ब्रेकिंग न्यूज़
पटना: अपराधियों ने कोर्ट जा रहे मुंशी की गोली मारकर हत्या कर दीराष्ट्रीय आपदा मोचन बल(एनडीआरएफ)ने अपना 16 वां स्थापना दिवस मनायाआपका अपना घर, सपनों का घर, बहुत ही जल्द आपको मिलने वाला है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीमंत्रिमंडल ने भारत और उज्बेकिस्ताान के बीच सौर ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्तासक्षर करने की मंजूरी दीरेल मंत्रालय ने हावड़ा-कालका मेल का नाम बदलकर "नेताजी एक्सप्रेस" करने की मंजूरी दीपश्चिम बंगाल: जलपाईगुडी के धूपगुडी कस्‍बे में एक सड़क दुर्घटना में 14 लोगों की मौतसमस्तीपुर : मिथिलांचल को मिला तोहफा, जयनगर से भागलपुर तक जायगी स्पेशल ट्रेनमहिन्द्र फर्स्ट च्वाइस के मालिक मोतिहारी के पीपराकोठी में अपने ही स्कॉर्पियो में गोली लगने से घायल मिले, हुई मौत
राज्य
निर्भया के दादा बोले : अब पूरी होगी दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना
By Deshwani | Publish Date: 7/1/2020 7:05:30 PM
निर्भया के दादा बोले : अब पूरी होगी दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना

बलिया सात साल पहले दिल्ली में गैंगरेप की शिकार हुई निर्भया के दोषियों का डेथ वारंट जारी होने की खबर मिलते ही पैतृक गांव में उसके दादा ने खुशी जाहिर की। मंगलवार शाम उन्होंने कहा कि देर से ही सही यह दिल को सुकून देने वाली खबर है। वह बोले कि घटना के दिन से ही दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना थी, जो अब जाकर पूरी होगी। 

 
 
दिल्ली के बसंत बिहार इलाके में चलती बस में 2012 के आखिरी महीने दिसम्बर की 16 तारीख की रात में जिले के मेड़वरा कला गांव की निवासी निर्भया के साथ दरिंदगी हुई थी। मौत से 13 दिनों तक लड़ने के बाद निर्भया ने 29 दिसम्बर को सिंगापुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। इस घटना ने देश समेत पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया था। निर्भया के दरिंदों के खिलाफ सात साल तक चली कानूनी प्रक्रिया के बाद मंगलवार को फांसी की सजा मुकर्रर की गई। दोषियों के लिए डेथ वारंट जारी होने की खबर टीवी पर जैसे ही फ्लैश हुई तो निर्भया के पैतृक गांव में उसके दादा लालजी सिंह ने संतोष व्यक्त किया। 
 
 
बातचीत में उन्होंने कहा कि हमारी बिटिया के दरिंदों ने इतने लंबे समय तक सांस ली, यह कानूनी प्रक्रिया के कारण हुआ। हालांकि देर भले हुई लेकिन अब उन्हें फांसी पर लटकते देखने की हसरत पूरी होगी। घटना के दिन से रोज हम उनके लिए फांसी मांगते रहे। उनका यही अंजाम होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि 22 जनवरी को जब दरिंदे फांसी पर झूलेंगे तो ऐसी दरिंदगी के खिलाफ एक संदेश जाएगा। वह बोले कि अब सरकार की जिम्मेदारी है कि निर्भया की मौत के बाद उसके लिए हुई घोषणाओं पर शीघ्र अमल किया जाए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS