ब्रेकिंग न्यूज़
रक्सौल के मुकेश कुमार को मिला ग्लोबल पीस अवार्डडीएफओ प्रभाकर झा ने भारत- नेपाल सीमा पर बने जांच चौकी का किया निरीक्षण, पेड़ों को लेकर दिए निर्देशहिन्दू जागरण मंच बेतिया ने वीर गौरव बब्लू बारी को दी श्रद्धाजंलि, उनके विस्मरणीय योगदानों को किया यादट्रैक्टर में बैठकर नगर विकास मंत्री के घर कूड़ा फेंकने जा रहे थे पप्पू यादव, पुलिस ने काटा चालानभारत-बांग्लादेश मैच में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और हसीना को दिया गया न्योताकश्मीर देश का आंतरिक मुद्दा, इसे अंतरराष्ट्रीय क्यों बना रही है कांग्रेस: राजनाथ सिंहनिवेश के लिए भारत से अच्छी कोई जगह नहीं, सरकार सुधार लाने के लिए उठा रही कदम: वित्‍त मंत्री सीतारमणजन्मदिन: बेमिसाल अदाकारा और बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी स्मिता पाटिल
नेपाल
नेपाल में भारी बारिश और भूस्खलन से 41 लोगों की मौत
By Deshwani | Publish Date: 13/8/2017 3:02:41 PM
नेपाल में भारी बारिश और भूस्खलन से 41 लोगों की मौत

 काठमांडू, (हि.स.)। नेपाल में लगातार दो दिनो से हो रही मूसलाधार बारिश से आई बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 41 लोगों की मौत हो गई है और सौ से अधिक लोग विस्थापित हो गए हैं। यह जानकारी रविवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।

समाचार पत्र हिमालयन टाइम्स के अनुसार, नेपाल गृह मंत्रालय ने कहा है कि दक्षिणी नेपाल के सुन्सारी जिले में 7 लोग मारे गए हैं। इसके अलावा सिंधुली जिले में 4, झापा में 4, बांके, मोरांग एवं पंच्छतर जिलों में 3-3 लोगों की मौत हो गई है। मकावनपुर जिले बकइया नगरपालिका क्षेत्र में रविवार को हुए भूस्खलन में एक ही परिवार के छह लोगों की मौत हो गई हो गई है, जबकि सुरखेट जिले में एक ही परिवार के तीन लोग काल के गाल में समा गए हैं। उधर चितवन जिले में बाढ़ के पानी के तेज बहाव में दो लोग बह गए हैं।
 
मंत्रालय के प्रवक्ता संयुक्त सचिव दीपक काफ्ले ने बताया कि मोरांग जिले के सुंदर हरैंचा में बाढ़ से कम से कम तीन बुजुर्ग लापता हो गए हैं। सुन्सारी में उफनती धाराओं से 6 शव बाहर निकाले गए, जबकि सैकड़ों परिवार विस्थापित हो गए। झापा, मोरांग सुन्सारी, सप्तारी, सिराहा, सरलाही, रौताहत, बांके, बरदिया और डांग बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।
 
बिराटनगर हवाई-अड्डे में बाढ़ का पानी घुसने के फिलहाल उसे बंद कर दिया गया है। मंत्रालय के अनुसार सरकार ने नेपाल पुलिस, नेपाली सेना और सशस्त्र पुलिस बल (एपीएफ) को बचाव और राहत कार्य में लगाया दिया है। फिर भी कुछ जगहों पर अभी बचाव दल के पहुंचने की प्रतीक्षा की जा रही है। लगातार मूसलाधार वर्ष के कारण बचाव कार्य में तेजी नहीं आ पा रही है। इस बीच बाढ़ और भूस्खलन से हुई क्षति के आकलन के लिए सत्ताधारी नेपाली कांग्रेस ने आज (रविवार को) बैठक बुलाई है। 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS