ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी सेन्ट्रल बैंक रिजनल कार्यालय में भीषण आग, 4 घंटे के मशक्कत के बाद रात 8 बजे आग पर काबूचनपटिया, बेतिया और नौतन विधानसभा क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदान को प्रशासन पूरी तरह तैयार : कुंदन कुमारएनडीए के प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा ने कहा:-अशोक सिन्हा के वीरगंज नेपाल स्थित घर से भारी मात्रा मे सोना बरामदगी की घटना से मेरा कोई सरोकार नहींरक्सौल पुलिस ने 36 लाख के चरस के साथ युवक को किया गिरफ्तारभारत-नेपाल सीमा: दशहरा पर्व मे नही खुलेगा बोर्डर, 17 को बोर्डर खुलने का खबर भ्रामकसमय रहते अगर सर्तक नहीं हुए तो आम हो जायेगी स्‍तन कैंसर बीमारी : डॉ वी पी सिंहबीरगंज में नेपाल पुलिस ने एक फ्लैट से लगभग 23 किलोग्राम सोना का बिस्किट सहित सोना का गहना और चाँदी का बर्तन किया बरामदमुकेश सहनी ने जारी की अपने उम्‍मीदवारों की सूची, कहा – प्रचंड बहुमत से बनेगी एनडीए की सरकार
बिहार
मोतिहारी: पंडित दीनदयाल के तैल चित्र पर भाजपाइयों ने पुष्पा अर्पित कर देश की सेवा करने की ली शपथ
By Deshwani | Publish Date: 25/9/2020 9:45:26 PM
मोतिहारी: पंडित दीनदयाल के तैल चित्र पर भाजपाइयों ने पुष्पा अर्पित कर देश की सेवा करने की ली शपथ

मोतिहारी/चिरैया। माधुरी रंजन। चिरैया विधानसभा क्षेत्र के पताही प्रखंड के  दर्जनों पंचायत में भारतीय राजनीति के पुरोधा बहुमुखी व्यक्तित्व के धनी और जनसंघ के संस्थापक सदस्य पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती  के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजित किया गया आयोजित कार्यक्रम में  भाजपा विधायक एवं अन्य कार्यकर्ता उनके तैल चित्र पर माला एवं पुष्प अर्पित किए । कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चिरैया भाजपा विधायक लालबाबू प्रसाद गुप्ता ने कहा कि  25 सितंबर इतिहास के पन्नों में काफी अहमियत रखता है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती है। वर्ष 1916 में 25 सितंबर के दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारक और जनसंघ के सह-संस्थापक पंडित दीन दयाल उपाध्याय का जन्म मथुरा में हुआ था। उन्होंने देश को एकात्म मानववाद जैसी प्रगतिशील विचारधारा दी और कहा कि दुनिया को पूंजीवाद या साम्यवाद नहीं, बल्कि मानववाद की जरूरत है। दीनदयाल उपाध्याय का ये भी कहना था कि हिंदू कोई धर्म या संप्रदाय नहीं, बल्कि भारत की राष्ट्रीय संस्कृति है वो राजनेता होने के साथ-साथ एक पत्रकार और लेखक भी थे। उन्होंने (आरएसएस) द्वारा प्रकाशित साप्ताहिक पत्रिका (पान्चजन्य) की नींव रखी थी. इस पत्रिका के पहले संपादक देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी थे।





दीन दयाल उपाध्याय की जयंती, बीजेपी इस दिन देश भर में तमाम कार्यक्रम आयोजित करती है. ऐसे में आम जन खास तौर पर नई पीढ़ी के मन में ये दिलचस्पी स्वभाविक है कि दीनदयाल उपाध्याय से कैसी नाराजगी। उन्होंने कहा कि कैसे दीनदयाल उपाध्याय ने संघ परिवार के लिए वो युग प्रवर्तक काम किया था, जिसका खामियाजा बीजेपी की सारी विरोधी पार्टियां आज तक भुगत रही हैं, वो काम जिसे करने के संघ अरसे से खिलाफ था, जिसे करने में संघ नेता 25-26 साल तक हिचकिचाते रहे।अक्सर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अधिकारियों का एक ही सवाल से पाला पड़ता है और तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में भी ये लिखा जाता रहा है कि क्या बीजेपी संघ की राजनीतिक विंग है तो वो अक्सर जवाब देते आए हैं कि अगर कुछ मुद्दों पर हमारी सहमति किसी भी पार्टी से बनती है तो हम उनका स्वागत करते हैं। आयोजित कार्यक्रम में अशोक सिंह चौहान अध्यक्ष पताही मंडल, गंगेश्वर सिंह, मुखिया कृष्ण मोहन सिंह, मुखिया संघ के उपाध्यक्ष  एवं  भाजपा ढाका के महामंत्री सुनील कुमार, अरुण कुमार, मनीष कुमार बिट्टू पासवान, राजन कुमार , प्रमोद साह, चुनचुन सिंह सहित सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS