ब्रेकिंग न्यूज़
भारत सरकार की ओर से हर घर तिरंगा कार्यक्रम का आयोजनप्रधानमंत्री ने पारसी नव वर्ष पर लोगों को बधाई दीडाकघरों के माध्यम से दस दिन की अवधि में एक करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज खरीदे गयेमोतिहारी कस्टम के दो हवलदारों को केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने पकड़ा, 20 हजार रुपये घूस लेने का आरोपप्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 के भारतीय दल का अभिवादन कियाएनएमडीसी और फिक्की भारतीय खनिज एवं धातु उद्योग पर सम्मेलन का आयोजन करेंगेबिहार: आज बादल गरजने के साथ ठनका गिरने की आशंका, तीन जिलों में भारी बारिश का अलर्टमोतिहारी, हरसिद्धि के जागापाकड़ में महावीरी झंडा के दौरान आर्केस्ट्रा में फायरिंग, दो घायल, प्राथमिकी दर्ज
राष्ट्रीय
प्रधानमंत्री से मध्य एशियाई देशों के विदेश मंत्रियों ने मुलाकात की
By Deshwani | Publish Date: 20/12/2021 8:34:53 PM
प्रधानमंत्री से मध्य एशियाई देशों के विदेश मंत्रियों ने मुलाकात की

दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से कजाकिस्तान, किर्गिज गणराज्य, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उज्बेकिस्तान के विदेश मंत्रियों ने 20 दिसंबर, 2021 को मुलाकात की। मध्य एशियाई देशों के विदेश मंत्री भारत-मध्य एशिया संवाद की तीसरी बैठक में भाग लेने के लिए नई दिल्ली की यात्रा पर हैं।               





मध्य एशियाई देशों के विदेश मंत्रियों ने प्रधानमंत्री मोदी को अपने-अपने राष्ट्रपति के अभिवादन से अवगत कराया तथा भारत के साथ संबंधों को और मजबूत करने के लिए उनके नेतृत्व के उत्साह को रेखांकित किया। विदेश मंत्रियों ने 18-19 दिसंबर 2021 को भारतीय विदेश मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित भारत-मध्य एशिया संवाद में हुए विचार-विमर्श के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी, जिसमें अफगानिस्तान की स्थिति समेत व्यापार और कनेक्टिविटी, विकास साझेदारी तथा क्षेत्रीय विकास पर ध्यान केंद्रित किया गया था।




प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि भारत मध्य एशियाई देशों के साथ अपने दीर्घकालिक संबंधों को बहुत महत्व देता है और इन देशों को अपने 'विस्तारित पड़ोस' का हिस्सा मानता है। उन्होंने मंत्रियों को इस वर्ष स्वतंत्रता की 30वीं वर्षगांठ पर बधाई दी। उन्होंने 2015 में सभी मध्य एशियाई देशों और बाद में कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और किर्गिज गणराज्य की अपनी यादगार यात्राओं को स्मरण किया। प्रधानमंत्री ने इस क्षेत्र में भारतीय फिल्मों, संगीत, योग आदि की लोकप्रियता को देखते हुए भारत और मध्य एशिया के बीच सांस्कृतिक और लोगों के बीच आपसी संपर्क बनाए रखने के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने भारत और मध्य एशिया के बीच बढ़े हुए आर्थिक सहयोग की संभावना और इस संबंध में कनेक्टिविटी की भूमिका को भी रेखांकित किया।




भारत-मध्य एशिया संवाद ने भारत और मध्य एशियाई देशों के बीच उत्कृष्ट द्विपक्षीय संबंधों को प्रोत्साहन दिया है। भारत और मध्य एशियाई देश अगले वर्ष अपने राजनयिक संबंधों की स्थापना की 30वीं वर्षगांठ मनाएंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS