ब्रेकिंग न्यूज़
शेयर बाजार: बैंक, आईटी कंपनियों के बल पर सेंसेक्स में 490 अंक का उछालउत्तर कोरियाई शासक किम व्लदिमीर पुतिन का समर्थन हासिल करने के लिए पहुंचे रूसकांग्रेस ने बिहार के लिए 55 साल के राज में क्या किया: अमित शाहसीजेआई पर आरोप लगाने वाली महिला की धोखाधड़ी मामले में जमानत रद्द करने पर 23 मई को सुनवाई‘दीदी’ सिलवाती हैं कुर्ते, शेख हसीना भेजती हैं मिठाइयां: प्रधानमंत्री मोदीकेजरीवाल, सिसोदिया और योगेंद्र के खिलाफ जारी गैर जमानती वारंट पर लगी रोकरोड शो से गदगद हुए प्रधानमंत्री मोदी, लोहरदगा की रैली में बोले- ये लहर नहीं ललकार हैरोहित शेखर की हत्या के आरोप में पत्नी अपूर्वा गिरफ्तार, गुनाह कबूला
नेपाल
नेपाल में वामपंथी गठबंधन सत्तासीन होने की राह पर, नेकां पिछड़ी
By Deshwani | Publish Date: 11/12/2017 4:22:01 PM
नेपाल में वामपंथी गठबंधन सत्तासीन होने की राह पर, नेकां पिछड़ी

काठमांडू, (हि.स.)। नेपाल में संसदीय और प्रांतीय परिषदों के चुनावों के काफी परिणाम आ गए हैं। अब तक मिले नतीजों से करीब-करीब साफ हो गया है कि यहां वामपंथी गठबंधन सरकार बनाने के जादुई आंकड़ा के नजदीक पहुंच गया है।

 

चुनाव आयोग की ओर से 146 संसदीय सीटों के जारी परिणामों में सीपीएन-यूएमएल को 74 सीटों पर जीत मिली है, जबकि इसके गठबंधन सहयोगी सीपीएन माओवादी-सेंटर को 31 सीटें मिली हैं। इस चुनाव में नेपाली कांग्रेस (नेकां) की कमर टूट गई है। उसे अभी तक सिर्फ 19 सीटें ही मिली हैं। इनके अलावा एफएसएफ को 11 और आरजेपी को 8 सीटों पर सफलता मिली है। पांच सीटें अन्य दलों को भी मिली हैं जिनमें निर्दलीय भी शामिल हैं।

 

275 सदस्यीय संसद में वामपंथी गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिलने की संभावना के मद्देनजर के.पी. शर्मा ओली को प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा के उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जा रहा है। ओली ने झापा-5 क्षेत्र से रिकार्ड जीत जीत हासिल की है। उन्होंने नेपाली कांग्रेस के उम्मीदवार खगेंद्र अधिकारी को 28 हजार से अधिक मतों के अंतर से हराया है।

 

नेपाल में पूर्व माओवादी विद्रोहियों और उदारवादी कम्युनिस्टों के इस गठबंधन को संसदीय चुनाव में अब तक 105 सीटों पर जीत मिली है, जिससे देश में राजनीतिक स्थिरता आने की उम्मीद जगी है। पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के नेतृत्व वाली सीपीएन-यूएमएल और पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड के नेतृत्व वाली सीपीएन-माओवादी ने प्रांतीय और संसदीय चुनावों के लिए गठबंधन किया था।

 

नेपाल में संसदीय और प्रांतीय विधानसभाओं के चुनाव के लिए दो चरणों में 26 नवंबर और सात दिसंबर को मतदान हुए थे। पहले चरण में 32 जिलों में चुनाव हुए थे, जिसमें से ज्यादातर पवर्तयीय इलाके शामिल थे। पहले चरण में 65 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. दूसरे चरण में 67 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS