ब्रेकिंग न्यूज़
'दंगल' फेम सुहानी भटनागर की प्रेयर मीट में पहुंचीं बबीता फोगाटबिहार:10 जोड़ी ट्रेनें 25 फरवरी तक रद्द,नरकटियागंज-मुजफ्फरपुर रेलखंड की ट्रेनें रहेंगी प्रभावितप्रधानमंत्री ने मिजोरम के निवासियों को राज्‍य के स्‍थापना दिवस पर शुभकामनाएं दीउपराष्ट्रपति ने कहा- भारत सुषुप्‍त अवस्‍था से जागृत अवस्‍था में प्रवेश कर चुका हैमोतीहारी: गांधी कुष्ठ कॉलोनी में मरीजों के बीच खाद्य सामग्री व सफाई सामग्री के साथ-साथ कंबल का भी वितरण किया गयामहागठबंधन छोड़ नीतीश शामिल हुए एनडीए में, बिहार में बनी एनडीए की सरकारमोतीहारी: राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर महात्मा गांधी ऑडिटोरियम में नव मतदाता सम्मेलन का आयोजनउपराष्ट्रपति ने श्री हरिशंकर भाभड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया
बिहार
तटबंध टूटा, कई गांव डूबे, नेपाल में बारिश से बागमती नदी फिर उफनायी
By Deshwani | Publish Date: 3/9/2017 4:37:49 PM
तटबंध टूटा, कई गांव डूबे, नेपाल में बारिश से बागमती नदी फिर उफनायी

सीतामढ़ी। नेपाल के तराई क्षेत्र में हुई बारिश से बागमती नदी में उफान आ गया है. इसके कारण भादाडीह में निर्मित बांध टूटने के बाद रून्नीसैदपुर का इलाका जलमग्न हो गया है। 

 
इसके चलते खड़का, भादा टोला, माधोपुर चौधरी, रैन विष्णु, रैन शंकर, शिवनगर,सोनपूरवा, इब्राहिमपुर, नया वास, अथरी, महिमापुर, बसतपुर, रक्सिया, मानपुर जौआ,मझौली उर्फ भनुडीह, भादाडीह, चक दोनई व रून्नीसैदपुर उत्तरी समेत दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। वहीं, ओलीपुर गांव में बाढ़ के पानी में डूब कर मो सलाम मंसूरी की पांच वर्षीया पुत्री शानिया खातून की मौत हो गयी। वहीं, मेजरगंज प्रखंड की कोआरी मदन पंचायत के ग्रामीणों ने राहत की मांग को लेकर प्रखंड कार्यालय के समक्ष हंगामा किया।
 
बागमती नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। वहीं, रून्नीसैदपुर के अलावा बेलसंड, बैरगनिया व सुप्पी में भी बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है। रून्नीसैदपुर व बैरगनिया में बड़ी आबादी बाढ़ के चलते बांध व हाइवे पर रहने को विवश है।
ढेंग में रेलवे ट्रैक के बाढ़ के पानी में बह जाने के कारण लगातार 21 वें दिन भी ढेंग-रक्सौल के बीच ट्रेन परिचालन बाधित रहा और बैरगनिया का पूर्वी चंपारण जिले से सड़क संपर्क भी भंग रहा।
 
समस्तीपुर, हथौड़ी थाने के बंधार गांव स्थित भगवान घाट के पास बागमती नदी की बीच धार में नाव पलटने से उस पर सवार सभी लोग डूब गये. ग्रामीणों ने रस्सी व तैराक की मदद से सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।
 
घटना के कुछ घंटे बाद भी एक बार फिर नाव पलटने से आधे दर्जन लोग पानी में डूबने से बच गये। घटना के बाद घाट पर कुछ समय के लिए अफरातफरी का माहौल हो गया। ग्रामीणों ने बताया कि शनिवार की दोपहर दो बजे के आसपास चारा लाने को लेकर गांव के ही एक निजी नाव पर सवार होकर उस पार फकीरबन्ना, नरकटही, डेमूर, चौर में अपने मवेशियों के लिए चारा लाने जा रहे थे। इसी दौरान नदी में ज्यादा पानी होने के कारण नाव के अंदर पानी भर गया।
 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS