ब्रेकिंग न्यूज़
रक्सौल के मुकेश कुमार को मिला ग्लोबल पीस अवार्डडीएफओ प्रभाकर झा ने भारत- नेपाल सीमा पर बने जांच चौकी का किया निरीक्षण, पेड़ों को लेकर दिए निर्देशहिन्दू जागरण मंच बेतिया ने वीर गौरव बब्लू बारी को दी श्रद्धाजंलि, उनके विस्मरणीय योगदानों को किया यादट्रैक्टर में बैठकर नगर विकास मंत्री के घर कूड़ा फेंकने जा रहे थे पप्पू यादव, पुलिस ने काटा चालानभारत-बांग्लादेश मैच में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और हसीना को दिया गया न्योताकश्मीर देश का आंतरिक मुद्दा, इसे अंतरराष्ट्रीय क्यों बना रही है कांग्रेस: राजनाथ सिंहनिवेश के लिए भारत से अच्छी कोई जगह नहीं, सरकार सुधार लाने के लिए उठा रही कदम: वित्‍त मंत्री सीतारमणजन्मदिन: बेमिसाल अदाकारा और बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी स्मिता पाटिल
राज्य
पश्चिम बंगाल में फोनी का असर, ढहे म‍कान, जंजीरों से बांधी जा रही ट्रेनें
By Deshwani | Publish Date: 3/5/2019 6:03:28 PM
पश्चिम बंगाल में फोनी का असर, ढहे म‍कान, जंजीरों से बांधी जा रही ट्रेनें

कोलकाता। बंगाल की खाड़ी से उठा फोनी तूफान आज सुबह ओडिशा से टकरा गया। इस दौरान हवा की रफ्तार करीब 200 किमी प्रति घंटा मापी गई। पुरी, गंजाम और भुवनेश्‍वर में इसके कारण कई पेड़ और बिजली के खंभे गिर पड़े। साथ ही 3 लोगों की जान भी फोनी के कारण चली गई। ओडिशा के बाद यह चक्रवाती तूफान पश्चिम बंगाल का रुख करेगा। लेकिन पश्चिम बंगाल में इसका असर अभी से दिखने लगा है।

 
पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मिदनापुर में आज दोपहर से ही बारिश शुरू हो गई है। आसमान में काले बादल छा गए हैं। बारिश के शुरू होते ही करीब 20 सेकंड के अंदर मिदनापुर के स्टेशन रोड के विधाननगर इलाके में कई पेड़ टूट कर गिर गए। इसके चलते कई दुकानें भी टूट गईं।
 
मिदनापुर के 14 नंबर वार्ड में तालपुकुर इलाके में तूफान से करीब 15 घर टूट गए और एस्बेस्टस की छावनी भी उड़ गई। इलाके में रहने वाले लोगों की दिक्कतें भी बढ़ गई हैं। फोनी के प्रभाव से चन्द्रकोणा के महाराजपुर में भी अचानक तूफान आ जाने से 3 घरों पर असर दिखाई दिया। यहां दो मंजिला घर टूटकर एक मंजिला में तब्दील हो गया। जिला परिषद में कंट्रोल रूम खोला गया है। 
 
वहीं फोनी तूफान के प्रभाव से बचने के लिए हावड़ा के शालीमार स्टेशन में ट्रेनों को चेन से बांधा जा रहा है ताकि तूफान के दौरान तेज हवाओं की गति से कहीं ट्रेन आगे न खिसक जाएं और कोई दुर्घटना न घट जाए। इसीलिए सुरक्षा के लिहाज से लोहे की चेन से ट्रेन की बोगियों को बांधा जा रहा है। यह इंतजाम दक्षिण पूर्व रेलवे की तरफ से किया जा रहा है।
 
पश्चिम बंगाल में फोनी चक्रवात को देखते हुए दीघा में तैनात की गई एनडीआरएफ की टीम ने दत्‍तापुर और तेजपुर से 132 लोगों को सुरक्षित स्‍थान पर भेजा है, इनमें 52 बच्‍चे भी शामिल हैं। पश्चिम बंगाल सरकार ने एहतियातन फोनी तूफान को लेकर अलर्ट जारी किया हुआ है। स्‍कूल कॉलेज बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही लोगों को समुद्र से दूर रहने को कहा गया है। पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मिदनापुर, उत्‍तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली, झाड़ग्राम, सुंदरबन और कोलकाता अलर्ट पर हैं। तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर भेजा जा रहा है। राहत और बचाव दल भी अलर्ट पर हैं।
 
फोनी चक्रवात के मद्देनजर पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने अगले दो दिन तक अपने सभी चुनावी अभियान रद्द कर दिए हैं। साथ ही वह आज और कल तटीय क्षेत्र के करीब खड़गपुर में ही रहेंगी। इस दौरान वह चक्रवात के दौरान हालात पर नजर रखेंगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS