ब्रेकिंग न्यूज़
हॉकी इंडिया ने आयरलैंड दौरे के लिए जूनियर महिला हॉकी टीम की घोषणा, सुमन होंगी कप्तानबॉलीवुड में कमबैक करेगी मशहूर अभिनेत्री मधुअरुणाचल में उग्रवादियों का हमला, एनपीपी विधायक समेत 11 लोगों की मौत, तीन घायलदुष्कर्म, हत्या का आरोपी थाना परिसर से पुलिस को चकमा देकर फरारसुप्रीम कोर्ट ने ईवीएम और वीवीपीएटी के शत-प्रतिशत मिलान की मांग वाली याचिका खारिज की, बताया बकवासएनडीएस विशेष बलों ने चार आतंकियों को किया ढेररेलवे ने महिला यात्रियों को दी खास सुविधा! मुसीबत में ट्रेन के गार्ड और मोटरमैन से कर सकेंगी संपर्कमातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य केंद्र में तीन नवजात की मौत, परिजनों ने मचाया हंगामा
राज्य
अखिलेश की नाराजगी का हुआ असर, बदायूं सीट से प्रत्याशी का नाम वापस लेगी कांग्रेस!
By Deshwani | Publish Date: 12/3/2019 11:20:58 AM
अखिलेश की नाराजगी का हुआ असर, बदायूं सीट से प्रत्याशी का नाम वापस लेगी कांग्रेस!

नई दिल्ली/लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की नाराजगी का असर हो गया है। जानकारी के मुताबिक, अब कांग्रेस एसपी-बीएसपी के पारिवारिक सीट पर उम्मीदवार नहीं उतारेगी। कांग्रेस अब बदायूं सीट पर भी उम्मीदवार वापस लेने पर विचार कर रही है। 

 
दरअसल, बदायूं सीट यादव परिवार की पारंपरिक सीट है। धर्मेंद्र यादव बदायूं से सांसद है। साल 2014 में समाजवादी पार्टी ने जो पांच सीटें जीती थी। उसमें धर्मेंद्र यादव की बदायूं सीट भी थी। 
 
अखिलेश यादव ने 2019 के चुनावी दंगल में फिर धर्मेंद्र यादव को बदायूं से ही उम्मीदवार बनाया है, लेकिन कांग्रेस ने बदायूं से अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी। कांग्रेस ने बदायूं से पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता सलीम शेरवानी को प्रत्याशी बनाया है। 
 
 
कांग्रेस के बदायूं सीट से उम्मीदवार उतारने के बाद अखिलेश यादव ने साफ कर दिया था कि अगर कांग्रेस बदायूं सीट से अपने प्रत्याशी की नाम वापस नहीं लेता है, तो अमेठी और रायबरेली में भी एसपी-बीएसपी गठबंधन अपने उम्मीदवार खड़ा करेगा। अगर ऐसा होता तो ये कांग्रेस के लिए बड़ी मुश्किल हो सकती है, क्योंकि अमेठी और रायबरेली में कभी भी विपक्ष अपने उम्मीदवार नहीं खड़ा करता है। अखिलेश यादव के इस बयान से हलचल बढ़ी। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस ने इसलिए ही ये फैसला लिया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS