ब्रेकिंग न्यूज़
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेसराम मनोहर लोहिया का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशानासुरक्षाबलों को सर्च अभियान के दौरान मिली सफलता, भारी मात्रा में विस्फोटक और हथियार बरामदहाइवा की चपेट में आने से युवक की मौत, विरोध में लोगों ने किया सड़क जामकांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधीआईपीएल 2019: आईपीएल के शुरुआती 6 मैचों में नहीं खेलेंगे लसिथ मलिंगा, सामने आई ये वजहमणिकर्णिका' के बाद कंगना का बड़ा धमाका, जयललिता की बायोपिक से जुड़ा नामकरमबीर सिंह होंगे अगले नौसेना प्रमुख, सुनील लांबा 31 मई को हो रहे हैं रिटायर
बिहार
पटना AIIMS में शुरू हुआ कैंसर पर दो दिवसीय कांफ्रेंस, डॉक्‍टरों ने लंग कैंसर के बारे में की विस्‍तार से चर्चा
By Deshwani | Publish Date: 6/10/2018 7:41:45 PM
पटना AIIMS में शुरू हुआ कैंसर पर दो दिवसीय कांफ्रेंस, डॉक्‍टरों ने लंग कैंसर के बारे में की विस्‍तार से चर्चा

पटना। रंजन सिन्हा। देशवाणी न्यूज नेटवर्क।

ISSLC और AIIMS, पटना के संयुक्‍त तत्‍वावधान में दिनांक 6 और 7 अक्‍टूबर 2018 को AIIMS, पटना के प्रांगन में 9 National Conference NALCCON 2018 का आयोजन किया गया, जिसका उद्घाटन आज बिहार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय ने किया। दो दिवसीय आयोजन के पहले दिन में लंग कैंसर से संबंधित विषय पर चर्चा हुई। इस सत्र में देशभर के डॉक्‍टर शामिल हुए। इस दौरान AIIMS, पटना की एसोसिएट प्रोफेसर और रेडियोथेरेपी की डिपार्टमेंट हेड डॉ. प्री‍तांजलि सिंह ने बताया कि फेफड़े का कैंसर सबसे घातक माना जाता है। विश्‍व में ये 11.6 प्रतिशत है और भारत में 5.9 प्रतिशत है। करीब दो मिलियन लोग पूरे विश्‍व में हर साल इस भयानक कैंसर से मौत का शिकार हो जाते हैं। पूरे विश्‍व में पुरूषों में 14.4 प्रतिशत और महिलाओं में 8.4 प्रतिशत है। भारत में पुरूषों में8.5 प्रतिशत और महिलाओं में 3.3 प्रतिशत है।
 
 

वहीं, प्रख्‍यात सर्जन एवं सवेरा कैसर और मल्‍टीस्‍पेशियालिटी हॉस्‍पीटल के डायरेक्‍टर डॉ. वी पी सिंह ने बताया कि आमलोगों में इसकी जानकारी का बहुत अभाव है। इतना ही नहीं मेडिकल फर्टनिटी में भी इस बीमारी के बारे में बहुत कम जानकारी है। भारत में मौजूदा लंग कैंसर के हालत के बारे में डॉ डी बेहेरा और डॉ अमनजीत बाल ने मॉलीकुलर टेस्टिंग शोध के बारे में बताया । इसके अलावा इस कांफ्रेंस में सेल ले लेकर जिन, मॉलीकलर स्‍टडी, टारगेटेड थेरेपी, कीमो थेरेपी, सर्जरी रेडियो थेरेपी की विभिन्‍न तकनीकों पर प्रजेंटेशन दिया गया और वर्कशॉप भी आयोजित किया गया। इस आयोजन में करीब 300 डेलीगेट देश के हर कोने से शामिल हो रहे हैं। कांफ्रेंस में बिहार के तमाम जानीमानी हस्तियों ने भाग लिया।
 
 

मंच का संचालन डॉ रवि कीर्ति ने किया। डा संजीव कुमार, डॉ वीणा सिंह और डॉ रीचा सिंह ने इस दौरान अपनी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई। इस दौरान भारत के अन्‍य जगहों जैसे कोलकाता से डॉ जी एस भट्टाचार्य, चंडीगढ़ से अमनजीत बाल, डॉ नवनीत सिंह, दिल्‍ली से डॉ उलास बत्रा, मुंबई से डॉ संजय शर्मा,, डॉ जेपी अग्रवाल, डॉ कुमार प्रभास, इंदौर से डॉ एस एस नैयार डॉ राकेश कपूर, डॉ प्रभात मलिक, डॉ सूर्यकांत आदि लोगों ने अपना वक्‍तव्‍य दिया। वक्‍ताओं ने तंबाकू, रेडियो थेरेपी, वायु प्रदूषण, पैसिव स्‍मोकिंग पर जानकारी दायक वयाख्‍यान दिया। डॉ रीचा सिंह ने बताया कि एक महीने से ज्‍यादा खांसी, आवाज में बदलाव, सीने में भारीपन, खाना निगलने में परेशानी को नजरअंदाज करना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS