ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय
स्वदेश में निर्मित परमाणु क्षमता वाली पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण, सेना की बढ़ेगी ताकत
By Deshwani | Publish Date: 24/9/2020 11:30:10 AM
स्वदेश में निर्मित परमाणु क्षमता वाली पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण, सेना की बढ़ेगी ताकत

बालासोर। चीन और पाकिस्तान के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत लगातार अपनी सैन्य क्षमता को मजबूत कर रहा है। भारत ने स्वदेश में निर्मित परमाणु क्षमता वाली पृथ्वी-2 मिसाइल का भी सफल परीक्षण किया। ओडिशा के चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र से इस अत्याधुनिक मिसाइल बुधवार को छोड़ा गया था, जो सभी मानकों पर खरा उतरी। सतह से सतह पर 350 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली पृथ्वी-2 मिसाइल अपने साथ 500 से 1000 किलोग्राम तक के आयुध ले जाने में सक्षम है। 
 
बता दें कि पृथ्वी-2 मिसाइल को सेना में 2003 में शामिल किया गया था। नौ मीटर लंबी इस मिसाइल को डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन) ने विकसित किया है। इसी कड़ी में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने मंगलवार को स्वदेशी लेजर गाइडेड एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एटीजीएम) का सफल परीक्षण किया था। बताया जाता है कि परीक्षण के दौरान एटीजीएम ने तीन किलोमीटर दूर लक्ष्य को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया। पिछली बार 20 नवंबर 2019 को चांदीपुर से ही पृथ्वी-2 का सफल परीक्षण किया गया था।
 
महाराष्ट्र के अहमदनगर में आर्मर्ड कोर सेंटर एंड स्कूल के केके रेंज से एमबीटी अर्जुन टैंक से मिसाइल दागी गई और इसने तीन किलोमीटर दूर लक्ष्य को पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर दिया। वैसे इस मिसाइल से चार किलोमीटर दूर तक दुश्मन के टैंक को नष्ट किया जा सकता है। एटीजीएम के आने से भारतीय सेना की मारक क्षमता बहुत अधिक बढ़ जाएगी। खासकर पाकिस्तान और चीन से लगती सीमा पर उसे बढ़त मिलेगी। एटीजीएम में हीट (हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट) वारहेड लगा है, जिसके जरिए एक्सप्लोसिव रिऐक्टिव आर्मर (ईआरए) संरक्षित टैंक को उड़ाया जा सकता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS