ब्रेकिंग न्यूज़
मैट्रिक में समस्तीपुर के दुर्गेश ने बिहार में द्वितीय स्थान हासिल किया, टॉप टेन में समस्तीपुर के हैं पांच छात्रसमस्तीपुर में ट्रेन रोकने पर प्रवासियों ने काटा बवालसीबीएसई की बाकी परीक्षाएं 1 से 15 जुलाई तक आयोजित, 3 की जगह 15 हजार बनाए गए परीक्षा केन्द्र, अपने ही स्कूल में होगी परीक्षामैट्रिक परीक्षा का परिणाम मंगलवार दोपहर साढ़े 12 बजे सेसमस्तीपुर में एक युवक की गिरफ्तारी के विरोध में सड़क जाम, किया आगजनीमोतिहारी की महिला का समस्तीपुर प्लेटफार्म पर हुआ प्रसवसमस्तीपुर में बाइक लूटने के दौरान दंपति को मारी गोली, पति जख्मीमोतिहारी के राजू ऑटिकल्स Whatsapp से ले रहे चश्मों का आर्डर, लॉकडाउन में मिल रही सुविधा, फ्री होम डिलेवरी
राज्य
सपा विधायक की हत्या में करवरिया बंधु समेत चार को आजीवन कारावास, डेढ़-डेढ़ लाख का जुर्माना भी लगाया
By Deshwani | Publish Date: 4/11/2019 5:46:12 PM
सपा विधायक की हत्या में करवरिया बंधु समेत चार को आजीवन कारावास, डेढ़-डेढ़ लाख का जुर्माना भी लगाया

प्रयागराज। प्रयागराज के बहुचर्चित जवाहर यादव हत्याकांड में पूर्व सांसद कपिल मुनि करवरिया, भाई पूर्व विधायक उदय भान करवरिया, भाई पूर्व एमएलसी सूरज भान करवरिया और रामचंद्र त्रिपाठी को बद्री विशाल पाण्डेय की कोर्ट ने सोमवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई और डेढ़-डेढ़ लाख का जुर्माना लगाया है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगीं। चारों अभियुक्तों को कड़ी सुरक्षा के बीच नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया गया है।
 
ट्रायल कोर्ट ने करवरिया बंधुओं सहित एक अन्य को एडीजे कोर्ट ने बहस पूरी होने के बाद 18 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित कर लिया था और 31 अक्टूबर को हत्या का दोषी करार दिया था। आज चार नवम्बर को सजा का ऐलान होना था। आज सुनवाई के लिए अभियुक्त करवरिया बंधुओं को कड़ी सुरक्षा में कोर्ट परिसर में लाया गया। कोर्ट में सुनवाई शुरू होते ही बचाव पक्ष ने कोर्ट से कम से कम सजा दिए जाने की गुजारिश की। दूसरी तरफ अभियोजन ने अधिक सजा देने की मांग की। 
 
सुनवाई के दौरान प्रयागराज के एडीजे पंचम कोर्ट एवं कचहरी के बाहर भारी सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किये गये थे। इसके लिए कचहरी जाने वाले मार्ग पर चार पहिया वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया था। सायं चार बजे बद्री विशाल पाण्डेय की कोर्ट ने चारों दोषसिद्ध आरोपितों को आजीवन कारावास की सजा और प्रत्येक पर डेढ़-डेढ़ लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया।
 
इस मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजन की ओर से 18 गवाहों के बयान दर्ज कराए गए थे। करवरिया बंधुओं को निर्दोष साबित करने के लिए बचाव पक्ष की ओर से 156 गवाहों को कोर्ट में पेश किया गया था। यहां तक कि भाजपा के वरिष्ठ नेता रहे और मौजूदा समय में राजस्थान के गवर्नर कलराज मिश्रा की भी गवाही हुई थी। 
 
कोर्ट में सजा सुनाए जाने के बाद बाहर निकलकर उदयभान करवरिया ने समर्थकों से कहा कि हौसला न खोना, मुझे भूल न जाना। मैं लौटकर फिर आऊंगा शांति बनाए रखो। यह राजनैतिक सजा है, हाईकोर्ट से न्याय होगा।
 
बता दें कि 13 अगस्त 1996 की शाम 7 बजे जवाहर पंडित की गोलियों से भूनकर हत्या हुई थी। सिविल लाइंस में पैलेस सिनेमा और कॉफ़ी हाउस के बीच एके-47 राइफल से जवाहर पंडित की हत्या की गई थी। सपा विधायक जवाहर पंडित के साथ ही उनके ड्राइवर गुलाब यादव और एक राहगीर कमल कुमार दीक्षित की भी गोली लगने से मौत हो गई थी। जबकि विधायक पर हुए हमले में पंकज कुमार श्रीवास्तव और कल्लन यादव घायल हो गए थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS