ब्रेकिंग न्यूज़
जिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनीजिले में बेहतर स्वास्थ्य एवं सुरक्षित भविष्य के लिए राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना की शुरूआत
खेल
रणजी ट्रॉफी: विदर्भ ने लगातार दूसरी बार खिताब जीतकर रचा इतिहास, सरवटे ने लिए 11 विकेट
By Deshwani | Publish Date: 7/2/2019 6:26:18 PM
रणजी ट्रॉफी: विदर्भ ने लगातार दूसरी बार खिताब जीतकर रचा इतिहास, सरवटे ने लिए 11 विकेट

नागपुर। गत चैंपियन विदर्भ ने लगातार दूसरी बार रणजी ट्रॉफी का खिताब जीत लिया है। खिताबी मुकाबले में विदर्भ ने सौराष्ट्र को 78 रन से हराकर खिताब अपने नाम किया। पांचवें दिन 206 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम 58.4 ओवर में 127 रनों पर ही ढेर हो गई। 

 
विदर्भ की ओर से बाएं हाथ के स्पिनर आदित्य सरवटे ने दूसरी पारी में 24 ओवर में छह विकेट लिए। उसने पहली पारी में 98 रन देकर पांच विकेट चटकाए। सौराष्ट्र के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा दोनों पारियों में नहीं चल सके। 
 
विदर्भ ने पहली पारी में 312 जबकि सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 307 रन का स्कोर बनाया था। मेजबान विदर्भ से मिले 206 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम अपनी दूसरी पारी में नियमित अंतराल पर विकेट गंवाते चली गई। 
 
चौथे दिन टीम ने 22 रन के स्कोर पर ही अपने तीन विकेट गंवा दिए। सरवटे ने तीनों विकेट अपने नाम किए। इन तीन विकेटों में हार्विक देसाई (8), स्नेल पटेल (12) और भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (0) भी शामिल हैं। इसके बाद मेहमान टीम ने 34 के कुल स्कोर पर अर्पित वासवादे (5) और 55 के स्कोर पर शेल्डन जैकसन (7) का भी विकेट गंवा दिया। 
 
पांचवें दिन जीत के लिए उसे 148 रन की दरकार थी जबकि विदर्भ को अपना खिताब बचाने के लिए पांच विकेट की। ऐसे में मुकाबला रोचक होने के उम्मीद थी लेकिन सौराष्ट्र की टीम ने पांचवें दिन के पहले ही सत्र में हार मान ली और खिताब विदर्भ की झोली में डाल दिया।
 
उल्लेखनीय है कि विदर्भ टूर्नामेंट के इतिहास की छठी टीम है जिसने खिताब बरकरार रखा है। मुंबई, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और दिल्ली ने इससे पहले लगातार दो खिताब जीते हैं। सौराष्ट्र का खिताबी जीत का सपना एक बार फिर टूट गया। वह 2012-13 और 2015-16 में भी उपविजेता रहा था। चेतेश्वर पुजारा का नाकाम रहना सौराष्ट्र को बुरी तरह खला। दूसरी ओर वसीम जाफर का बल्ला नहीं चलने के बावजूद विदर्भ ने जीत दर्ज की।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS