ब्रेकिंग न्यूज़
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में देश के दूसरे सबसे बड़े कैंसर हॉस्पिटल का किया लोकार्पणलालू प्रसाद से मिले बेटी हेमा और दामाद, विशेष अनुमति पर हुई मुलाकातजातिवादी और सांप्रदायिक सोच की वजह से देश में बढ़ रही विकृतियां: मायावतीनम आंखों से हजारों लोगों ने शहीद मेजर ढौंडियाल को दी विदाई, गंगा तट पर हुआ अंतिम संस्कारकरिश्मा कपूर शुरू करेंगी अपनी नई पारी, ऐसा होगा उनका रोल20 सितंबर को 'झुंड' में नजर आएंगे अमिताभ, टक्कर लेने को तैयार नहीं कोईआईपीएल-2019 के 12वें एडिशन के शुरुआती 2 सप्ताह का शेड्यूल जारी, चेन्नै और आरसीबी में होगा पहला मैचपटना हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, पूर्व मुख्यमंत्रियों को अब नहीं मिलेगा सरकारी आवास
नेपाल
संविधान संशोधन पर अड़े मधेशी
By Deshwani | Publish Date: 11/6/2017 2:46:11 PM
संविधान संशोधन पर अड़े मधेशी

 काठमांडू, (हि.स.)। राष्ट्रीय जनता पार्टी-नेपाल (राजपा-एन) ने प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा और सत्ताधारी दलों के अन्य नेताओं से स्पष्ट कर दिया है कि जब तक उनकी प्रमुख मांगें नहीं मानी जाएंगी तब तक वह दूसरे चरण के निकाय चुनाव में भाग नहीं लेंगे। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से मिली।

समाचार पत्र हिमालयन टाइम्स के अनुसार, राजपा-एन ने मांग की है कि संविधान संशोधन विधेयक पारित होना चाहिए और मधेशी इलाकों में जनसंख्या के अनुपात में स्थानीय निकायों की सीटों की संख्या में वृद्धि की जानी चाहिए।
सत्ताधारी दलों के नेताओं ने राजपा-एन से कहा कि उनकी मांगों पर ध्यान देना अभी संभव नहीं है, क्योंकि दूसरे चरण के निकाय चुनावों के होने में बहुत कम समय बचे हैं। इस पर राजपा-एन ने निकाय चुनाव टालने की मांग की। राजपा-एन के नेताओं ने चुनाव चिन्ह का भी मसला उठाया, लेकिन प्रधानमंत्री ने कहा कि पार्टी के लिए चुनाव चिन्ह का आवंटन अभी मुश्किल है। उन्होंने एकीकृत पार्टी में शामिल किसी एक पार्टी के चुनाव चिन्ह के इस्तेमाल की सलाह दी।
इस तरह राजपा-एन और सत्ताधारी पार्टियों के बीच कोई सहमति नहीं बन पाई। दोनों पक्ष रविवार को पुन: इन मुद्दों पर चर्चा करेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS