ब्रेकिंग न्यूज़
भारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगेभारत की राष्ट्रपति, मॉरीशस में; राष्ट्रपति रूपुन और प्रधानमंत्री जुगनाथ से मुलाकात कीकोयला सेक्टर में 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को 9 गीगावॉट से अधिक तक बढ़ाने का लक्ष्य तय कियाझारखंड को आज तीसरी वंदे भारत ट्रेन की मिली सौगातदेश की संस्कृति का प्रसार करने वाले सोशल मीडिया कंटेंट क्रिएटर को प्रधामंत्री ने संर्जक पुरस्कार से सम्मानित किया
आप भी लिखें
संवत्सर आनंद का समुल्लास!
By Deshwani | Publish Date: 31/3/2017 3:33:27 PM
संवत्सर आनंद का समुल्लास!

प्रतीकात्मक फोटोः मां दुर्गा

हृदयनारायण दीक्षित

आईपीएन। स्वागत नवसंवत्सर। प्रकृति में नवउन्मेष। मधु आपूरित वातायन। मधुरसा जीवन स्पंदन। कालरथ के घोड़ों पर सवार नवसंवत्सर का अभिनंदन। काल नमस्कारों के योग्य हैं। वे काल सबके भीतर हैं और बाहर से भी सबका आच्छादन करते हैं। अथर्ववेद के ऋषि भृगु से लेकर महाभारत के रचनाकार व्यास तक कालबोध और कालदर्शन की प्राचीन परम्परा है। काल के प्रवाह में वायु प्रवाह है। काल से ही आयु है। काल में जीवन और काल में मृत्यु। कालरथ किसी को नहीं छोड़ता। जन्म का अवसर देता है। जीवन देता है, लहकाता है। जराजीर्ण करता है और जीवन का अवसान भी करता है। काल अखण्ड सत्ता है। भूत भविष्य और वर्तमान हम सबने अपनी मन तरंग में रचे हैं। भृगु ने बताया कि ज्ञानी ही कालरथ में बैठते हैं। मन काल के भीतर है। कह सकते हैं कि मन ही काल का अनुभव केन्द्र है। पहला संवत्सर प्रथम काल दर्शन है। यह कैलेण्डर साल नहीं। सृष्टि की प्रथम मंगल मुहूर्त है। सो बारंबार अभिनंदनीय है।

समय का जन्म हुआ है। पहले समय नहीं था। तब दिशाएं भी नहीं थीं। काल के साथ दिक् भी नहीं थे। ऋग्वेद के ऋषि की जिज्ञासा गाढ़ी है कि सबसे पहले था क्या? सृष्टि आई तो कहां से आई? कहते हैं कि ‘न असत था और न ही सत्। दिक् और आकाश भी नहीं थे। तब न मृत्यु थी और न अमरत्व। तब न रात थी और न दिन। केवल कामनाएं थीं।” ऋषि परमेष्टिन प्रश्न करते हैं “कौन जानता है कि यह सृष्टि कहां से पैदा हुई? देवता भी नहीं। देवता भी सृष्टि के बाद पैदा हुए। अनंत में बैठा इसका अध्यक्ष भी यह रहस्य जानता है या नहीं?” स्टीफेन हाकिंग्स सहित तमाम आधुनिक वैज्ञानिकों ने अब तक सृष्टि को एक बिन्दु के विस्फोट से पैदा माना है। वैज्ञानिकों के अनुसार इस बिन्दु में ब्रह्माण्ड की सारी ऊर्जा व द्रव्य एक जगह थे। गहन घनत्व से अंड फूटा, गति हुई टुकड़े केन्द्र से दूर भागे। समय उगा। वे इस अंड को कासमिक एग अर्थात ब्रह्म-अंड भी कहते हैं।

वैज्ञानिक सम्पूर्ण विश्व को ‘कासमोस’ कहते हैं। इसी से शब्द ‘कासमिक एग’ बना। भारतीय परंपरा उसे ब्रह्म कहती है। सभी छन्दों और रागों में निबद्ध मधुमय काव्य जैसा है यह ब्रह्म। अंग्रेजी में इसे ‘यूनीवर्स’ कहा गया है। यूनी-वर्स यानी संयुक्त कविता। पाश्चात्य जगत ने विश्व को लाखों खण्ड़ों का जोड़ जाना है। यूनीवर्स का अर्थ यही है। भारत ने इसे ‘एक ही सत्य - एकं सद् बताया कि इसी एक सत्य को विद्वान अनेक नाम लेकर बताते हैं। जो सत् है वह एक है। जो एक है, वह चेतन है और जो चेतन है वही आनंद भी है। सत् चित् आनंद की यही एकात्म अनुभूति सत्य शिव और सुन्दर में प्रकट होती है। सत्य, शिव और सुंदर के प्रकटीकरण का नाम है संस्कृति। हमारे पूर्वजों ने सचेत रूप से ही सत्य, शिव और सुंदर को प्रकट किया। प्रकृति स्वयंभू है, सदा से है। संस्कृति मनुष्य का अपना सृजन है। सत् चित् और आनंद का सम्मुलास है भारतीय संस्कृति। संवत्सर हमारी संस्कृति और दर्शन का प्रस्थान बिन्दु है। 

सृष्टि का प्रत्येक प्राणी आनंद का प्यासा है। प्रकृति आनंद से भरीपूरी है भी। हम प्रकृति के अंश हैं। गणित में अंश पूर्ण से छोटा होता है लेकिन भारतीय अनुभूति में अंश पूर्ण है। पूर्ण में पूर्ण घटाओ तो भी पूर्ण। ऋग्वेद आनंदगोत्री पूर्वजों का ही मधु-मंत्रकोष है। सभी देव आनंददाता हैं। सविता प्रत्यक्ष देव हैं। उन सविता का वरण - तत्वविर्तुवरेण्य आनंदवर्द्धन है। आनंदमगन ऋषि “सविता को सामने, पीछे, दांए और बांए के साथ ऊपर और नीचे” भी अनुभव करते हैं। भारतीय अनुभूति का ब्रह्म संपूर्ण आनंद का पर्याय है। उपनिषद् अनुभूति में “यह ब्रह्म ऊपर, नीचे, दाएं, बांए, आगे, पीछे और भीतर बाहर भी है।” पूर्वज अनुभूति एकात्मवादी है। यहां अनुभूति और अभिव्यक्ति भी एक जैसी। जैसी प्रतीति, वैसी अनुभूति और वैसी ही अभिव्यक्ति। लेकिन वाणी उस अनुभूति केन्द्र से लौट आती है। भाषा की सीमा है। अनुभव सागर जैसा लेकिन भाषा की लुटिया बहुत छोटी। कैसे समाए यह सागर लघुपात्र में। तुलसीदास ने भी ‘कहबु कठिन, समुझब कठिन’ की लाचारी व्यक्ती थी। पहले तो जानना ही कठिन फिर जाने हुए को बताना और भी कठिन।

प्रकृति का अन्तस् छन्दस् है और मनुष्य का भी। सत् चित् और आनंद है यह अन्तस्। सत् प्रत्यक्ष भौतिक और इहलौकिक है। चेतन अप्रत्यक्ष है लेकिन सर्वव्यापी है और विज्ञान सिद्ध भी। सत् अखण्ड सत्ता है। यहां अनेक रूप हैं। वनस्पति, पशु, कीट, पतिंग, नदी, पर्वत, वन उपवन, मनुष्य और विविध पदार्थ या प्राणी। इनका अस्तित्व अलग-अलग दिखाई पड़ता है लेकिन अन्तःकरण में सब एक हैं। ऋग्वेद में इन्द्र की सर्वाधिक स्ततियां हैं। ऋषि गाते हैं - यह इन्द्र सभी रूपों के भीतर प्रविष्ट होकर “रूपं रूपं प्रति रूपो वभूवः” है - एक इन्द्र या चेतन ही हरेक रूप में रूप रूप प्रतिरूप है। कठोपनिषद में यही बात अग्नि के लिए कही गई है। ऋग्वेद की पूरी काव्य पंक्ति ज्यों की त्यों है। केवल इन्द्र की जगह अग्नि शब्द रख दिया गया है। परम चेतन एक है। रूप ढेर सारे। विभाजित प्रत्यक्ष को अविभाजित एक अखण्ड देखना ही भारतीय दर्शन की आत्यंतिक अनुभूति है। उस एक का नाम ऋग्वेद में ‘एकं सद्’ है। इन्द्र भी है और अदिति भी। इसी का नाम उपनिषद्ों में ब्रह्म है। नाम महत्वपूर्ण नहीं है। संवत्सर हमारी जिज्ञासा का प्रस्थान बिन्दु है। 

ब्रह्म अंड का अस्तित्व स्वीकारा गया है। भारतीय चिन्तन के अनुसार सृष्टि और प्रलय बार-बार आते हैं। प्रलय में सब कुछ नष्ट नहीं होता। सृष्टि का विकास शून्य से नहीं हो सकता। ऋग्वेद में सृष्टि की पूर्व स्थिति का वर्णन है। तब न दिन थे न रात। केवल ‘एक वह’ था, दूसरा कोई नहीं। वायु भी नहीं थी, ‘वह एक’ अपनी क्षमता के बल पर सांस ले रहा था- अनादीवातं स्वस्ध्या तदेकं। फिर वह प्रकट हो गया। गति आई और गति के साथ समय। संवत्सर उगा। भारतीय संस्कृति का संवत्सर बड़ा प्यारा है। संवत्सर सृष्टि उगने की प्रथम मंगल मुहूर्त है। यह संवत्सर ही अंतर्राष्ट्रीय नवसंवत्सर है। यह कालगणना का परिणाम नहीं, कालबोध की अनुभूति है। कालगणना इसकी अनुवर्ती है। हिन्दू भौगोलिक सांस्कृतिक संज्ञा है। इस भूखण्ड में दर्शन और वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास पहले हुआ और आस्था सम्प्रदाय या पंथों का बाद में। स्वाभाविक ही यहां आस्था भी प्रश्नों के घेरे में रही। समूचा ऋग्वेद प्रश्नाकुल बेचैनी से भरापूरा है। “एकं सद् विप्रा बहुधा वदन्ति’ की गाढ़ी अनुभूति भारतीय चिन्तन का नीति निदेशक तत्व बनी रही। भारतीय संस्कृति का अधिष्ठान दर्शन और विज्ञान ही रहा है। 

डाॅ0 अम्बेडकर ने भारत विभाजन की गहमागहमी के बीच लिखी किताब में ध्यान दिलाया है कि - “हम भारतवासी आपस में बहुत लड़ते झगड़ते हैं लेकिन एक संस्कृति सबको बांधे रखती है।” यह संस्कृति आखिरकार क्या है? क्या राजनैतिक शब्दावली वाली ‘सामासिक संस्कृति’ - कम्पोजिट कल्चर है। क्या विभिन्न आस्था समूहों को जोड़ गांठकर कल्पित की गई कोई अप्राकृतिक संरचना है? वस्तुतः यह विभिन्न विचारों, तमाम आस्थाओं के प्रति सम्मान भाव रखने वाली प्राचीन वैदिक संस्कृति ही है। अथर्वा ने पृथ्वी सूक्त - अथर्ववेद में गाया है “यह पृथ्वी विभिन्न भाषाएं और विभिन्न जीवनशैली वालों को पोषण देने वाली है।” यहां अनेक बोलियां, अनेक विश्वास और अनेक रीतिरिवाज हैं। सबके प्रति प्रीतिभाव और अपनत्व ममत्व का घनत्व ही इस भूखण्ड की संस्कृति है। इसी संस्कृति के कारण हम भारत के लोग एक राष्ट्र हैं। भारतीय संस्कृति या हिन्दू संस्कृति के आच्छादन में सब अपने हैं। भिन्न आस्था और विश्वास के बावजूद अपने ही। नवसंवत्सर जगत् के अस्तित्वोदय का आनंदवर्द्धन स्मरण है। भारतीय संस्कृति के ऊषा काल का पुरूश्चरण - स्मरण। ज्ञानवान प्रेमी इसका वरण करते हैं और शेष लोग केवल इसका परिधान ही देख पाते हैं। 

( उपर्युक्त लेख लेखक के निजी विचार हैं। आवश्यक नहीं है कि इन विचारों से आईपीएन भी सहमत हो। )

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS