ब्रेकिंग न्यूज़
भारत सरकार की ओर से हर घर तिरंगा कार्यक्रम का आयोजनप्रधानमंत्री ने पारसी नव वर्ष पर लोगों को बधाई दीडाकघरों के माध्यम से दस दिन की अवधि में एक करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज खरीदे गयेमोतिहारी कस्टम के दो हवलदारों को केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने पकड़ा, 20 हजार रुपये घूस लेने का आरोपप्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 के भारतीय दल का अभिवादन कियाएनएमडीसी और फिक्की भारतीय खनिज एवं धातु उद्योग पर सम्मेलन का आयोजन करेंगेबिहार: आज बादल गरजने के साथ ठनका गिरने की आशंका, तीन जिलों में भारी बारिश का अलर्टमोतिहारी, हरसिद्धि के जागापाकड़ में महावीरी झंडा के दौरान आर्केस्ट्रा में फायरिंग, दो घायल, प्राथमिकी दर्ज
बिहार
नए कृषि बिल के खिलाफ भारत बंद में सड़क पर उतरे जनतांत्रिक विकास पार्टी के नेता व कार्यकर्ता
By Deshwani | Publish Date: 8/12/2020 9:31:04 PM
नए कृषि बिल के खिलाफ भारत बंद में सड़क पर उतरे जनतांत्रिक विकास पार्टी के नेता व कार्यकर्ता

पटना: नए कृषि कानूनों के विरोध में आज बुलाए गए भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला। इस बंद में शामिल होते हुए पटना के डाकबंगला चौराहे पर जनतांत्रिक विकास पार्टी के नेता व कार्यकर्ताओं ने नए कृषि कानून को वापस लेने की मांग की। साथ ही नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। वहीं, जनतांत्रिक विकास पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अनिल कुमार ने केंद्र की मोदी सरकार पर भारत विरोधी कानून बनाने का आरोप लगाया।





अनिल कुमार ने कहा कि जनतांत्रिक विकास पार्टी पहले दिन से किसानों के साथ है और आज भी हमारे नेताओं ने किसानों के हित में भारत बंद कराने में सहयोग किया। दरअसल यह स्‍वत:स्‍फूर्त बंद था, जिसने एनडीए सरकार को  आईना दिखाने का काम किया। एनडीए सरकार जैसे – तैसे भारत विरोधी कानून बना रही है, जिससे देश की जनता को नुकसान हो रहा है। यह बंद उनके मंसूबों पर करारा तमाचा है। हम सरकार से आग्रह करते हैं कि देश केवल अडानी – अंबानी से नहीं है, इसलिए हम अपील करते हैं कि समाज, लोकतंत्र और भारत विरोधी कानून वापस लें। वरना आंदोलन और तेज होगा।



उन्‍होंने कहा कि अन्‍नदाता के साथ अन्‍याय सही नहीं है। आज जो लाखों किसान आए हैं वो अपनी पीड़ा व्यक्त करने आए हैं। किसानों की मांगें बिल्कुल सही हैं, किसानों के साथ न्याय हो। देश के करोड़ों लोगों ने इस बंद को  सफल बनाने का काम किया है। कोई नहीं चाहता कि लोगों को असुविधा हो। सरकार को अहंकार का रास्ता छोड़कर हमारा पेट पालने वाले किसानों की बात माननी चाहिए और इन तीनों कानूनों को तुरंत वापस लेना चाहिए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS