ब्रेकिंग न्यूज़
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में देश के दूसरे सबसे बड़े कैंसर हॉस्पिटल का किया लोकार्पणलालू प्रसाद से मिले बेटी हेमा और दामाद, विशेष अनुमति पर हुई मुलाकातजातिवादी और सांप्रदायिक सोच की वजह से देश में बढ़ रही विकृतियां: मायावतीनम आंखों से हजारों लोगों ने शहीद मेजर ढौंडियाल को दी विदाई, गंगा तट पर हुआ अंतिम संस्कारकरिश्मा कपूर शुरू करेंगी अपनी नई पारी, ऐसा होगा उनका रोल20 सितंबर को 'झुंड' में नजर आएंगे अमिताभ, टक्कर लेने को तैयार नहीं कोईआईपीएल-2019 के 12वें एडिशन के शुरुआती 2 सप्ताह का शेड्यूल जारी, चेन्नै और आरसीबी में होगा पहला मैचपटना हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, पूर्व मुख्यमंत्रियों को अब नहीं मिलेगा सरकारी आवास
नेपाल
नेपाल में वामपंथी सरकार बनना तय
By Deshwani | Publish Date: 12/12/2017 7:45:23 PM
नेपाल में वामपंथी सरकार बनना तय

काठमांडू, (हि.स.)। नेपाल में वामपंथी गठबंध की सरकार बनना लगभग तय हो गया है। इस गठबंधन को भले ही दो तिहाई बहुमत नहीं मिले, लेकिन स्पष्ट बहुमत जरूर मिल जाएगी।

275 सीटों वाली प्रतिनिधि सभा में 165 सीटें प्रत्यक्ष चुनाव (फर्स्ट पास्ट दि पोस्ट) के ज़रिये तथा 110 सीटें समानुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली से तय होनी हैं। 165 सीटों के लिए हुए प्रत्यक्ष चुनाव में नेकपा (यूएमएल) और नेकपा (माओवाद सेंटर) को अब तक 114 सीटें हासिल हो चुकी हैं। इनमें यूएमएल को 76 और माओवादियों को 38 सीटें मिली हैं। और 7-8 सीटों पर उनकी बढ़त जारी है।

विदित हो कि दोनों वाम दलों ने क्रमश: 103 और 60 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। देश की सबसे पुरानी और भारत समर्थक समझी जाने वाली नेपाली कांग्रेस के सबसे ज़्यादा 153 उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन उसे महज़ 21 सीटों पर ही कामयाबी मिली है। इसके अलावा मधेशी पाटियों को 21 और छह सीटें निर्दलीय समेत अन्य दलों को मिली हैं।

नेपाली कांग्रेस की इतनी बुरी हालत पहले कभी नहीं हुई थी। राजतंत्र और हिन्दू राष्ट्र समर्थक पार्टियों को जनता ने पूरी तरह नकार दिया है। राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी को केवल एक सीट मिली है, जबकि हिन्दू राष्ट्र और राजतंत्र के प्रबल समर्थक कमल थापा चुनाव हार गए हैं।

अब इन पार्टियों को समानुपातिक प्रतिनिधित्व के खाते से ही कुछ मिलने की उम्मीद है। देश के कुल सात प्रदेशों के चुनाव नतीजे भी कमोबेश ऐसे ही हैं। केवल 2 नंबर के प्रदेश में वामपंथियों की स्थिति कमज़ोर है, जबकि शेष छह प्रदेश में भी वामपंथियों की ही सरकार बनेगी।
साल 2008 जब से नेपाल में गणतंत्र की स्थापना हुई, अब तक किसी सरकार ने अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया। अब नेपाल में राजनीतिक स्थिरता का दौर शुरू हो सकेगा।

नेपाल में वामपंथियों की ये जीत ऐसे समय हुई है जब भारत सहित दुनिया के विभिन्न देशों में दक्षिणपंथी ताकतें सत्ता पर काबिज होती जा रही हैं। भारत में भी आज वही लोग सत्ता में हैं जो नेपाल को फिर से हिन्दू राष्ट्र बनाने का सपना संजोये हुए हैं।

 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS