ब्रेकिंग न्यूज़
शहीद सैन्य पदाधिकारी व सैनिकों की वीर नारियों के सम्मान समारोह बिहार के राज्यपाल ने किए 92 वीर नारियों को सम्मानितनेपाल के मकवानपुर में चार बच्चों समेत आठ भारतीय पर्यटकों की मौतभाजपा नेता रवि किशन ने शाहीनबाग़ के विरोध को बताया विपक्ष की साजिश, कहा - 500 रुपये लेकर महिलाएं कर रहीं प्रदर्शनपरीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भागजम्‍मू कश्‍मीर के शोपियां जिले में 3 आतंकवादी ढेर, सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ जारीतहकीकात बाद दें किराया, मोतिहारी के अंबिकानगर लॉज से पटना से अपहृत छात्र मुक्त, प्रिंस पाण्डेय समेत 5 गिरफ्तारमोतिहारी की सांस्कृतिक भूमि को उर्वरा बनानेवाले पूर्व वीसी डॉ वीरेन्द्रनाथ पाण्डेय का पटना में निधनकेन्द्र सरकार के गृह राज्यंत्री, बिहार के भाजपा अध्यक्ष व विधायक साथ रक्सौल में 47 वी बटालियन आउट पोस्ट का जायजा लिया
राज्य
निर्भया के दादा बोले : अब पूरी होगी दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना
By Deshwani | Publish Date: 7/1/2020 7:05:30 PM
निर्भया के दादा बोले : अब पूरी होगी दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना

बलिया सात साल पहले दिल्ली में गैंगरेप की शिकार हुई निर्भया के दोषियों का डेथ वारंट जारी होने की खबर मिलते ही पैतृक गांव में उसके दादा ने खुशी जाहिर की। मंगलवार शाम उन्होंने कहा कि देर से ही सही यह दिल को सुकून देने वाली खबर है। वह बोले कि घटना के दिन से ही दरिंदों को फांसी पर लटकते देखने की तमन्ना थी, जो अब जाकर पूरी होगी। 

 
 
दिल्ली के बसंत बिहार इलाके में चलती बस में 2012 के आखिरी महीने दिसम्बर की 16 तारीख की रात में जिले के मेड़वरा कला गांव की निवासी निर्भया के साथ दरिंदगी हुई थी। मौत से 13 दिनों तक लड़ने के बाद निर्भया ने 29 दिसम्बर को सिंगापुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। इस घटना ने देश समेत पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया था। निर्भया के दरिंदों के खिलाफ सात साल तक चली कानूनी प्रक्रिया के बाद मंगलवार को फांसी की सजा मुकर्रर की गई। दोषियों के लिए डेथ वारंट जारी होने की खबर टीवी पर जैसे ही फ्लैश हुई तो निर्भया के पैतृक गांव में उसके दादा लालजी सिंह ने संतोष व्यक्त किया। 
 
 
बातचीत में उन्होंने कहा कि हमारी बिटिया के दरिंदों ने इतने लंबे समय तक सांस ली, यह कानूनी प्रक्रिया के कारण हुआ। हालांकि देर भले हुई लेकिन अब उन्हें फांसी पर लटकते देखने की हसरत पूरी होगी। घटना के दिन से रोज हम उनके लिए फांसी मांगते रहे। उनका यही अंजाम होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि 22 जनवरी को जब दरिंदे फांसी पर झूलेंगे तो ऐसी दरिंदगी के खिलाफ एक संदेश जाएगा। वह बोले कि अब सरकार की जिम्मेदारी है कि निर्भया की मौत के बाद उसके लिए हुई घोषणाओं पर शीघ्र अमल किया जाए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS