ब्रेकिंग न्यूज़
मार्केटिंग कंपनी ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राईवेट लिमिटेड कंपनी से तीन युवक गिरफ्तारअधूरे टीकाकरण में इंद्रधनुष भरेगा रंग, चार चरणों में होगा टीकाकरणधारा 370 संपर्क अभियान के तहत पांच बुद्धिजीवी एवं प्रबुद्ध नागरिकों से मिलकर प्रतिनिधिमंडल ने इन विषय में दी जानकारीचिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- अपमानित करने के लिए जेल में रखना चाहती है सीबीआई, सुनवाई कलडबल इंजन के कारण झारखंड में विकास की गति हुई दोगुनी: सुधांशु त्रिवेदीअगला युद्ध स्वदेशी शस्त्र प्रणालियों के साथ लड़ेंगे और जीतेंगे: बिपिन रावतश्रीनगर में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन, हिरासत में ली गई फारुक अब्दुल्ला की बहन और बेटीजम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करना आतंक के खात्मे की दिशा में एक बड़ा कदम: अमित शाह
राज्य
बिजली के अभाव में अटकी 21 पेयजल परियोजनाएं, करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद ये सभी ओवरहेड टैंक निष्प्रयोज्य
By Deshwani | Publish Date: 5/8/2019 6:52:59 PM
बिजली के अभाव में अटकी 21 पेयजल परियोजनाएं, करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद ये सभी ओवरहेड टैंक निष्प्रयोज्य

कुशीनगर। जनपदवासियों को पेयजल मुहैया कराने के लिए जल निगम की तमाम परियोजनाओं पर बिजली बाधक है। 21 गांवों में बने ओवरहेड टैंक बिजली कनेक्शन के अभाव में हाथी का दांत साबित हो रहे हैं। उनसे पानी की आपूर्ति शुरू नहीं हो पाई है। हालांकि जल निगम ने इस मद में विद्युत निगम को धन भी आवंटित कर दिया है। करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद ये सभी ओवरहेड टैंक निष्प्रयोज्य पड़े हैं।

 
जनपद में पेयजल संकट गहराता जा रहा है। यहां के पानी में आर्सेनिक और बैक्टीरिया पाए जाने के कारण बहुत से हैंडपंपों का पानी पीने योग्य नहीं रह गया है। इस वजह से साधारण हैंडपंपों का पानी पीने पर तो पहले से ही रोक लगी हुई है, अब इंडिया मार्क टू हैंडपंप का पानी भी सुरक्षित नहीं रह गया है। जल निगम की तरफ से इन हैंडपंपों के पानी की जांच में यह बात पुष्ट भी हो चुकी है। लिहाजा अब ज्यादा गहराई वाले ओवरहेड टैंकों का पानी ही पीने के लिए अधिक सुरक्षित माना जा रहा है। 
 
इसे देखते हुए जल निगम की तरफ से जिले के विभिन्न गांवों में करोड़ों रुपये खर्च करके ओवरहेड टैंक बनवाए गए हैं। कई गांवों में तो पाइपलाइन बिछाने के साथ पानी के आपूर्ति की पूरी तैयारी भी कर ली गई है, लेकिन बिजली कनेक्शन ही न मिल पाने के कारण इन ओवरहेड टैंकों से पेयजल की आपूर्ति शुरू नहीं हो सकी है, जबकि जलनिगम ने विद्युतीकरण के लिए विद्युत निगम को धन भी भेज दिया है। जिले में ऐसे 21 ओवरहेड टैंक हैं, जिन्हें विद्युत कनेक्शन से जुड़ने का इंतजार है।
ओवरहेड टैंक के विद्युतीकरण पर भुगतान की गई धनराशि
 
फाजिलनगर ब्लॉक के महासोन में बने ओवरहेड टैंक को बिजली कनेक्शन देने के लिए 10.04 लाख, धनौजी कला में 4.83 लाख, नेबुआ नौरंगिया के पकड़ियार में 5.24 लाख, सेखुई खास में 5.63 लाख, सुकरौली के देवकली 2.66 लाख, गिदहां में 9.22 लाख, विशुनपुरा के सिंगापट्टी में 7.58 लाख, बबुइया हरपुर में 8.33 लाख, फाजिलनगर के बनकटा बाजार में 3.13 लाख और रुदवलिया में बने ओवरहेड टैंक के लिए 5.44 लाख रुपये विद्युत निगम को आवंटित किए जा चुके हैं। 
 
इसी तरह मोतीचक के नान्हू मुंडेरा में 3119 लाख, सेवरही के बहादुरपुर में 5.80 लाख, तमकुही के सोंदिया बुजुर्ग में 3.50 लाख, फाजिलनगर के सोहंग में 6.93 लाख, फाजिलनगर के विशुनपुर राजा में 6.80 लाख, भठही खुर्द में 5.41 लाख, तमकुही के बरईपट्टी में 6.00 लाख, फाजिलनगर के धौरहरा में 6.96 लाख, परसौनीत्र् में 2.92 लाख, तमकुही के गोसाईपट्टी में 5.62 लाख और बसडीला पांडेय में 3.23 लाख रुपये विद्युतीकरण के लिए आठ से 12 माह पूर्व ही जलनिगम की ओर से भुगतान किया जा चुका है, लेकिन अब तक विद्युतीकरण नहीं हुआ।
 
अनिल कुमार गौंड़, अवर अभियंता, जल निगम का कहना है कि पेयजल परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं। उन्हें चालू करने के लिए बिजली कनेक्शन की जरुरत है, जिसके लिए विद्युत निगम को कई बार पत्र भेजा जा चुका है। यही नहीं सभी ओवरहेड टैंकों को बिजली कनेक्शन देने के लिए वर्ष 2018 से जनवरी 2019 के बीच विद्युत निगम को धन भी आवंटित कर दिया गया है। फिर भी बिजली कनेक्शन नहीं मिल पाया है। 
 
इस  संंबंध   में आरके गुप्ता, अधीक्षण अभियंता (विद्युत) में कार्यभार संभाले अभी दो सप्ताह ही हुए हैं। ओवरहेड टैंकों से पेयजल आपूर्ति शुरू कराने के लिए जल्द ही कनेक्शन दिया जाएगा। इसके लिए संबंधित अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ बैठक कर एक सप्ताह के अंदर कनेक्शन जोड़ने की व्यवस्था की जाएगी। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS