ब्रेकिंग न्यूज़
प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना को नवंबर तक बढाने की मंत्रिमंडल ने दी मंजूरीराज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगेसमस्तीपुर डीएम ने कहा- जो भी दुकान व मॉल में संचालक व कर्मी बिना मास्क के पाए गए तो उस दुकान व मॉल को सील कर दिया जायेगावीरगंज पुलिस ने भारी मात्रा में नशीली दवा के साथ दो भारतीय व एक नेपाली नागरिक को किया गिरफ्तारमोतिहारी के बंजरिया में पुलिस द्वारा सील मकान से ट्रक पर लादे जा रहे बिजली विभाग से चोरी के तार के साथ वाहन मालिक सहित 7 गिरफ्ताररामगढ़वा मे 13 वर्षीय नाबालिग से घर बुला कर जबरन किया दुष्कर्म, चार नामजदसमस्तीपुर : लद्दाख में शहीद अमन की विधवा को मिली नौकरी, डीएम ने दिया नियुक्ति पत्रसमस्तीपुर : समस्तीपुर में कोरोना से युवा व्यवसायी की मौत, छह लोगों की हो चुकी है अबतक मौत
राष्ट्रीय
हिरासत में मौत मामला: सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट की याचिका किया खारिज
By Deshwani | Publish Date: 12/6/2019 2:29:07 PM
हिरासत में मौत मामला: सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट की याचिका किया खारिज

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट से बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने तीन दशक पहले हिरासत में मौत के एक मामले में आरोपित गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट की कुछ अतिरिक्त गवाहों को बुलाने की याचिका खारिज कर दी है। 

 
संजीव भट्ट ने गुजरात हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। सुनवाई के दौरान गुजरात सरकार ने कहा कि मामले में ट्रायल पूरा हो चुका है और ट्रायल कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। गुजरात सरकार ने कहा कि ट्रायल कोर्ट 20 जून को फैसला सुनाएगा, लिहाजा अब गवाहों को समन करना ठीक नहीं होगा। 
 
कोर्ट ने कहा कि अब इस मामले में दोबारा ट्रायल शुरू नहीं किया जा सकता है। हाईकोर्ट ने संजीव भट्ट की अतिरिक्त गवाहों को बुलाने की मांग को खारिज कर दिया था। 1989 में एक आरोपित की भट्ट की हिरासत में मौत हो गई थी। उस समय संजीव भट्ट गुजरात के जामनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS