ब्रेकिंग न्यूज़
मार्केटिंग कंपनी ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राईवेट लिमिटेड कंपनी से तीन युवक गिरफ्तारअधूरे टीकाकरण में इंद्रधनुष भरेगा रंग, चार चरणों में होगा टीकाकरणधारा 370 संपर्क अभियान के तहत पांच बुद्धिजीवी एवं प्रबुद्ध नागरिकों से मिलकर प्रतिनिधिमंडल ने इन विषय में दी जानकारीचिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- अपमानित करने के लिए जेल में रखना चाहती है सीबीआई, सुनवाई कलडबल इंजन के कारण झारखंड में विकास की गति हुई दोगुनी: सुधांशु त्रिवेदीअगला युद्ध स्वदेशी शस्त्र प्रणालियों के साथ लड़ेंगे और जीतेंगे: बिपिन रावतश्रीनगर में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन, हिरासत में ली गई फारुक अब्दुल्ला की बहन और बेटीजम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करना आतंक के खात्मे की दिशा में एक बड़ा कदम: अमित शाह
राज्य
कुशीनगर में महिला की हत्या के प्रयास में सात साल की सजा
By Deshwani | Publish Date: 6/7/2019 5:42:42 PM
कुशीनगर में महिला की हत्या के प्रयास में सात साल की सजा

कुशीनगर। भानु तिवारी। जिले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम विवेकानंद शरण त्रिपाठी ने महिला की हत्या के प्रयास में आरोपी को दोष सिद्ध ठहराते हुए सात साल की सजा सुनाई है। मामला विशुनपुरा थाना क्षेत्र के विशुनपुर बरियापट्टी के टोला सेमरवारी का है।

 
एडीजीसी अरुण कुमार दूबे ने बताया कि 2 अक्टूबर 2015 को सेमरवारी टोले की रहने वाली सुखली ने विशुनपुरा थाने में तहरीर दी थी कि उसका पति पूना में रहकर मजदूरी करता है। वह अपनी मां शमशुन नेशा के साथ घर पर रहती है। 1 अक्टूबर 2015 की रात उसकी मां घर में चटाई बिछाकर नमाज पढ़ रही थी तभी टोना-टोटका को लेकर गांव के ही अलाउद्दीन अंसारी घर में घुसकर धारदार हथियार से गर्दन पर वार कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया और मौके से फरार हो गया। आनन-फानन में उसकी मां को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र दुदही ले जाया गया जहां प्राथमिक इलाज के बाद डाक्टरों ने उसे जिला अस्पताल और वहां से मेडिकल कालेज गोरखपुर रेफर कर दिया। 
 
इस मामले में तहरीर के आधार पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने विवेचना प्रारंभ की। आरोपी के खिलाफ 18 मार्च 2016 को आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल हो गया। न्यायालय में सुनवाई के लिए मुकदमे की वादी एवं उसकी घायल मां समेत कुल छह लोग साक्ष्य के लिए प्रस्तुत हुए। दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद न्यायाधीश ने शनिवार को फैसला सुनाया। आरोपी को दोष सिद्ध ठहराते हुए न्यायाधीश ने उसे सात साल की सजा सुनाई। इसके साथ ही 10 हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS