ब्रेकिंग न्यूज़
डाकघरों के माध्यम से दस दिन की अवधि में एक करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज खरीदे गयेमोतिहारी कस्टम के दो हवलदारों को केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने पकड़ा, 20 हजार रुपये घूस लेने का आरोपप्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 के भारतीय दल का अभिवादन कियाएनएमडीसी और फिक्की भारतीय खनिज एवं धातु उद्योग पर सम्मेलन का आयोजन करेंगेबिहार: आज बादल गरजने के साथ ठनका गिरने की आशंका, तीन जिलों में भारी बारिश का अलर्टमोतिहारी, हरसिद्धि के जागापाकड़ में महावीरी झंडा के दौरान आर्केस्ट्रा में फायरिंग, दो घायल, प्राथमिकी दर्जबिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को हटाने के लिए सत्तारूढ महागठबंधन के सदस्यों ने नोटिस सौंपाप्रधानमंत्री ने आशूरा के दिन हज़रत इमाम हुसैन की शहादत को याद किया
बिहार
रक्सौल: विश्व मानव तस्करी निरोधक दिवस को दो नाबालिग लड़कीयां तस्करी होने से बची
By Deshwani | Publish Date: 31/7/2022 12:10:19 PM
रक्सौल: विश्व मानव तस्करी निरोधक दिवस को दो नाबालिग लड़कीयां तस्करी होने से बची

रक्सौल अनिल कुमार। जब विश्व मानव तस्करी निरोधक दिवस पर एसएसबी जागृति रथ बस से एएचटीयू (क्षेत्रक मुख्यालय) रक्सौल और प्रयास जुबेनाइल सब सेंटर रक्सौल, एनजीओ प्लान इंडिया, आरपीएफ रक्सौल द्वारा  मानव तस्करी पर जागरूक अभियान चलाया जा रहा था।उसी क्रम मे इंडियन ऑयल डिपो के गेट के पास इंस्पेक्टर मनोज कुमार शर्मा ने देखा की दो नाबालिग लड़कीयों को एक लड़का कुछ डरा सा रहा है तो उन्होंने बस को रुकवाया तथा तुरंत वो उस लड़के और दोनों नाबालिग लड़कियों के पास पहुँचे। साथ में मौजूद आरती कुमारी (अध्यक्ष एनजीओ प्रयास) रामजन्म प्लान इंडिया एनजीओ भी अपने अपने सदस्यों के सारे बस से उतर कर आ गए। 

 
 
 
 
 
आरती कुमारी (अध्यक्ष प्रयास एनजीओ) व इंस्पेक्टर  मनोज कुमार शर्मा द्वारा जब इन तीनों से पूछताक्ष की गयी तो ये प्रथम दृश्य में ही मानव तस्करी का रूप समझ आ गया। एक लड़की नाम मिनाक्षी (बदला नाम ) बंगाल की थी जिसकी उम्र 16 वर्ष थी दूसरी लड़की नाम अनुराधा (बदला हुआ नाम) मधुबनी बिहार की थी जिसकी उम्र 17वर्ष थी। व लड़का मो. जाविद (बदला हुआ नाम) उनको नेपाल ले जाने के चक्कर में था व गरीब घर की लड़कियों को वहाँ काम दिलाने के नाम पर ले जा रहा था। 
 
 
 
 
 
लड़के ने इन लड़कियों से केवल एक माह पहले ही फेसबुक से दोस्ती की थी।आगे भी जाँच होगी कि इन दोनो नाबालिग लड़कियों को ये किन लोगों को सौंपने के लिए ले जा रहा था जिससे इस प्रकार के मानव तस्करी के रैकेट पर कार्यवाही की जा सके। 
बताते चले कि आजकल सोशल मीडिया (फेसबुक इंस्टाग्राम लाइक) से मानव तस्कर बहुत आसानी से लड़कियों को अपने जाल में फंसा ले रहे हैं ।
दोनोँ लड़कियों और लड़के को थाना राजकीय रेलवे स्टेशन रक्सौल को अग्रिम जाँच के लिए सौंप दिया गया। 
 
 
 
 
 
इस रेस्क्यू ऑप्रेशन के समय एएचटीयू (क्षे.मु) रक्सौल के इंस्पेक्टर मनोज कु शर्मा, एसआई नेहा सिंह, हवलदार राम कुमार, आरक्षी मोनिका आरक्षी कल्पना बाजपेई, प्रयास जुबेनाइल सब सेंटर रक्सौल के आरती कुमारी विजय कुमार शर्मा, राज गुप्ता रेलवे सुरक्षा बल से एसआई संतोष कुमार मिश्रा इत्यादि भी सहयोगी रहे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS