ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
नेपाल
नेपाल में भारतीय दूतावास ऑफिस के बाहर धमाका, कोई हताहत नहीं
By Deshwani | Publish Date: 17/4/2018 12:36:04 PM
नेपाल में भारतीय दूतावास ऑफिस के बाहर धमाका, कोई हताहत नहीं

काठमांडो। नेपाल में स्थित भारतीय दूतावास के सामने कल रात बम धमाका हुआ। धमाके से किसी की जान तो नहीं गई लेकिन दूतावास की दीवार को नुकसान पहुंचा है। नेपाल पुलिस ने कहा कि अभी तक इस हमले की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास ने अभी तक इस विस्फोट पर कोई टिप्पणी नहीं की है। संदेह है कि नेत्रा विक्रम चंद की अगुवाई वाला नक्सलियों का एक छोटा समूह इस विस्फोट के लिए जिम्मेदार हो सकता है क्योंकि वह पहले कई बार भारत-विरोधी टिप्पणियां कर चुका है। मोरांग के पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार बीसी ने कहा कि विस्फोट जिस भारतीय कार्यालय के पास हुआ है, उसे नेपाल सरकार की अनुमति के बिना संचालित किया जा रहा है।

 

कुमार ने कहा कि पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। हालांकि नेपाल इस कार्यालय को खाली कराने के लिए कई बार कह चुका है। वर्ष 2008 में कोसी नदी में आई बाढ़ के दौरान नेपाल सरकार ने भारत से आग्रह किया था कि जब तक उसके राजमार्गों की मरम्मत नहीं हो जाती तब तक भारत परिवहन के लिए अपनी जमीन उपलब्ध कराए।

 

अब दूतावास के हुए धमाके के बाद सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि यह एक अस्थाई कार्यालय है जिसे नेपाल और उत्तरी बिहार में बाढ़ के दौरान स्थापित किया गया था और तभी से वहां काम जारी है। धमाके के समय कार्यालय में किसी के नहीं होने की वजह से कोई नुकसान नहीं हुआ।

 

 

 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS