ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
राज्य
कुशीनगर में बड़ी गंडक नदी का जलस्तर बढ़ा, कटान से ग्रामीणो में दहशत
By Deshwani | Publish Date: 24/6/2019 10:38:45 PM
कुशीनगर में बड़ी गंडक नदी का जलस्तर बढ़ा, कटान से ग्रामीणो में दहशत

कुशीनगर। भानु तिवारी। जिले में इधर दो दिनों तक हुई मूसलाधार बारिश के बाद कुशीनगर में बड़ी गंडक नदी का जलस्तर बढ़ गया है। इससे नदी अभी से ही ठोकरों पर दवाब बनाने लगी है। दबाव बढ़ने के बाद नदी बैकरोलिंग के कारण तेजी से कटान भी कर रही है। कटान देख बंधे के आसपास बंसे गांवों के ग्रामीण सकते में आ गए हैं। 

 
एपी तटबंध के बरवापट्टी गांव के पास किमी शून्य पर जलस्तर बढ़ने के कारण कटान तेज हो गया है। ठोकरों के साथ-साथ किसानों की जमीन भी नदी के आगोश में समा रही है। बीते वर्ष इसी जगह पर नदी ने अपना भयानक रूप अख्तियार कर लिया था और मेन बंधे को अपना निशाना बनाया था। नदी के विकराल रूप को देख बरवापट्टी, कैथवलिया, खैरटिया, गोबरहा, बिचपटवा, कौवाखोह के ग्रामीणों में खलबली मच गई थी। लेकिन सिंचाई विभाग ने समय से बचाव कार्य को पूरा किया, जिससे मेन बांध को बचा लिया गया था।
 
उसी समय प्रदेश सरकार की मंत्री स्वाति सिंह का दौरा हुआ था और इस आपदा से बचने के लिए चार परियोजनाओं पर कार्य करने के लिए आदेश दिया गया। कुछ ही दिन बाद धन भी अवमुक्त हो गया, लेकिन बीते अगस्त से लेकर आज तक चार परियोजनाओं की कौन बात करें, किसी पर भी काम नहीं शुरू हो सका।
 
बाढ़ बचाव परियोजनाओं पर काम न होने के कारण किमी शून्य पर नदी ने अभी से अपना निशाना ठोकरों पर बनाना शुरू कर दिया है। नदी कटान कर काश्तकारों की जमीन को भी अपने आगोश में लेने लगी है। बावजूद इसके बाढ़ विभाग चुप्पी साधे हुए बैठा है।
 
बाढ़ खंड के अधिशासी अभियंता भरत कुमार ने बताया कि जो परियोजना बनी थी, उस पर कार्य भी हुआ है। लेकिन बीच में कुछ तकनीकी गड़बड़ी की वजह से काम नहीं हो सका था। जो इस समय चालू है। बैकरोलिंग की वजह से हल्की कटान तो होती रहती है। इसमें घबराने की बात नहीं है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS