ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
राज्य
चमोली में हाईवे पर कई जगह पहाड़ी से गिरा मलबा, बदरीनाथ और हेमकुंड यात्रा रुकी, अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट
By Deshwani | Publish Date: 12/8/2019 2:57:18 PM
चमोली में हाईवे पर कई जगह पहाड़ी से गिरा मलबा, बदरीनाथ और हेमकुंड यात्रा रुकी, अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट

देहरादून। उत्तराखण्ड में अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। रविवार से हो रही तेज बारिश का दौर आज भी जारी है, जिससे प्रदेश के नदी नाले उफान पर हैं। चमोली में अतिवृष्टि से जान-माल का काफी नुकसान हुआ है। वहीं बारिश और भूस्खलन के कारण बदरीनाथ और हेमकुंड यात्रा रोक दी गई है। तीर्थयात्रा पर जा रहे यात्री जगह-जगह हाईवे खुलने का इंतजार कर रहे हैं। मौसम विभाग की ओर से जारी अलर्ट के बाद प्रशासनिक स्तर पर पूरी एहतियात बतरी जा रही है।

 
उत्तराखंड में चमोली में रविवार रात से सोमवार सुबह तक जारी बारिश से हाईवे पर कई जगह मलबा आ गया है। इस कारण बदरीनाथ और हेमकुंड यात्रा रोक दी गई है। तीर्थयात्रा पर जा रहे यात्री जगह-जगह हाईवे खुलने का इंतजार कर रहे हैं। हाईवे बाजपुर, कौड़िया, लामबगड़ और कंचनगंगा में अवरुद्ध है। जिले में भूस्खलन के कारण संपर्क मोटर मार्ग बंद हो गए हैं। ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे पर यातायात सामान्य रूप से चल रहा है। वहीं केदारनाथ यात्रा भी जारी है।
 
चमोली जिले के घाट क्षेत्र में हुई अतिवृष्टि से क्षेत्र के तीन अलग-अलग स्थानों में जनहानि से बांजबगड़ में दबी मां-बेटी का शव बरामद कर लिया गया है। वहीं आली गांव में दबी युवती का शव भी बरामद किया गया है। इधर लांखी गांव में मकान के ध्वस्त होने के बाद तीन लोगों के दबे होने की आशंका क्त की जा रही है। आपदा परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार घाट क्षेत्र के बांजबगड में मकान के ध्वस्त होने के बाद उसमें मां और बेटी दब गये थे, जिनका शव बरामद किया गया है। इनकी पहचान रूपा देवी पत्नी अब्बल सिंह और उनकी नौ माह की पुत्री चंदा के रूप में हुई। 
 
सोमवार को देहरादून सहित प्रदेश भर में लगातार हो रही बारिश से शहर के बिंदाल और रिस्पना नदियों में एकाएक पानी बढ़ गया, जिससे नदी तट पर रहने वालों का जीवन खतरा में पड़ गया है। बारिश के चलते जिले के 17 ग्रामीण मोटर मार्ग बाधित हैं, जिसे खोलने का कार्य जारी है। देहरादून के मन्दाकिनी विहार में भारी बारिश के कारण आवासीय भवनों में पानी घुसने की सूचना पर मसूरी विधायक गणेश जोशी ने एसडीएम सदर कमलेश मेहता के साथ मौके पर जाकर निरीक्षण किया और प्रशासन को तत्काल प्रभावित लोगों को राहत दिये जाने को निर्देशित किया।
 
 
ऋषिकेश केदारनाथ राष्ट्रीय मार्ग पर (एनएच 107) पर मलवा आने से मार्ग बाधित है, जबकि सोनप्रयाग केदारनाथ मार्ग पैदल यात्रियों के लिए चालू है। रूद्रप्रयाग जिले में कुल 04 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद है, जिसे खोलने का कार्य जारी है। बागेश्वर में 11 ग्रामीण मोटर मार्ग और पिथौरागढ़ में एक राज्य और 11 ग्रामीण मार्ग और नैनीताल में दो मार्ग बाधित है। ऋषिकेश गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग(एनएच 108) गंगोत्री और युमनोत्रि मार्ग एनएच 94 जानकरीजट्टी तक जाने के लिए छोटे बड़़े वाहनों के लिए तक  खुला है, जबकि चमोली जिले में 29 मोटर मार्ग और पौड़ी में चार ग्रामीण मोटर मार्ग और टिहरी में चार ग्रामीण मार्ग बंद पड़े है। इन सभी मार्गो को खलने का कार्य जारी है।
 
मौसम विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में राजधानी देहरादून, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल, चमोली, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग तथा पिथौरागढ़ में अगले 24 घंटों के दौरान कई चमक और तेज बौछार के साथ भारी बारिश होने की संभावना हैं। जबकि हरिद्वार, अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, पिथौरागढ़ और उधमसिंह नगर में भी बारिश के आसार हैं। वहीं 13 और 14 अगस्त को देहरादून, बागेश्वर, पौड़ी, नैनीताल, चमोली, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग तथा पिथौरागढ़ में बारिश को लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। इस दौरान बारिश के साथ मैदानी और पर्वतीय इलाकों में भूस्खलन की संभावना बन सकती है।
 
मौसम केंद्र निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि अगले पांच दिनों तक प्रदेश के अन्य इलाकों में में बादल छाये रहेंगे। इस दौरान चमक और गरज के साथ पवर्तीय क्षेत्रों में तेज बारिश के आसार बन रहे है। अगले 16 अगस्त तक मौसम का प्रभाव इसी तरह बना रहेगा। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS