ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
नेपाल
नेपाल में भारी बारिश और भूस्खलन से 41 लोगों की मौत
By Deshwani | Publish Date: 13/8/2017 3:02:41 PM
नेपाल में भारी बारिश और भूस्खलन से 41 लोगों की मौत

 काठमांडू, (हि.स.)। नेपाल में लगातार दो दिनो से हो रही मूसलाधार बारिश से आई बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 41 लोगों की मौत हो गई है और सौ से अधिक लोग विस्थापित हो गए हैं। यह जानकारी रविवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

समाचार पत्र हिमालयन टाइम्स के अनुसार, नेपाल गृह मंत्रालय ने कहा है कि दक्षिणी नेपाल के सुन्सारी जिले में 7 लोग मारे गए हैं। इसके अलावा सिंधुली जिले में 4, झापा में 4, बांके, मोरांग एवं पंच्छतर जिलों में 3-3 लोगों की मौत हो गई है। मकावनपुर जिले बकइया नगरपालिका क्षेत्र में रविवार को हुए भूस्खलन में एक ही परिवार के छह लोगों की मौत हो गई हो गई है, जबकि सुरखेट जिले में एक ही परिवार के तीन लोग काल के गाल में समा गए हैं। उधर चितवन जिले में बाढ़ के पानी के तेज बहाव में दो लोग बह गए हैं।
 
मंत्रालय के प्रवक्ता संयुक्त सचिव दीपक काफ्ले ने बताया कि मोरांग जिले के सुंदर हरैंचा में बाढ़ से कम से कम तीन बुजुर्ग लापता हो गए हैं। सुन्सारी में उफनती धाराओं से 6 शव बाहर निकाले गए, जबकि सैकड़ों परिवार विस्थापित हो गए। झापा, मोरांग सुन्सारी, सप्तारी, सिराहा, सरलाही, रौताहत, बांके, बरदिया और डांग बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।
 
बिराटनगर हवाई-अड्डे में बाढ़ का पानी घुसने के फिलहाल उसे बंद कर दिया गया है। मंत्रालय के अनुसार सरकार ने नेपाल पुलिस, नेपाली सेना और सशस्त्र पुलिस बल (एपीएफ) को बचाव और राहत कार्य में लगाया दिया है। फिर भी कुछ जगहों पर अभी बचाव दल के पहुंचने की प्रतीक्षा की जा रही है। लगातार मूसलाधार वर्ष के कारण बचाव कार्य में तेजी नहीं आ पा रही है। इस बीच बाढ़ और भूस्खलन से हुई क्षति के आकलन के लिए सत्ताधारी नेपाली कांग्रेस ने आज (रविवार को) बैठक बुलाई है। 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS