ब्रेकिंग न्यूज़
चीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौतनफरत को खत्म करने, संविधान को बचाने, एन आर सी, सी ए ए जैसे काले कानून के खिलाफ भारत के गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है शाहीन बाग: पप्पू यादवधार्मिक कार्यक्रम में जा रहे हजारों भारतीयों को नेपाल ने करोना वायरस की आशंका से गुरुवार की रात्रि रोका, वार्ता के बाद आज मिली एन्ट्रीपुलवामा हमले के शहीदों को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि
राज्य
जमाने की बुरी नजर से बचने के लिए मौसेरी बहनों ने रचाई शादी
By Deshwani | Publish Date: 4/7/2019 11:08:33 PM
जमाने की बुरी नजर से बचने के लिए मौसेरी बहनों ने रचाई शादी

वाराणसी। रोहनिया, मोहनसराय क्षेत्र के घांगलवीर बाबा मंदिर के पीछे स्थित शिवमंदिर में मंगलवार को दो युवतियांं एक-दूसरे को जयमाल डाल परिणय सूत्र में बंध गईं। दोनों युवतियां शादी के बाद कानपुर रवाना हो गईं। शादी करने वाली एक युवती कानपुर तो दूसरी वाराणसी से है।

 
मंदिर की व्यवस्था देखने वाले गोपाल जी ने बताया कि जब दोनों लड़कियां आयी और शादी की बात करने लगी तो गोपाल ने कहा कि लड़का कहां है जिसपर लड़कियों ने कहा कि हमलोग आपस में करेंगे तो पूछा की ऐसा क्यों कर रही हो तो उनलोगों ने बताया कि हमलोग मौसेरी बहन हैं और एक दूसरे को बहुत चाहते हैं घरवाले शादी कर देंगे तो हमलोग अलग हो जाएंगे। एक दूसरे के बिना रह नही सकते और इस तरह शादी करने से मांग में सिंदूर और मंगलसूत्र पहनने से जमाने की बुरी नजर से बच जाएंगी।
 
दोनों एक दूसरे के साथ-साथ रहने और एक दूजे के लिए जीने मरने की कसमें खाई और उसके बाद दोनों भगवान को साक्षी मानकर एकदूसरे को जयमाला डाल दिया व मंगलसूत्र और सिंदूर भी पहना दिया। विवाहोपरांत मंदिर से जाने के पहले उन्होंने बताया कि कानपुर चले जाएंगे।
 
गांव के मंदिर पर पहली बार इस तरह की शादी देखकर लोगों में बहुत ही कौतूहल रहा। यह दोनों लड़कियां मंदिर में शादी में सहयोग करने के लिए किसी को भी साथ लेकर नहीं गई थीं लेकिन इनके साथ घराती और बाराती भी शामिल हो लिए। 
 
दरअसल वहीँ पर एक शादी हो रही थी जिसमें लड़का पक्ष कल्लीपुर मिर्जामुराद और लड़की पक्ष सातों जंसा के थे जो अपनी शादी छोड़कर इन दोनों लड़कियों की अनोखी शादी के गवाह बन गए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS