ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
नेपाल
संविधान संशोधन पर अड़े मधेशी
By Deshwani | Publish Date: 11/6/2017 2:46:11 PM
संविधान संशोधन पर अड़े मधेशी

 काठमांडू, (हि.स.)। राष्ट्रीय जनता पार्टी-नेपाल (राजपा-एन) ने प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा और सत्ताधारी दलों के अन्य नेताओं से स्पष्ट कर दिया है कि जब तक उनकी प्रमुख मांगें नहीं मानी जाएंगी तब तक वह दूसरे चरण के निकाय चुनाव में भाग नहीं लेंगे। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से मिली।

समाचार पत्र हिमालयन टाइम्स के अनुसार, राजपा-एन ने मांग की है कि संविधान संशोधन विधेयक पारित होना चाहिए और मधेशी इलाकों में जनसंख्या के अनुपात में स्थानीय निकायों की सीटों की संख्या में वृद्धि की जानी चाहिए।
सत्ताधारी दलों के नेताओं ने राजपा-एन से कहा कि उनकी मांगों पर ध्यान देना अभी संभव नहीं है, क्योंकि दूसरे चरण के निकाय चुनावों के होने में बहुत कम समय बचे हैं। इस पर राजपा-एन ने निकाय चुनाव टालने की मांग की। राजपा-एन के नेताओं ने चुनाव चिन्ह का भी मसला उठाया, लेकिन प्रधानमंत्री ने कहा कि पार्टी के लिए चुनाव चिन्ह का आवंटन अभी मुश्किल है। उन्होंने एकीकृत पार्टी में शामिल किसी एक पार्टी के चुनाव चिन्ह के इस्तेमाल की सलाह दी।
इस तरह राजपा-एन और सत्ताधारी पार्टियों के बीच कोई सहमति नहीं बन पाई। दोनों पक्ष रविवार को पुन: इन मुद्दों पर चर्चा करेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS