ब्रेकिंग न्यूज़
इसबार मोतिहारी की पुलिस रही मुस्तैद तो लूट नहीं सके सवा लाख रुपए, आर्म्स के साथ दबोचे गए तीनइंटरसिटी और लोकल ट्रेन का संचालन नहीं होने से यात्रियों को हो रही काफी परेशानी, रामगढ़वा में भाजपा सांसद का पुतला दहन कर स्थानीय ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शनकेंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के बेंगलुरु में तीन अलग-अलग प्रकल्पों का लोकार्पण कियाभारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिग्गज अभिनेता और निर्देशक बिस्वजीत चटर्जी को 51वें भारतीय व्यक्तित्व पुरस्कार से किया गया सम्मानितभारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रक्सौल के दो केन्द्रों पर कोविड वैक्सीनेशन अभियान हुआ प्रारंभरक्सौल: सिमुलतला विद्यालय में ईशान ने मारी बाजीउत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनावों के लिए भाजपा ने चार उम्मीदवारों के नामों की सूची जारी कीIGIMS से शुरू होगा बिहार में कोरोना टीकाकरण अभियान, सबसे पहला टीका IGIMS के सफाईकर्मी रामबाबू को लगेगा
राज्य
दिल्ली के असोला फतेहपुर में सम्पन्न हुई काव्यसृजन की काव्यगोष्ठी
By Deshwani | Publish Date: 6/5/2019 4:36:08 PM
दिल्ली के असोला फतेहपुर में सम्पन्न हुई काव्यसृजन की काव्यगोष्ठी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय साहित्यिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था काव्यसृजन के संस्थापक पं शिवप्रकाश जौनपुरी के मार्गदर्शन में काव्यसृजन दिल्ली इकाई की काव्यगोष्ठी संपन्न हुई। कार्यक्रम की अध्यक्षता तारकेश्वर राय ने किया।

गोष्ठी की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुई तत्पश्चात पहले कवि के रूप में भजनपुरा दिल्ली से पधारे युवा कवि सूरज प्रताप वर्मा ने अपनी कविता 'प्रेम है नीर, प्रेम है पीर, प्रेम है अमृतपान' के माध्यम से लोगों का मन मोह लिया।

गुड़गांव से पधारी अगली कवियित्री नीलम ने माँ और भाई पर प्रस्तुत अपने गीत से श्रोताओं को भावुक कर गईं। युवा कवि संजीव कुमार घोष 'नीर' ने 'तितली हमसे पूछ रही है बाग बगीचे कहाँ गये' गीत के माध्यम से पेड़ों की हो रही कटाई को दर्शाया है। इस डिजिटलाइज युग में प्यार भी कैसे डिजिटल हो गया है और अपना रंग बदल लिया है कुछ इसी भाव की कविता कवियित्री डेजी शर्मा ने सुनाया। कवियित्री ममता मिश्रा ने बादलों के उस पार शीर्षक से कविता सुनाकर श्रोताओं को वाकई एक स्वप्निल सफर पर ले गई।

जिंदगी धूप कड़ी, छाँव का सफर है चलो। 
बंदगी भाव का है, रुप हमसफर है चलो।।
 
कविता के माध्यम से पंकज तिवारी ने जिंदगी के लगभग हर पहलू को छूने का प्रयास किया।
अन्य कवियों ने भी अपनी बहुरसीय कविताओं से पूरे माहौल को काव्यमय बना दिया।
 
अध्यक्षीय वक्तव्य में श्री तारकेश्वर राय ने सभी कवियों के कविताओं की समालोचना करने के साथ ही युवाओं की नई फौज, उनके शब्दों का संयोजन, भावों की अतल गहराई और सबसे बड़ी बात इस दौर, जहाँ युवा पीढ़ी साहित्य और किताबों से दूर होती जा रही है ऐसे में इन सभी युवा कवियों को, इनके हौंसले को लेकर भूरि-भूरि प्रशंसा भी की अंत में संस्था के महासचिव संजीव कुमार घोष 'नीर' जी ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए गोष्ठी में पधारे सभी कवियों का आभार व्यक्त किया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS