बिहार
कांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधी
By Deshwani | Publish Date: 23/3/2019 5:09:38 PM
कांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधी

पटना/पूर्णिया। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्णिया के रंगभूमि मैदान में आज चुनावी रैली को संबोधित करते हुए बिहार में चुनावी बिगुल फूंका। चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी और केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साघा। 

 
उन्होंने कहा कि 'मैं पीएम मोदी, भाजपा और आरएसएस से नहीं डरता। मैं सिर्फ एक चीज से डरता हूं। मैं सिर्फ सच्चाई को मानता हूं। बिहार के युवाओं जाग जाओ। हर रोज आपकी जेब से पैसा लूटा जा रहा है।' पीएम मोदी पर सीधा निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि 'पहले कहते थे कि मुझे पीएम बनाओ, जो भी चाहते हो मिल जायेगा। अब कहते हैं कि हम सब चौकीदार।' उन्होंने सवाल उठाते हुए चुनावी सभा में पहुंचे लोगों से पूछा कि 'चौकीदार गरीबों के घर में मिलता है या अमीरों के? वो हैं चौकीदार, मगर गरीबों के नहीं, अनिल अंबानी के चौकीदार हैं।'
 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने‘चौकीदार चोर है' के अपने नारे के जवाब में भाजपा की ओर से शुरू किये गये ‘मैं भी चौकीदार' अभियान को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष किया और उन पर ‘अमीरों के धन की रखवाली करनेवाला चौकीदार' होने का आरोप लगाया। लोकसभा चुनावों की घोषणा के बाद बिहार के पूर्णिया जिले के रंगभूमि मैदान में रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने भीड़ द्वारा ‘चौकीदार चोर है' के नारे लगाये जाने के बीच कहा, ''लोग अपने घरों के बाहर कैसे चौकीदार नियुक्त करते हैं। क्या आपने किसी चौकीदार को किसी आम आदमी के घर के दरवाजे पर तैनात देखा है?'' राहुल ने आरोप लगाया कि मोदी ने अनिल अंबानी, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अन्य लोगों को 'भाई' माना और यही कहकर संबोधित भी किया, जबकि वे आम लोगों को केवल 'मित्र' कहकर पुकारते हैं। 
 
राहुल गांधी ने कहा, ''उन्होंने सभी गरीबों के खाते में 15 लाख रुपये, पांच साल में दो करोड़ नौकरियां और किसानों की कर्ज माफी का वादा किया था। क्या उन्होंने कभी आपको बताया कि वह अपने इन वादों को पूरा करने में नाकाम क्यों रहे? क्या उन्होंने किसानों, श्रमिकों और युवाओं के हित के लिए कुछ किया?'' उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस ने किसानों की कर्ज माफी का वादा किया और मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में अपनी सरकार बनने के 15 दिनों के भीतर ऐसा कर दिखाया।
 
उन्होंने कहा कि ''अगर बिहार में कांग्रेस के नेतृत्व वाला गठबंधन सत्ता में आया, तो यह एक न्यूनतम आय रेखा तय करेगा और इस रेखा के नीचे आनेवाले लोगों के खाते में स्वतः ही धनराशि जमा हो जायेगी।'' नोटबंदी का उल्लेख करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि यदि इसका घोषित उद्देश्य कालेधन का उन्मूलन था, तो आम लोगों को इतनी बड़ी कठिनाइयों से गुजरना क्यों पड़ा। उन्होंने पूछा ''महिलाओं द्वारा कठिन समय में वर्षों से की गयी बचत को नोटबंदी के नाम पर घर से निकाल कर बैंकों में जमा करने के लिए विवश क्यों किया गया? अगर यह सरकार अमीरों के 3.5 लाख करोड़ रुपये के कर्ज माफ कर सकती है, तो वह किसानों को आवश्यक राहत क्यों नहीं दे सकती है?''
 
राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने पिछले पांच वर्षों में केंद्र की मोदी सरकार ने कोई वादा पूरा नहीं किया। पिछले चुनाव में 15 लाख रुपये देने का वादा किया था, उसे पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि हम न्यूनतम आमदनी की एक लाइन बनायेंगे। इस लाइन के नीचे जो कोई भी आयेगा, उसे न्यूनतम आमदनी दी जायेगी। इसमें युवा, बेरोजगार, वृद्ध चाहे कोई भी हो, इस लाइन के नीचे आनेवाले को न्यूनतम आमदनी दी जायेगी। हम किसानों और बेरोजगारों को पैसा देंगे। ये सारे पैसे सीधे आपके बैंक अकाउंट में डाल दिये जायेंगे।
 
 
इस कार्यक्रम में बिहार के कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, बिहार विधान मंडल के नेता सदानंद सिंह, पार्टी नेता कौकब कादरी, तारिक अनवर, अखिलेश सिंह, बरारी विधायक नीरज कुमार, अररिया के राजद सांसद सरफराज आलम, विधायक शकील खान, पूनम पासवान, जलील मस्तान समेत कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद थे। मालूम हो कि इससे पहले राहुल गांधी तीन फरवरी को संकल्प रैली में भाग लेने के लिए बिहार की राजधानी पटना आये थे। पिछले दो माह के अंदर यह उनका दूसरा बिहार दौरा है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS