ब्रेकिंग न्यूज़
नामकुम के पास भयंकर सड़क हादसा, बोलेरो-ट्रक की टक्‍कर में 7 लोगों की मौततीन चरणों में नहीं खुलेगा भाजपा का खाता: अखिलेश यादवआप-कांग्रेस में गंठबंधन को लेकर नहीं बनी बात, सिसोदिया ने कही ये बातफिल्म यारियां की एक्ट्रेस एवलिन शर्मा को याद आए पुराने दिन, शेयर की ये तस्वीरेंराष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने म्यूलर जांच रिपोर्ट को पूर्णतया असत्य और निराधार बतायासुपौल में राहुल ने पीएम पर जमकर साधा निशाना, कहा- चौकीदार को ड्यूटी से हटाने वाली है जनताफारबिसगंज में बोले प्रधानमंत्री मोदी, जनता की तपस्या को विकास कर लौटाऊंगाबेकार गई राणा और रसेल की पारी, बेंगलुरु ने 10 रन से जीता रोमांचक मुकाबला
रांची
संयुक्त फ्रंट बना रहे हैं मा‌ओवादी-पीएफआइ
By Deshwani | Publish Date: 6/8/2018 5:41:34 PM
संयुक्त फ्रंट बना रहे हैं मा‌ओवादी-पीएफआइ

रांची। प्रतिबंधित भाकपा माओवादी व पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआइ) समान विचारधारावाले संगठनों के साथ मिलकर संयुक्त फ्रंट बनाना चाह रहे हैं।

 
इसका उद्देश्य सरकार के खिलाफ प्रचार करना है, जैसा कि इन दोनों संगठन के लोगों ने केरल में दो माओवादी नेताओं के मारे जाने के बाद किया था. केंद्र ने राज्य सरकार को इससे संबंधित सूचना भेजी है. साथ ही इन संगठनों पर नजर रखने का निर्देश दिया है। केंद्रीय गृह विभाग के उपसचिव  हेमलता ने  राज्य के गृहसचिव को इस संबंध  में  पत्र भेजा है। 
 
इसमें कहा गया है कि झारखंड सरकार ने माओवादी संगठन, पीएफआइ और मजदूर संगठन समिति को प्रतिबंधित कर दिया है। अब समान विचारधारावाले ये संगठन अपने समान उद्देश्यों के लिए संयुक्त फ्रंट बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें से कुछ संगठनों ने झारखंड सरकार द्वारा लगायी गयी पाबंदी की आलोचना की है।   
 
कहा जा रहा है कि सरकार इन संगठनों पर पाबंदी लगा कर आदिवासियों को अपना निशाना बना रही है और विस्थापन सहित अन्य मुद्दों पर जारी आंदोलन को दबाना चाह रही है। सरकार  सुनियोजित योजना के तहत इन संगठनों पर पाबंदी लगा कर अल्पसंख्यकों के अधिकार के लिए चल रहे संगठन के काम को भी प्रभावित कर रही है।
 
रिपोर्ट में विस्थापन विरोधी आंदोलन के नेताओं और रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट के लोगों का भी नाम है. पत्र के मुताबिक इन संगठनों का संबंध मा‌ओवादियों से है। गृह विभाग को इस बात की सूचना है कि इन संगठनों में से एक  ने झारखंड हाइकोर्ट में मा‌ओवादी संगठनों को कानूनी सहायता पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।
 
माओवादियों से करीबी संबंध रखनेवालों ने झारखंड सरकार द्वारा माओवादी संगठनों और पीएफआइ पर लगायी गयी पाबंदी को वापस लेने की मांग की है। केंद्र ने कहा कि  परिस्थितियों को देखते हुए राज्य सरकार  इन संगठनों की गतिविधियों पर पैनी नजर रखे और रोकने के लिए जरूरी कदम उठाये।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS