ब्रेकिंग न्यूज़
आईएसआईएस के इशारे पर सात महीनों से कश्‍मीर में आतंकी हमले करा रहा था 'दाऊद'मुशर्रफ ने एपीएमएल प्रमुख पद से दिया इस्तीफासामने आई युवकों को गले लगकर ईद की बधाई देने वाली युवती, बोली-'पब्लिसिटी के लिए नहीं किया'यूपी में महागठबंधन पर फंसा पेंच, कांग्रेस ने सभी 80 लोकसभा सीटों पर लड‍़ने को कसी कमरपाकिस्तान से आए 90 हिंदुओं को मिली भारतीय नागरिकता, बताई आपबीतीगुजरात में नौवीं कक्षा के छात्र का शव बाथरूम से बरामद, जांच में जुटी पुलिसतेंडुलकर ने कहा, वनडे में दो गेंदों का उपयोग नाकामी को न्योता देना जैसाकांग्रेस ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव का फूंका बिगुल, गठित की स्क्रीनिंग कमेटी
झारखंड
शिविर के माध्यम से हो रहा युवाओं का शारीरिक व मानसिक विकास
By Deshwani | Publish Date: 8/6/2017 10:55:59 AM
शिविर के माध्यम से हो रहा युवाओं का शारीरिक व मानसिक विकास

पाकुड़, (हि.स.)। पाकुड़ के नवपदस्थापित पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र प्रसाद वर्णवाल ने जिले के युवाओं को चुस्त-तंदुरुस्त और प्रशिक्षित करने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए पहले चरण में जिले के लिट्टीपाड़ा, अमड़ापाड़ा और पाकुड़िया प्रखंड का चयन किया गया है। इसमें से लिट्टीपाड़ा और अमड़ापाड़ा प्रखंड नक्सल प्रभावित है। 
इस संबंध में जानकारी देते हुए एसपी ने बताया कि एक सप्ताह के भीतर जिले के उक्त तीनों प्रखंडों में प्रशिक्षण शिविर की शुरुआत की जाएगी। यह शिविर प्रतिदिन चलेगा। शिविर में युवाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रशिक्षित करने के साथ-साथ उनका कौशल विकास किया जाएगा, ताकि आने वाले दिनों में पुलिस की बहाली में इन युवाओं को आसानी से नौकरी मिल सके। उन्होंने बताया कि जिले में कहीं निजी सुरक्षाकर्मी की बहाली होगी तो उसमें भी यहां के युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। यह शिविर जिले के सभी प्रखंडों में चलाया जाएगा। पहले भी यह प्रयोग सफल रहा है। उन्होंने बताया कि जामताड़ा में उन्होंने यह प्रयोग किया गया। यह प्रयोग पूरी तरह से सफल रहा। जिसका लाभ यह हुआ कि शिविर में प्रशिक्षित करीब सौ लोगों की पहाड़िया बटालियन में नियुक्ति हुई। एसपी ने बताया कि उनका लक्ष्य जिले से दस हजार प्रशिक्षित युवा तैयार करना है। इन प्रशिक्षित युवाओं को उनके गांव में स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षित करने का दायित्व दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि युवा प्रशिक्षित होंगे तभी इस क्षेत्र से पिछड़ेपन का कलंक मिट सकेगा।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS