ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
राज्य
कुशीनगर के किसान ने आर्थिक तंगी के कारण फांसी लगाकर जान दी
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 8:54:43 PM
कुशीनगर के किसान ने आर्थिक तंगी के कारण फांसी लगाकर जान दी

कुशीनगर। भानु तिवारी। जिले के कसया थाना क्षेत्र के ग्राम धुरिया में एक किसान ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी है। यह किसान कर्ज को लेकर काफी दिनों से परेशान चल रहा था। मृतक के बेटे के अनुसार कर्ज से परेशान होकर ही उसके पिता ने अपनी जान दे दी है। इस मामले में पुलिस को तहरीर दे दी गई है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिवार के हवाले कर दिया है। गुरुवार की सुबह किसान का अंतिम संस्कार किया गया।

 
बुधवार को ग्राम धुरिया निवासी किसान गोविन्द सिंह (45 वर्ष) अपने घर के एक कमरे में रस्सी से लटकते हुए पाया गया। घटना की जानकारी होने पर पूरे गांव में सनसनी फैल गयी। मौके पर भारी भीड़ इकट्ठा हो गयी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और पंचनामा बनवाकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। घटना को लेकर मृतक के पुत्र मनीष सिंह ने पुलिस को तहरीर दी है। मनीष ने तहरीर में लिखा है कि कर्ज की वजह से उसके पिता काफी दिनों से अवसाद में थे और इस तरह का कदम उठाए हैं। 
 
एसओ सुनील कुमार राय ने कहा तहरीर मिली है। पुलिस मामले में जरूरी कार्रवाई करेगी।
 
 किसान के बेटे मनीष ने बताया कि उसकी मां किरन की तबीयत काफी दिनों से खराब चल रही है। उसके पिता ने दिल्ली तक इलाज कराया। इलाज के चक्कर में समिति से तीन लाख और इधर-उधर से एक लाख मिलाकर चार लाख के कर्जदार हो गए थे। कुछ चार कट्ठा जमीन भी रेहन रख दिया था। कर्ज चुका न पाने के कारण वे अवसाद में रहते थे।
 
मृत किसान गोविन्द सिंह के दो संतान हैं। 15 वर्षीय बेटा मनीष अभी कुछ करने लायक नहीं है, तो 20 साल की बेटी रिंकू की शादी नहीं हुई है।
 
किसान गोविन्द सिंह के नाम राशन कार्ड तो बना है, लेकिन पीओएस मशीन में थंब यानी अंगूठा स्वीकार नहीं होने से राशन नहीं मिलता है। जब से पीओएस मशीन से राशन मिलने लगा, किसान का परिवार राशन से वंचित हो गया। मनीष की मानें तो इसे दुरूस्त कराने के लिए उसके पिता ने काफी भागदौड़ की, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका। किसान का परिवार आयुष्मान योजना की सूची से बाहर है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS