ब्रेकिंग न्यूज़
रक्सौल के मुकेश कुमार को मिला ग्लोबल पीस अवार्डडीएफओ प्रभाकर झा ने भारत- नेपाल सीमा पर बने जांच चौकी का किया निरीक्षण, पेड़ों को लेकर दिए निर्देशहिन्दू जागरण मंच बेतिया ने वीर गौरव बब्लू बारी को दी श्रद्धाजंलि, उनके विस्मरणीय योगदानों को किया यादट्रैक्टर में बैठकर नगर विकास मंत्री के घर कूड़ा फेंकने जा रहे थे पप्पू यादव, पुलिस ने काटा चालानभारत-बांग्लादेश मैच में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और हसीना को दिया गया न्योताकश्मीर देश का आंतरिक मुद्दा, इसे अंतरराष्ट्रीय क्यों बना रही है कांग्रेस: राजनाथ सिंहनिवेश के लिए भारत से अच्छी कोई जगह नहीं, सरकार सुधार लाने के लिए उठा रही कदम: वित्‍त मंत्री सीतारमणजन्मदिन: बेमिसाल अदाकारा और बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी स्मिता पाटिल
राज्य
कुशीनगर के किसान ने आर्थिक तंगी के कारण फांसी लगाकर जान दी
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 8:54:43 PM
कुशीनगर के किसान ने आर्थिक तंगी के कारण फांसी लगाकर जान दी

कुशीनगर। भानु तिवारी। जिले के कसया थाना क्षेत्र के ग्राम धुरिया में एक किसान ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी है। यह किसान कर्ज को लेकर काफी दिनों से परेशान चल रहा था। मृतक के बेटे के अनुसार कर्ज से परेशान होकर ही उसके पिता ने अपनी जान दे दी है। इस मामले में पुलिस को तहरीर दे दी गई है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिवार के हवाले कर दिया है। गुरुवार की सुबह किसान का अंतिम संस्कार किया गया।

 
बुधवार को ग्राम धुरिया निवासी किसान गोविन्द सिंह (45 वर्ष) अपने घर के एक कमरे में रस्सी से लटकते हुए पाया गया। घटना की जानकारी होने पर पूरे गांव में सनसनी फैल गयी। मौके पर भारी भीड़ इकट्ठा हो गयी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और पंचनामा बनवाकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। घटना को लेकर मृतक के पुत्र मनीष सिंह ने पुलिस को तहरीर दी है। मनीष ने तहरीर में लिखा है कि कर्ज की वजह से उसके पिता काफी दिनों से अवसाद में थे और इस तरह का कदम उठाए हैं। 
 
एसओ सुनील कुमार राय ने कहा तहरीर मिली है। पुलिस मामले में जरूरी कार्रवाई करेगी।
 
 किसान के बेटे मनीष ने बताया कि उसकी मां किरन की तबीयत काफी दिनों से खराब चल रही है। उसके पिता ने दिल्ली तक इलाज कराया। इलाज के चक्कर में समिति से तीन लाख और इधर-उधर से एक लाख मिलाकर चार लाख के कर्जदार हो गए थे। कुछ चार कट्ठा जमीन भी रेहन रख दिया था। कर्ज चुका न पाने के कारण वे अवसाद में रहते थे।
 
मृत किसान गोविन्द सिंह के दो संतान हैं। 15 वर्षीय बेटा मनीष अभी कुछ करने लायक नहीं है, तो 20 साल की बेटी रिंकू की शादी नहीं हुई है।
 
किसान गोविन्द सिंह के नाम राशन कार्ड तो बना है, लेकिन पीओएस मशीन में थंब यानी अंगूठा स्वीकार नहीं होने से राशन नहीं मिलता है। जब से पीओएस मशीन से राशन मिलने लगा, किसान का परिवार राशन से वंचित हो गया। मनीष की मानें तो इसे दुरूस्त कराने के लिए उसके पिता ने काफी भागदौड़ की, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका। किसान का परिवार आयुष्मान योजना की सूची से बाहर है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS