ब्रेकिंग न्यूज़
जिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनीजिले में बेहतर स्वास्थ्य एवं सुरक्षित भविष्य के लिए राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना की शुरूआत
राज्य
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेस
By Deshwani | Publish Date: 23/3/2019 6:47:38 PM
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेस

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का भोपाल लोकसभा सीट से टिकट पक्का हो गया है। मौजूदा सीएम कमलनाथ ने आज इसके संकेत दिए। दिग्विजय 16 साल बाद चुनावी राजनीति में एंट्री कर रहे हैं। उन्होंने इससे पहले 2003 में मप्र विधानसभा का चुनाव लड़ा था। सत्ता गंवाने के बाद दिग्विजय ने 10 साल तक चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी। 2014 में कांग्रेस ने उन्हें राज्यसभा में भेजा था। इस बार उन्होंने मध्यप्रदेश की किसी भी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी। 

 
दरअसल, यह पासा मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फेंका था। उन्होंने कहा था कि बड़े नेताओं को मुश्किल सीटों से लड़ना चाहिए। इसके बाद ही दिग्विजय कहीं से भी लड़ने को तैयार हो गए थे। उनके भोपाल और इंदौर से लड़ने की चर्चा शुरू हुई। हालांकि, दिग्विजय की रुचि इंदौर से ज्यादा भोपाल में थी। इंदौर में उनका कोई मददगार नहीं है। भाजपा सांसद सुमित्रा महाजन के रहते कैलाश विजयवर्गीय शांत रहें, यही एकमात्र मदद दिग्विजय की हो सकती थी। लेकिन इसकी भी अब उम्मीद नहीं है, क्योंकि विजयवर्गीय को भाजपा ने पश्चिम बंगाल भेज रखा है। भोपाल में मुस्लिम वोटर्स की ज्यादा तादाद दिग्विजय के लिए मददगार साबित हो सकती है। ये बात और है कि कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद उनके साथ घूमे तो दिक्कत भी हो सकती है।
 
दिग्विजय की जीत-हार के क्या मायने होंगे?
 
जीते तो : दिग्विजय के जीतने पर मध्यप्रदेश में उनके सबसे बड़े कांग्रेसी नेता होने की छवि और मजबूत होगी। एक बार फिर कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व में उनका प्रभाव बढ़ेगा। इसके ये मायने होंगे कि वे कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी ज्यादा मजबूत स्थिति में होंेगे। 
 
हारे तो : 16 साल बाद चुनावी राजनीति में वापसी के बाद भी अगर दिग्विजय यह चुनाव हारते हैं तो कमलनाथ ही कांग्रेस के मप्र के नंबर-1 नेता बन जाएंगे। कमलनाथ सरकार और प्रदेश संगठन में दिग्विजय का दखल भी कम हाे जाएगा। साथ ही दिग्विजय चुनावी राजनीति के मामले में हाशिए पर जा सकते हैं। वैसे कमलनाथ को दोनों स्थितियों में फायदा है। दिग्विजय जीते तो दिल्ली चले जाएंगे, हारे तो घर बैठेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS