ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी: लायंस कपल क्लब का पदस्थापना समारोह सम्पन्ननिलंबन के खिलाफ 8 विपक्षी सांसद धरने पर बैठे, हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगितप्रधानमंत्री मोदी का बिहार को सौगात- पटना व भागलपुर में दो बड़े पुल, ग्रामीण क्षेत्रों में तेज इंटरनेट ...और भी बहुत कुछपड़ोसी देश मालदीव की मदद के लिए भारत ने बढ़ाया हाथ, 25 करोड़ डॉलर की आर्थिक सहायता दीकोरोना काल में 6 महीने तक बंद रहने के बाद खुला ताज महल, चीनी टूरिस्ट ने किया सबसे पहले दीदारकेरल के एर्नाकुलम की खदान में भयंकर विस्फोट, दो मजदूरों की मौतCOVID-19: भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 86,961 नए केस, कोरोनावायरस से 1,130 की मौतभिवंडी हादसे पर प्रधानमंत्री मोदी ने जताया दुख, ट्वीट कर कहा- मेरी संवेदना पीड़ित परिवारों के साथ
बिहार
बाढ़ प्रबंधन को लेकर लोकसभा में व्यापक बहस की आवश्यकता : तारिक अनवर
By Deshwani | Publish Date: 22/8/2017 8:28:51 PM
बाढ़ प्रबंधन को लेकर लोकसभा में व्यापक बहस की आवश्यकता : तारिक अनवर

कटिहार, (हि.स.)। पूर्व केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री सह कटिहार सांसद तारिक अनवर ने उत्तर बिहार में आई विनाशकारी बाढ़ की व्यापकता के मद्देनजर बाढ़ नियंत्रण की अवधारणा के विकल्प के रूप में नेपाल से बिहार प्रवेश करने वाली नदियों के बेहतर जल प्रबंधन की आवश्यकता जताई। 

पिछले तीन दिनों से कटिहार तथा पूर्णियाँ जिले के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर रहे तारिक अनवर ने मंगलवार को बताया कि वर्ष दर वर्ष नदियों के जल प्रवाह में मानव निर्मित रुकावट पैदा करने के कारण देश के जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, मुंबई महानगरी, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश तथा उत्तर बिहार को बाढ़ की विनाशलीला का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। जलवायु परिवर्तन के कारण हो रहे बदलाव को इसे प्रकृति के स्वरूप के साथ जोड़कर नदी जलप्रबंधन की योजनाएं तैयार करनी होगी, जिससे इस समस्या से प्रभावकारी ढ़ंग से निपटा जा सके। कटिहार सांसद ने इस मुद्दे पर केंद्र सरकार, राज्य सरकारों, पर्यावरण विदों तथा जल वैज्ञानिकों के साथ मिलकर इस मुद्दे पर एक राष्ट्रीय बहस की शुरुआत करने की आवश्यकता पर बल दिया। 
 पूर्व कृषि राज्य मंत्री अनवर ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के तहत कई देशों में जो ऐसी प्राकृतिक आपदाओं से जूझ रहे हैं वहाँ नदी जलप्रबंधन का एक मॉड्यूल तैयार करने का काम चल रहा है। भारत को भी इस दिशा में कार्यक्रम तैयार करना होगा जिससे यहाँ की एक बड़ी आबादी के सामने खड़ी बाढ़ के जोख़िम को न्यूनतम किया जा सके और अभिशप्त नदियों को सुख की नदी बनाई जा सके।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS