ब्रेकिंग न्यूज़
मार्केटिंग कंपनी ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राईवेट लिमिटेड कंपनी से तीन युवक गिरफ्तारअधूरे टीकाकरण में इंद्रधनुष भरेगा रंग, चार चरणों में होगा टीकाकरणधारा 370 संपर्क अभियान के तहत पांच बुद्धिजीवी एवं प्रबुद्ध नागरिकों से मिलकर प्रतिनिधिमंडल ने इन विषय में दी जानकारीचिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- अपमानित करने के लिए जेल में रखना चाहती है सीबीआई, सुनवाई कलडबल इंजन के कारण झारखंड में विकास की गति हुई दोगुनी: सुधांशु त्रिवेदीअगला युद्ध स्वदेशी शस्त्र प्रणालियों के साथ लड़ेंगे और जीतेंगे: बिपिन रावतश्रीनगर में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन, हिरासत में ली गई फारुक अब्दुल्ला की बहन और बेटीजम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करना आतंक के खात्मे की दिशा में एक बड़ा कदम: अमित शाह
राज्य
कुशीनगर के गन्ना किसानों के मनसुबे पर खरे नहीं उतर सके प्रधानमंत्री
By Deshwani | Publish Date: 12/5/2019 7:28:35 PM
कुशीनगर के गन्ना किसानों के मनसुबे पर खरे नहीं उतर सके प्रधानमंत्री

कुशीनगर। भानु तिवारी। कुशीनगर जिले के कपतानगंज नगर में सातवें चरण के चुनावी सभा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। जिसमें गन्ना किसानों की उम्मीद थी कि गन्ना किसानों की वर्तमान समस्या गन्ना पराई हेतु चीनी मिलों की सथापना  के संबंध में प्रधानमंत्री कुछ बोलेंगे। लेकिन इस समस्या पर मोदी का भाषण व आशवासन नहीं मिला। जिससे गन्ना किसानों के मनसुबे पर पानी फिर गया। दूर- दूर से आये किसानों को निराशा ही हाथ लगी। 

 
पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी ने अपने जिला मुख्यालय पर हुए भाषण में कहा था कि सरकार बनते ही पडरौना चीनी मिल चलेगी। उस सभा में वर्तमान केन्द्रीय राज्य मंत्री आर पी एन सिंह को इशारों मे कहा था कि उनके गोद में पडरौना चीनी मिल  है कयो नही चली! कभी देवरिया जिले में कुशीनगर गन्ना जिला हुआ करता था। उस समय इस गन्ना जिले में कठकुईयां, पडरौना, सेवरही, रामकोला में दो, कपतानगंज, लक्षमीगंज , छितौनी , खड्डा चीनी मिलें थी।
 
 जिसमें कठकुईयां, पडरौना कानपुर शुगर  वर्क लि० की दो चीनी मिल, राजय चीनी निगम की रामकोला, छितौनी, लक्षमीगंज, छितौनी, खड्डा चीनी मिले एक - एक करके बंद हो गई। यद्यपि कुशीनगर जिले की भूमि की संरचना गन्ना उतपादन हेतु उपयोगी है। इसी से यहाँ का किसान कम लागत में गन्ना का उत्पादन करता है। इन चीनी मिलों को शुरू कराने के लिए सांसद राम नगीना मिश्र, आर पी एन सिंह, रामधारी गुप्ता, ने समय- समय पर आंदोलन की।  लेकिन ये बंद चीनी मिलें नहीं चल सकीं। बल्कि इन चीनी मिलों को तत्कालीन सरकारे बेचने की कार्य की। 
 
लेकिन मोदी पर गन्ना किसानों का विश्वास था कि जिले के एक लाख 42 हजार किसानों का परिवार का मुख्य आर्थिक फसल गन्ना का बेड़ा पार हो जायेगा। इसी उम्मीद से गन्ना किसान रविवार को होने वाली मोदी की चुनावी सभा में भीड़ जुटा कर पहुंचे हुए थे। लेकिन उनके भाषण में इसका न उल्लेख होना कहीं न कहीं भाजपा की चूक मानी जा रही है। एक गन्ना किसान ने यहाँ तक कह दिया कि जिले के भाजपा  नेताओं ने इसका जिक्र कभी भी प्रधानमंत्री से नहीं किया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS