ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
अब पुलिस से भी स्मार्ट होंगे होमगार्ड के जवान
By Deshwani | Publish Date: 29/6/2017 2:05:24 PM
अब पुलिस से भी स्मार्ट होंगे होमगार्ड के जवान

रांची, (हि.स.)। अब पुलिस से स्मार्ट होंगे होमगार्ड के जवान। इसके लिए होमगार्ड के डीजी बीबी प्रधान ने कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं। पुलिस की तरह ही होमगार्ड के जवानों को भी वर्दी भत्ता दिया जाता है, लेकिन पुलिस के जवानों की तरह होमगार्ड के जवान नियमित रूप से वर्दी में नजर नहीं आते हैं या पुलिस की तुलना में बेहतर ढंग से वर्दी नहीं पहनते। इसकी वजह से पुलिस के जवान अपेक्षाकृत ज्यादा चुस्त-दुरुस्त नजर आते हैं। 

इसे ध्यान में रखते हुए डीजी होमगार्ड बीबी प्रधान ने आदेश जारी किया है। इसमें बेहतर ढंग से वर्दी पहनने से लेकर कई तरह के निर्देश दिए गए हैं, ताकि होमगार्ड के जवान भी स्मार्ट पुलिस से ज्यादा स्मार्ट रहते हुए अनुशासित रूप से काम करें। 
इसके लिए डीजी ने आदेश दिया है कि जिले के पुलिस अधीक्षक की तरह डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट को हर माह सात तारीख को गृह रक्षकों की बैठक बुलानी है। इसमें खास तौर पर गृहरक्षकों के अनुशासन और कल्याण से संबंधित मुद्दों पर बात होगी। 
डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट को यह पता करना है कि सभी होमगार्ड को वर्दी भत्ते का भुगतान हुआ या नहीं। इसके साथ ही उन्हें नियमित रूप से जांच करनी है कि गृहरक्षक वर्दी में ड्यूटी कर रहे हैं या नहीं। इधर, गृह रक्षकों को यह जानकारी देनी है कि ढंग से वर्दी नहीं पाने की स्थिति में उनकी छवि समाज में खराब होती है।
गौरतलब है कि विधि व्यवस्था हो या थाने में पुलिस की कमी हो या कोई समारोह इन सभी कार्यक्रमों की जिम्मेवारी गृह रक्षकों के कंधों पर होती है। ऐसे में उन्हें चुस्त-दुरुस्त होना बेहद ही जरूरी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS