ब्रेकिंग न्यूज़
पीडीपी से गठबंधन तोड़ने के बाद जम्मू में गरजे अमित शाह, कश्मीर को नहीं होने देंगे अलगअधूरी पड़ी योजनाओं को जल्द पूरा करने का सुशील कुमार मोदी ने दिए निर्देशसर्च अॅापरेशन में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, लातेहार से भारी मात्रा में हथियार बरामदकबाड़ी वाले ने किया कबूल, 8500 में खरीदी थी मैट्रिक परीक्षा की गायब हुई कॉपियांसरकारी जमीन पर लालू के कन्हैया ने बनवाया मंदिर, प्रशासन ने नहीं की कोई कार्रवाईस्वतंत्र विदेश नीति के तहत भारत और चीन से करीबी संबंध बनाए रखेगा नेपालसैफुदीन सोज ने फिर दिया विवादित बयान: पटेल तो कश्मीर पाकिस्तान को देना चाहते थे पर नेहरू नहीं मानेउत्पाद विभाग की टीम ने जब्त की 201 कार्टन नेपाली शराब
सुपौल
स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन को अपनाये युवा:डा.राजकुमार
By Deshwani | Publish Date: 13/1/2017 3:43:44 PM
स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन को अपनाये युवा:डा.राजकुमार

सुपौल, (हि.स.)। युवा दिवस के मौके पर आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने बी एसएस कॉलेज के प्रांगण में स्वामी विवेकानंद की जयंती धूमधाम से मनाई। सर्वप्रथम डॉ. राजकुमार ने अपने विचार रखते हुए कहा कि स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन को अपनाने की जरूरत है।

युवा शक्ति ही राष्ट्र निर्माण के संकल्प को पूरा कर सकती है। मंच की अध्यक्षता कर रहे डॉ. राजेंद्र झा ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी को अपने दायित्वों का ध्यान होना चाहिए। आज की शिक्षा बहुआयामी, स्वाबलंबी बनाने वाली, सही चरित्रनिर्माण में सहायक व उद्देश्य संकल्प एवं लक्ष्य को प्रेरित करने वाली होनी चाहिए। प्रो. डॉ. देवप्रसाद ने कहा कि आज के भ्रमित समाज को आगे बढ़ाने में विवेकानंद जी के विचार उपयोगी साबित हो सकते हैं। युवाओं को अपने कर्तव्य और कर्म पथ पर ध्यान देना चाहिए। प्रो. शशिभूषण सिंह ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आज शिक्षा मानवतावादी होनी चाहिए। मानव सेवा, सर्वधर्म समन्वय जैसे स्वामी जी के विचारों को अपनाने की आवश्यकता है। प्रो. अरुण सिंह ने मैकाले की शिक्षा पद्धति को त्याग कर भारतीय शिक्षा को ग्रहण करने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम में प्रो. मितेश सिंह, प्रो कुंदन शर्मा, प्रो डॉ सुधीर सिंहआदि मौजूद रहे। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS