ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में बलआ के राज मार्केट स्थित दवा दुकानदार की अपराधियों ने रात्रि में गोली मार हत्या कीरक्सौल के ई. कुंदन श्रीवास्तव ने आर्थिक मदद कर सत्याग्रह ट्रेन से आये यात्रियों को दिया भोजन का पैकेटझारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जान
बिहार
यूजीसी ने कहा धैर्य रखिए, जल्द आ रहा है नया एकेडमिक कलेंडर
By Deshwani | Publish Date: 22/4/2020 10:35:37 PM
यूजीसी ने कहा धैर्य रखिए, जल्द आ रहा है नया एकेडमिक कलेंडर

समस्तीपुर उमेश काश्यप देश के सभी राज्य और उनके विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं कराना सबसे पहली प्राथमिकता और सबसे बड़ी चुनौती है। मौजूदा लाॅकडाउन के कारण इस साल परीक्षा और छात्रों के पास होने के नियमों में बदलाव हो सकता है। नई गाइडलाइन के बाद ही ये सबकुछ तय होगा। इस बीच यूजीसी ने अपने छात्र और शिक्षकों से कहा है कि परीक्षाओं की गाइडलाइन और नया एकेडमिक कलेंडर जल्द जारी किया जाएगा।

 
 
 
यूजीसी के सचिव रजनीश जैन ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय सहित अन्य विश्वविद्यालय को पत्र भेजकर कहा है कि छात्र, शिक्षक और अभिभावक एग्जाम और एकेडमिक सेशन की देरी पर अपनी चिंता जाहिर कर रहे हैं। यूजीसी इसे गंभीरता से ले रही है। ये मुद्दा पहली प्राथमिकता पर है। इसके लिए गठित की गई कमेटी जल्द ही अपनी सिफारिशें यूजीसी को सौंपेगी। इन सिफारिशों पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ चर्चा कर गाइडलाइन जारी की जाएंगी। इसके आधार पर सभी यूनिवर्सिटी और काॅलेज अपनी योजना तैयार कर परीक्षाएं और एडमिशन शुरू कर सकेंगे।
दरअसल, नए केडमिक कलेंडर के लिए 6 अप्रैल को हरियाणा सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वीसी आरसी कुहाड़ की अध्यक्षता में सात सदस्यीय कमेटी गठित की गई थी। इसमें वनस्थली विद्यापीठ, श्रीवैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय, पंजाब यूनिवर्सिटी के वीसी, यूजीसी के रिसर्च सेंटर आईयूएसी के डायरेक्टर और दो सचिव शामिल हैं। ये कमेटी जल्द ही अपनी रिपोर्ट यूजीसी को सौंपेगी।
 
 
 
ये हो सकते हैं बदलाव ऑल इंडिया काउंसिल फाॅर टेक्निकल एजूकेशन (AICTE) की ओर से डीम्ड यूनिवर्सिटी और इंजीनियरिंग काॅलेजों के टीचर और स्टूडेंट के लिए जारी की गई गाइडलाइन से ये संकेत मिले हैं कि कमेटी की सिफारिशों पर परीक्षा के नियमों में बदलाव हो सकता है। साथ ही छात्रों पर लागू होने वाले परीक्षा पास करने के नियमों में बदलाव संभव है। दूसरी ओर, ऑनलाइन परीक्षा कराने पर सहमति नहीं बन रही है। एग्जाम जब भी होंगे पेपर-पेंसिल बेस्ड ही होंगे। छुट्टियों को आगे-पीछे किया जा सकता है। छात्रों को फिलहाल बिना एग्जाम प्रोविजनल रूप अगले साल में प्रमोट किया जा सकता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS