ब्रेकिंग न्यूज़
मार्केटिंग कंपनी ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राईवेट लिमिटेड कंपनी से तीन युवक गिरफ्तारअधूरे टीकाकरण में इंद्रधनुष भरेगा रंग, चार चरणों में होगा टीकाकरणधारा 370 संपर्क अभियान के तहत पांच बुद्धिजीवी एवं प्रबुद्ध नागरिकों से मिलकर प्रतिनिधिमंडल ने इन विषय में दी जानकारीचिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- अपमानित करने के लिए जेल में रखना चाहती है सीबीआई, सुनवाई कलडबल इंजन के कारण झारखंड में विकास की गति हुई दोगुनी: सुधांशु त्रिवेदीअगला युद्ध स्वदेशी शस्त्र प्रणालियों के साथ लड़ेंगे और जीतेंगे: बिपिन रावतश्रीनगर में अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन, हिरासत में ली गई फारुक अब्दुल्ला की बहन और बेटीजम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करना आतंक के खात्मे की दिशा में एक बड़ा कदम: अमित शाह
राज्य
लोकसभा चुनाव: जंगल महल इलाके में बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर चुनावी ड्यूटी करेंगे जवान
By Deshwani | Publish Date: 10/5/2019 2:39:11 PM
लोकसभा चुनाव: जंगल महल इलाके में बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर चुनावी ड्यूटी करेंगे जवान

कोलकाता। आगामी 12 मई को पश्चिम बंगाल के आठ संसदीय सीटों पर छठे चरण का मतदान होना है। इसमें से मेदिनीपुर, झाड़ग्राम, पुरुलिया और बांकुड़ा का एक विस्तृत इलाका जंगलमहल कहलाता है। यह क्षेत्र एक दौर में माओवादियों के हिंसक गतिविधियों का गढ़ रहा है। इसे देखते हुए 12 मई रविवार को चुनावी ड्यूटी में तैनात होने वाले केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के जवानों को बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर ड्यूटी करने का निर्देश दिया गया है। पश्चिम बंगाल में शांतिपूर्वक मतदान सुनिश्चित कराने के लिए विशेष पुलिस पर्यवेक्षक के तौर पर नियुक्त किए गए आईपीएस विवेक दुबे ने यह निर्देश दिया है।

 
बताया गया है कि जंगलमहल के इलाके में जितने भी जवानों की ड्यूटी लगेगी उन सब के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही उन्हें विशेष तौर पर सतर्क रहने और इलाके में इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईडी) आदि लगाए जाने की आशंका के मद्देनजर मतदान से पूर्व पूरे इलाके में गहन जांच करने का भी निर्देश दिया गया है। इसमें राज्य पुलिस के सशस्त्र बलों की भी मदद ली जा रही है। 
 
आज सुबह से ही पूरे इलाके में तलाशी अभियान और संदिग्धों की पहचान शुरू कर दी गई है। जंगलमहल इलाके में पहले से ही संदिग्ध माओवादी गतिविधि के मद्देनजर 40 कंपनी केंद्रीय बलों की तैनाती है इसके अलावा अतिरिक्त 74 कंपनी केंद्रीय बलों को यहां पहुंचाया गया है।
 
दरअसल एक मई को महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में माओवादियों ने आईईडी विस्फोट किया था जिसमें सीआरपीएफ के 15 जवान शहीद हो गए थे। वैसे तो पश्चिम बंगाल का जंगलमहल इलाका 2013 में ही माओवाद पीड़ित क्षेत्र की सूची से बाहर निकल गया है लेकिन हाल के दौर में इन क्षेत्रों में माओवादियों के कुछ पोस्टर और संदिग्ध गतिविधियां देखी गई हैं। केंद्रीय और राज्य एजेंसियों ने संयुक्त रूप से इससे संबंधित अलर्ट जारी किया था। चुनाव का समय होने की वजह से इसे लेकर राज्य सरकार और सुरक्षा एजेंसियां और अधिक सतर्क हैं।
 
चुनाव आयोग क्षेत्र में शांतिपूर्वक मतदान संपन्न कराने के लिए सुरक्षा में किसी भी तरह की कोई भी चूक नहीं छोड़ना चाहता है इसीलिए राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब ने जिलाधिकारियों और प्रशासन के आला अधिकारियों के साथ पहले ही बैठक कर ली है।  
 
12 मई को देश के उप चुनाव आयुक्त सुदीप जैन कोलकाता में रहेंगे इसलिए आयोग अथवा राज्य प्रशासन सुरक्षा संबंधी तैयारियों में किसी तरह की कोई कमी नहीं छोड़ना चाहता। मतदान से 48 घंटे पहले साइलेंट आवर शुरू हो जाने की वजह से शुक्रवार से व्यापक स्तर पर जंगलमहल क्षेत्रों में तलाशी अभियान की शुरुआत की गई है। छठे चरण 12 मई को तमलुक, कांथी, घटाल, झाड़ग्राम, मेदिनीपुर, बांकुड़ा और विष्णुपुर में वोट डाले जाएंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS