ब्रेकिंग न्यूज़
पटना उच्च न्यायलय ने नगर निकाय चुनाव पर लगायी रोक, आयोग के पदाधिकारियों की बैठक जारी, राजनीतिक टीका-टिप्पणी शुरूमोतिहारी के हरसिद्धि में दस शिक्षक अभ्यर्थियों का प्रमाण पत्र पाया गया फर्जी, अभ्यर्थियों के विरूद्ध एफआईआर दर्जरक्सौल: सड़क दुर्घटना में 9 घायल एक की स्थिति चिंताजनकविद्युत कार्य प्रमंडल रक्सौल परिसर में एक समारोह का हुआ आयोजनस्थानीय निकाय चुनाव में सहयोग करेगा जीकेसीप्रधानमंत्री मोदी कल दो दिन के लिए जायेंगे गुजरात दौर परमोतिहारी के छतौनी में सुबह-सुबह अखबार हॉकर को चाकूमार रुपये लूटे, पर्व के मौके पर यात्रिगण व श्रधालुओं की सुरक्षा पर आशंकाभाजपा के प्रदेश अध्यक्ष पर जदयू के राष्ट्रीय सचिव राजीव रंजन ने किया पलटवार, कहा- भाजपा की उड़ी नींद
पटना
रक्सौल: युवती का जला शव बरामद मामले में पुलिस ने शुरू की आधुनिक तरीके से अनुसंधान
By Deshwani | Publish Date: 25/7/2022 12:00:26 AM
रक्सौल: युवती का जला शव बरामद मामले में पुलिस ने शुरू की आधुनिक तरीके से अनुसंधान

रक्सौल अनिल कुमार। शहर के हरैया ओपी थाना क्षेत्र के आईसीपी बाईपास के समीप से बीते दिनों आधा जले हुए बरामद किये गये युवती के शव मामले में पुलिस के द्वारा अब आधुनिक तरीके से अनुसंधान शुरू कर दी गई है।अब मामले की तफ्तीश होनी शुरू कर दी गई है, जिसमें रविवार को फॉरेंसिंक टीम घटनास्थल पर पहुंच साक्ष्य को जुटाने में लग गई है।

बता दें कि रविवार को एफएसएसएल मुजफ‍्फरपुर से आयी मोबाइल टीम के द्वारा रक्सौल इंस्पेक्टर शशिभूषण ठाकुर एवं हरैया ओपी थानाध्यक्ष विवेक कुमार जायसवाल की मौजदूगी में घटनास्थल पर पहुंच कर सैंपल इकठ‍्ठा किया गया। जिसको जांच के लिए फॉरेंसिंक जांच लैब ले जाया जायेगा। 

 
 
 
 
 
 
इसकी जानकारी देते हुए हरैया ओपी थानाध्यक्ष विवेक कुमार जायसवाल ने बताया कि हत्या के कारणों का सटीक पता लगाने के वरीय अधिकारियों के निर्देश पर टीम के द्वारा सैंपल लिया गया है। अब वैज्ञानिक तरीके से अनुसंधान शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अब तक शव का शिनाख्त नहीं हो पाया है, अगर कोई दावा करता है तो शव के साथ डीएनए टेस्ट किया जा सकता है, परंतु अब तक कोई आगे नही आया है।  शव को पोस्टमार्टम के बाद सुरक्षित रखा गया है। नियमानुसार 72 घंटे तक शव को रखा जाता है, अगर कोई दावेदार नहीं हुआ तो उसका डिस्पोजल कर दिया जाएगा।
 
 
 
-युवती के शव मामले में पुलिस के द्वारा अब आधुनिक तरीके से अनुसंधान शुरू कर दी गई है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS