ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
राज्य
मानहानि केस: केजरीवाल और सिसोदिया को मिली जमानत, 25 जुलाई को होगी अगली सुनवाई
By Deshwani | Publish Date: 16/7/2019 12:13:38 PM
मानहानि केस: केजरीवाल और सिसोदिया को मिली जमानत, 25 जुलाई को  होगी अगली सुनवाई

नई दिल्ली। दिल्ली की एक कोर्ट ने विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता की ओर से दायर आपराधिक मानहानि के मामले में आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को जमानत दे दी है। एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल की कोर्ट ने दोनों को दस-दस हजार रुपये के मुचलके पर जमानत दी है। मामले की अगली सुनवाई 25 जुलाई को होगी।
 
पिछले 8 जुलाई को कोर्ट ने केजरीवाल और सिसोदिया को समन जारी किया था। पिछले 27 जून को दो गवाहों ने दिल्ली की राऊज एवेन्यू कोर्ट में अपना बयान दर्ज कराया था। जिन गवाहों ने अपने बयान दर्ज कराए थे उनमें दीपक बंसल और अनुराग मलिक शामिल हैं। दीपक बंसल भारतीय जनता युवा मोर्चा के दिल्ली राज्य के सचिव हैं जबकि अनुराग मलिक दिल्ली यूनिवर्सिटी के लॉ के छात्र हैं। पिछले 26 जून को याचिकाकर्ता विजेंद्र गुप्ता ने अपना बयान दर्ज कराया था।
 
अपने बयान में विजेंद्र गुप्ता ने कहा था कि वे केजरीवाल और सिसोदिया के झूठे आरोपों वाले बयानों से काफी आहत हुए। ये बयान लोकसभा के अंतिम चरण में पंजाब में होनेवाले चुनाव को प्रभावित करने के उद्देश्य से दिए गए थे। उन्होंने कहा था कि दोनों आप नेताओं के बयानों के बाद उनके पास कई लोगों के फोन आने लगे। केजरीवाल के ट्वीट करीब तीन हजार बार रिट्वीट किए गए जबकि सिसोदिया के ट्वीट 1300 बार रिट्वीट किए गए।
 
पिछले 6 जून को कोर्ट ने विजेंद्र गुप्ता की याचिका पर संज्ञान लिया था। याचिका में विजेंद्र गुप्ता ने कहा है कि केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने उनकी छवि धूमिल करने के लिए कहा कि केजरीवाल की हत्या की साजिश में विजेन्द्र गुप्ता शामिल हैं। विजेंद्र गुप्ता ने इस बयान पर माफी मांगने के लिए केजरीवाल और सिसोदिया को लीगल नोटिस भेजा था। लेकिन नोटिस का जवाब न मिलने पर विजेंद्र गुप्ता ने दोनों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर दिया।
 
पिछले 18 मई को केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि 'भाजपा मुझे क्यों मरवाना चाहती है? मेरा कसूर क्या है? मैं देश के लोगों के लिए स्कूल और अस्पताल ही तो बनवा रहा हूं। पहली बार देश में स्कूल और अस्पताल की सकारात्मक राजनीति शुरू हुई है। भाजपा इसको खत्म करना चाहती है। लेकिन अंतिम सांस तक मैं देश के लिए काम करता रहूंगा।' इसके बाद मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि 'बीजेपी सीएम की हत्या करवाना चाहती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS