ब्रेकिंग न्यूज़
तहकीकात बाद दें किराया, मोतिहारी के अंबिकानगर लॉज से पटना से अपहृत छात्र मुक्त, प्रिंस पाण्डेय समेत 5 गिरफ्तारमोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनानेवाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधनकेन्द्र सरकार के गृह राज्यंत्री, बिहार के भाजपा अध्यक्ष व विधायक साथ रक्सौल में 47 वी बटालियन आउट पोस्ट का जायजा लियाबेतिया में नाजायज संबंध के विरोध पर पति ने पत्नी को दिया तलाकमोतिहारी के सुगौली में परिज सुबह जगे तो देखा पति व गर्भवती पत्नी की गला रेत कर हत्या, फौरेंसिक टीम पहुंची, खून से सना चाकू बरामद, एसआईटी गठितबेगूसराय में तेज रफ्तार बोलेरो की चपेट में आने से एक ही मोहल्ले के तीन लोगों की मौतपटना में बाइक सवार दो अपराधियों ने डेयरी एजेंट की कनपटी पर पिस्टल सटाकर लूटे 2.50 लाख रुपएजे.एन.यू हिंसा मामले में गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट
राज्य
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भोजपुरी में दी प्रदेशवासियों को छठ पर्व की बधाई
By Deshwani | Publish Date: 2/11/2019 12:47:52 PM
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भोजपुरी में दी प्रदेशवासियों को छठ पर्व की बधाई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज छठ पूजा पर समस्त प्रदेशवासियों को पहली बार भोजपुरी में बधाई दी। इस अवसर पर सीएम योगी ने अपने बधाई संदेश में कहा, 'आस्था एवं पवित्रता से परिपूर्ण सूर्य उपासना के पर्व 'छठ' की समस्त देशवासियों को शुभकामनाएं.' छठ पूजा के माध्यम से जिस सामाजिक समता और समरसता के निर्माण का संकल्प हम लोग लेते हैं उसे अपने व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में सभी लोग अपनाएं, मैं ऐसी कामना करता हूं।
 
 
आज सुबह मुख्यमंत्री योगी ने ट्वीट कर भोजपुरी में कहा कि आप सब लोगन के हमरे ओर से 'छठ' के बहुत बहुत बधाई, छठी मईया आप सब लोगन के हर तरह से कल्याण करें। आप सब पर उनकर किरपा बनल रहे. जय छठी मईया। बता दें कि आज शाम को सीएम योगी लखनऊ में आयोजित छठ कार्यक्रम में भी शामिल होंगे।
 
दरअसल उत्तर भारत में छठ पूजा का विशेष महत्व होता है। इस त्योहार को बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में धूमधाम के साथ मनाया जाता है। छठ पर्व दिवाली के छह दिनों के बाद सेलिब्रेट किया जाता है। जिसे कार्तिक शुक्ल की पष्ठी तिथि को मनाते हैं। यह त्योहार 31 अक्टूबर से शुरू हो गया था जो कि 3 नवंबर को खत्म हो रहा है। इस त्योहार की शुरूआत नहाए-खाए से होती है।
 
पहले दिन नहाए-खाए के बाद छठ के दूसरे दिन खरना होता है। खरना में लोग शाम को खाना खाते हैं। वहीं तीसरे चरण में लोग सूर्य पष्ठी मनाते हैं। इसमें सूर्य डूबने के बाद अर्घ्य देते हैं। इसके बाद चौथे और अंतिम चरण में होता है सूर्य का अर्घ्य महापर्व, जिसमें व्रती लोग उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS