ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
झामुमो तथ्यों पर बात करे : प्रवीण प्रभाकर
By Deshwani | Publish Date: 11/7/2017 7:20:33 PM
झामुमो तथ्यों पर बात करे : प्रवीण प्रभाकर

रांची,  (हि.स.)। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा है कि झामुमो गीदड़भभकी नहीं दे, अगर उसके पास तथ्य हैं, तो वह सामने लाये। इस तरह की धमकी से भाजपा डरने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री सह नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन परिवार ने न सिर्फ सीएनटी एक्ट का उल्लंघन किया है, बल्कि चुनाव आयोग, मीडिया और जनता को भी गुमराह किया है। प्रभाकर मंगलवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। प्रभारी ने झामुमो के उस बयान पर पलटवार किया, जिसमें झामुमो ने कहा था कि झामुमो भी उनके कई मंत्रियों के कारनामों का खुलासा करेगी। उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन, कल्पना सोरेन और सीता सोरेन की संपत्ति के खुलासे के बाद आम जनता सन्न है। जनता सोरेन परिवार का असली चेहरा पहचान चुकी है। सोरेन परिवार ने आदिवासियों का रहनुमा बनकर आदिवासियों को ही धोखा देने का काम किया। 
उन्होंने कहा कि सीएनटी एक्ट के सरलीकरण पर हंगामा मचाने वाले हेमंत सोरेन बतायें कि एक्ट की किस धारा के तहत उन्होंने रांची में आदिवासी जमीन खरीदा। हेमंत खुद सीएनटी एक्ट की धज्जियां उड़ाते हैं और भाजपा को बदनाम करते हैं। हेमंत सोरेन अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने की बजाये भाजपा पर भ्रम फैलाने का आरोप लगा रहे हैं और कह रहे हैं कि उन्होंने कुछ नहीं छिपाया है। उन्होंने कहा कि अरगोड़ा मौजा के 30 कट्ठा से ज्यादा जमीन को चुनाव आयोग के हलफनामा में मात्र 3000 वर्गफीट का दिखाया है। सोरेन परिवार ने कल्पना सोरेन के नाम से अरगोड़ा मौजा के खाता 233 एवं प्लाट संख्या 1975 में होल्डिंग संख्या 233/184 की 17 कट्ठा आठ छटाक जमीन फरवरी 2009 में तथा होल्डिंग संख्या 233/232 की 13 कट्ठा 14 छटाक जमीन मार्च 2009 में खरीदी। यह जमीन सीएनटी एक्ट के तहत दूसरे थाना के आदिवासी को हस्तांतरित नहीं की जा सकती। 
उन्होंने कि हेमंत सोरेन को बताना चाहिए कि यह जमीन इतने सस्ते में उन्होंने कैसे ली और चुनाव आयोग से तथ्यों को क्यों छिपाया। प्रभाकर ने सवाल किया कि पांच करोड़ की इस जमीन को चुनाव आयोग को मात्र पांच लाख में खरीदा दिखाया गया है। पांच वर्षों में ही उसका बाजार मूल्य 80 लाख दिया गया। फरवरी 2009 में ही लालपुर में कल्पना सोरेन के नाम पर 13340 वर्गफीट भूमि पर बने 10340 वर्गफीट हॉस्टल को मात्र चार लाख 16 हजार में खरीदा दिखाया गया है और 2014 में इसका बाजार मूल्य 70 लाख बता दिया गया, जबकि यह संपत्ति भी कम से कम पांच करोड़ की है। प्रेसवार्ता में भाजपा के मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक सहित अन्य लोग उपस्थित थे। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS