ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार
24 घंटे के भीतर 15 उड़ाने, 3 हजार से अधिक भातीय वापस आए, बिहार के मुख्यमंत्री ने देश में मेडिकल कॉलेजों के सुधार पर जोर दिया
By Deshwani | Publish Date: 3/3/2022 11:00:00 PM
24 घंटे के भीतर 15 उड़ाने, 3 हजार से अधिक भातीय वापस आए, बिहार के मुख्यमंत्री ने देश में मेडिकल कॉलेजों के सुधार पर जोर दिया

नई दिल्ली। देश मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी के बाद से करीब 18 हजार भारतीय यूक्रेन छोड़ चुके हैं। 24 घंटों के दौरान, 15 उड़ानें 3000 से अधिक भारतीयों को यूक्रेन से वापस लेकर आ चुकी हैं। गुरुवार को नई दिल्ली में मीडिया को जानकारी देते हुए मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि ऑपरेशन गंगा के तहत पिछले 24 घंटों के दौरान, 15 उड़ानें 3000 से अधिक भारतीयों को यूक्रेन से वापस लेकर आ चुकी हैं।

 

दूसरी तरफ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने देश में ही मेडिकल कॉलेजों की अच्छी व्यवस्था करने पर जोर दिया है। ताकि किसी भी छात्र को पढ़ने के लिए बाहर नहीं जाना पड़े। यूक्रेन में संकट में फंसे मेडिकल छात्रों के मुद्दे पर हस्तक्षेप करते हुए मुख्यमंत्री ने विधान सभा में यह बात कही। श्री कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर इस पर गंभीरता से विचार करने का समय आ गया है।


देश मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी के बाद से करीब 18 हजार भारतीय यूक्रेन छोड़ चुके हैं। गुरुवार को नई दिल्ली में मीडिया को जानकारी देते हुए मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि ऑपरेशन गंगा के तहत पिछले 24 घंटों के दौरान, 15 उड़ानें 3000 से अधिक भारतीयों को यूक्रेन से वापस लेकर आ चुकी हैं। उन्होंने कहा कि अब तक करीब 6 हजार 400 भारतीय नागरिकों को वापस लाया जा चुका है। अगले 24 घंटों के दौरान 18 और उड़ानें संचालित होंगी। इनमें से वायुसेना के 3 आईएएस सी-17 विमान होंगे। इसके अलावा एयर इंडिया, इंडिगो और स्पाइस जेट की वाणिज्यिक उड़ाने भी होंगी।




उन्होंने बताया कि भारतीयों को लाने के लिए यूरोप के बुखारेस्ट से 7 उड़ानें, बुडापेस्ट से 5, रेज़ज़ो से 3 और कोसिसे से एक उड़ान संचालित होंगी। इसके अलावा रोमानिया की सीमा के पास नए स्थान की पहचान की गई है जहां से अगले 24 घंटों के दौरान 2 उड़ानें संचालित की जाएंगी। 



श्री बागची ने कहा कि बड़ी संख्या में उड़ानों का संचालन इस बात का सबूत है कि काफी भारतीय यूक्रेन की सीमा पार कर पड़ोसी देशों में पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी भारतीयों को जल्द से जल्द वापस लाने के प्रयास और तेज किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि मेजबान देशों की सरकारों और स्थानीय लोगों के सहयोग से भारतीय दूतावास उन्हें भोजन और आश्रय उपलब्ध करा रहा हैं। उन्होंने भारी चुनौतियों के बावजूद भारतीय नागरिकों को निकालने में मदद करने के लिए यूक्रेन सरकार की सराहना की।


यूक्रेन के ताज़ा घटनाक्रम पर श्री बागची ने कहा कि भारत खार्किव, सूमी और पूर्वी यूक्रेन के अन्य शहरों की स्थिति पर करीबी नज़र रखे हुए है। उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय द्वारा कल जारी एक एडवाइजरी के बाद से बड़ी संख्या में भारतीय छात्रों ने खार्किव छोड़ दिया है। यूक्रेन की पश्चिमी सीमाओं को पार करने की प्रतीक्षा कर रहे भारतीयों की संख्या में भी कमी आई है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकालने के लिए रूसी और यूक्रेन के अधिकारियों से लगातार संपर्क में है।



भारत ने यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए 'ऑपरेशन गंगा' नाम से एक बड़ा बचाव अभियान चलाया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सहयोग से विदेश मंत्रालय भारतीय छात्रों को तेज गति से भारत वापस लाने के लिए सभी प्रयास कर रहा है। इंडियन एयरलाइंस इस निकासी प्रक्रिया मेंअपने संसाधनों को तेजी से लगा रही है। चार केंद्रीय मंत्री- श्री हरदीप सिंह पुरी, श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया, श्री किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वी. के. सिंह इन अभियानों में मदद करने और इसका पर्यवेक्षण करने के लिए यूक्रेन से सटे देशों में गए हैं। भारतीय नागरिक विमानों के साथ-साथ भारतीय वायु सेना के विमान नियमित रूप से यूक्रेन में फंसे हुए भारतीय छात्रों को वापस ला रहे हैं।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS