ब्रेकिंग न्यूज़
राजस्थान: साथ नजर आए सचिन पायलट और अशोक गहलोत, विधायक दल की बैठक कलराजस्थान विधानसभा चुनाव में राजकुमार शर्मा ने लगाई हैट्रिकआखिरकार सैफ अली खान ने देख ही ली सारा की 'केदारनाथ', करीना कपूर देंगी पार्टीछत्तीसगढ़: बीजेपी के हारते ही मुख्यमंत्री रमन सिंह के प्रमुख सचिव ने ली लंबी छुट्टीउपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीट कर राहुल गांधी को दी बधाई, प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमलाभारत और रूस के बीच युद्धाभ्यास अविन्द्रा हुआ शुरूतीन राज्यों के रुझान में कांग्रेस को बढ़त, खुशी से झूमे कांग्रेस-आरजेडी कार्यकर्तावाजपेयी, अनंत, चटर्जी को श्रद्धांजलि देने के बाद दोनों सदनों की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
राज्य
सुसाइड नोट से खुला भय्यू जी के मौत का राज
By Deshwani | Publish Date: 12/6/2018 5:10:51 PM
सुसाइड नोट से खुला भय्यू जी के मौत का राज

 इंदौर। अध्यात्मिक संत भय्यू महाराज ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। भय्यू महाराज इस कदम से सारा देश हैरान है| राजनीति से लेकर फिल्म जगत, सहित लाखों लोग भय्यूजी के भक्त थे| उन्होंने खुदकुशी क्यूं की इसको लेकर सभी हैरान है| वहीं भय्यूजी महाराज ने जिस स्थान पर आत्महत्या की वहां पर एक पन्ने का सुसाइड नोट पुलिस को मिला है। उस सुसाइड नोट में उन्होंने अपनी मौत का जिम्मेदार किसी को नहीं ठहराया है।

 
भय्यूजी महाराज  ने सुसाइड नोट में लिखा है कि कई दिनों से घर के तनाव के कारण में परेशान था| दरअसल, उन्होंने सुसाइड नोट अंग्रेजी में लिखा है, जिसमे लिखा है आई एम हैविंग टू मच स्ट्रेस आउट फेड अप। समबडी शुड बी देअर टू हैंडल ड्यूटी ऑफ फैमिली।
 
भय्यू महाराज ने मंगलवार को इंदौर शहर में सिल्वर स्प्रिंग स्थित अपने निवास पर खुद को गोली मारी। भय्यूजी महाराज को हाईप्रोफाइल संत कहा जाता रहा है| उनका असली नाम उदय सिंह देशमुख था और वह मध्य प्रदेश के शाजापुर के एक जमींदार के परिवार से सम्बन्ध रखते थे| मॉडलिंग से लेकर अध्यात्म तक का सफर उन्होंने तय किया|   मध्य प्रदेश सरकार ने हाल ही में भय्यूजी महाराज को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था| लेकिन इस सुविधा को लेने से इंकार कर दिया था|  उनकी पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हो चुका है। 30 अप्रैल 2017 को शिवपुरी की डॉ. आयुषी से उन्होंने दूसरी शादी की थी| राजनीति, बॉलीवुड हो या बिसनेस की दुनिया की दिग्गज हस्तियां, सभी जगह भय्यू महाराज के अनुयायी थे| अपने ग्लैमर अंदाज के कारण उनकी एक अलग पहचान थी| शान्ति का सन्देश देने वाले एक आध्यात्मिक संत का इस तरह का कदम उठाना देश भर को आश्चर्य में डाल रहा है|
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS