बढ़ाने के लिए दो सप्ताह के अतिरिक्त समय की मांग की, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने उप्र सरकार को दो सप्ताह की अतिरिक्त मोहलत दी। पिछले 19 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने जज एसके यादव को निर्देश दिया था कि वो नौ महीने के भीतर फैसला करें। कोर्ट ने कहा था कि वे इस मामले में फैसला सुनाने तक अपने पद पर बने रहेंगे। कोर्ट ने कहा था कि जज एसके यादव अपने रिटायरमेंट के तय समय के बाद भी केस की सुनवाई करेंगे।
 
कोर्ट ने जज एसके यादव को निर्देश दिया था कि वे साक्ष्यों और गवाहों के बयान दर्ज कराने में तेजी लाएं। कोर्ट ने कहा था कि पक्षकारों की मौखिक दलीलें सुनने के लिए कम समय दें और उनसे लिखित दलीलें पेश करने का निर्देश दें। सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा था कि जज महोदय का कार्यकाल बढ़ाया जा सकता है। पिछले 15 जुलाई को जज एसके यादव ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि मुकदमा निपटाने में छह महीने और लगेंगे। वे 30 सितंबर को रिटायर होने वाले हैं। तब सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम चाहते हैं, जज फैसला सुना कर रिटायर हों। उसके बाद कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम धारा 142 के तहत अपने विशेषाधिकार का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
 
उल्लेखनीय है कि 19 अप्रैल, 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने 1992 के विवादित ढांचा गिराने के मामले में सीबीआई को सभी 14 आरोपितों के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट के आपराधिक साजिश रचने की धाराओं को हटाने के आदेश को निरस्त करते हुए आपराधिक साजिश रचने की धाराओं को फिर से लगाने की अनुमति दी थी। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इन नेताओं के खिलाफ रायबरेली की कोर्ट में चल रहे सभी मामले लखनऊ ट्रांसफर करने का आदेश दिया था। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS